रायफल लेकर फरार आरक्षक हुआ बर्खास्त, स्वंय को बाघी घोषित कर सोशल मीडिया पर किया था वीडियो वायरल

गुना । कलेक्ट्रेट गुना के ईव्हीएम कक्ष की सुरक्षा हेतु प्रधान आरक्षक भगवान सिंह, प्रधान आरक्षक सीताराम वर्मा, आरक्षक कैलाश मोगिया एवं आरक्षक नीरज जोशी उर्फ टोनी को लगाया गया था, दिनांक 5 एवं 6 फरवरी 2021 की रात्रि मे उक्त गार्ड को चैक करने पर सभी कर्मचारी अनुपस्थित पाये गये थे । इस ईव्हीएम सुरक्षा ड्यूटी मे तैनात आरक्षक नीरज जोशी द्वारा शासकीय इंसास रायफल से किसी अज्ञात स्थान पर जाकर हवाई फायर किये गये और स्वंय को बाघी घोषित कर तत्संबंधी वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल किया गया था । पुलिस अधीक्षक ने उक्त मामले पर संज्ञान लेते हुये उक्त कर्मचारियों के विरुद्ध विभागीय कार्यवाही प्रचलन मे ली जाकर पुलिस विभाग के राजपत्रित अधिकारी को जांच के निर्देश दिये गये थे । प्रकरण की संपूर्ण जांच मे पाया गया कि प्रधान आरक्षक भगवान सिंह, प्रधान आरक्षक सीताराम वर्मा एवं आरक्षक कैलाश मोगिया बिना कोई सूचना दिये ईव्हीएम सुरक्षा गार्ड ड्यूटी से अनाधिकृत रुप से अनुपस्थित थे एवं नीरज जोशी द्वारा ईव्हीएम सुरक्षा गार्ड ड्यूटी से बिना कोई सूचना दिये अनाधिकृत रुप से अनुपस्थित होकर उसे सुरक्षा हेतु प्रदाय की गई इंसास रायफल से किसी अज्ञात स्थान पर जाकर हवाई फायर करना व स्वंय को बाघी घोषित कर तत्संबंधी वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल किये गये थे । राजपत्रित अधिकारी द्वारा की गई जांच मे आरक्षक पर लगे सभी आरोप सिद्ध पाये गये तथा आरक्षक को अपना पक्ष रखने का अवसर प्रदान किया गया लेकिन आरक्षक अपना पक्ष रखने हेतु उपस्थित नही हुआ । आरक्षक नीरज जोशी का यह कृत्य अत्यंत ही गंभीर प्रकृत्ति का होकर अक्षम्य है और आरक्षक के इस कृत्य से पुलिस विभाग की अनुशासित, निष्ठावान छवि प्रभावित हुई है । आरक्षक द्वारा उसे पुलिस कर्मचारी के रुप मे प्रदत्त शक्तियों का दुरुपयोग किया जाना उसकी पुलिस विभाग के प्रति कर्तव्यनिष्ठा पर प्रश्नचिह्न होकर आरक्षक नीरज जोशी उर्फ टोनी के पुलिस विभाग मे बने रहने योग्य नही होने पर पुलिस अधीक्षक राजीव कुमार मिश्रा द्वारा आज 13 जनवरी 2022 को आरक्षक नीरज जोशी को सेवा से बर्खास्त किया गया है तथा प्रधान आरक्षक भगवान सिंह, प्रधान आरक्षक सीताराम वर्मा एवं आरक्षक कैलाश मोगिया के ईव्हीएम सुरक्षा ड्यूटी से अनाधिकृत रुप से अनुपस्थित पाये जाने पर तीनो की एक वेतन बृद्धि संचयी रुप से रोके जाने के दण्ड से दण्डित किया गया है ।

रेत के अवैध उत्‍खनन एवं परिवहन करने पर कलेक्‍टर ने लगाया 80 लाख रूपये का जुर्माना

गुना । कलेक्‍टर  फ्रेंक नोबल ए. द्वारा शासकीय भूमि से रेत के अवैध उत्‍खनन एवं परिवहन करने के एक प्रकरण में उत्‍खननकर्ता के विरूद्ध 80 लाख रूपये का जुर्माना अधिरोपित किया है। ठेकेदार सत्‍येन्‍द्र सिंह रघुवंशी निवासी कृष्‍णपुरम कालोनी शिवपुरी, जिला शिवपुरी द्वारा लीज के बाहर अवैध तरीके से तहसील कुंभराज के ग्राम भमावद स्थित शासकीय भूमि सर्वे क्रमांक 186/1036 रकबा 5.309 हेक्‍टर पार्वती नदी में से 10 X 04 = वर्ग यानि 20903 वर्गमीटर जिसकी गहराई 1.5 (डेढ मीटर) जिसका क्षेत्रफल 31354.78 घनमीटर रेत का अवैध उत्‍खनन एवं परिवहन किया गया। खनिज अधिकारी द्वारा यह प्रतिवेदित किया गया कि अनुविभागीय अधिकारी चांचौडा द्वारा अपने प्रतिवेदन में बताया कि 10 जनवरी 2017 को पार्वती नदी भमावद घाट पर ग्राम भमावद की भूमि शासकीय सर्वे क्रमांक 186/1036 रकबा 5.309 हेक्‍टर भूमि में ठेकेदार सत्‍येंद्र सिंह रघुवंशी द्वारा रेत का अवैध उत्‍खनन एवं परिवहन किया गया। तत्‍समय खनिज विभाग के खनिज निरीक्षक एवं खनिज सर्वेयर गुना द्वारा मौका स्‍थल का निरीक्षण कर जांच की गयी। ठेकेदार सत्‍येंद्र सिंह रघुवंशी के पास उक्‍त भूमि पर अवैध खत्‍खनन कर परिवहन किये जाने की कोई अनुमति नही थी। रेत का अवैध उत्‍खनन एवं परिवहन किये जाने से अनावेदक ठेकेदार सत्‍येंद्र सिंह रघुवंशी निवासी कृष्‍ण्‍पुरम कालोनी शिवपुरी पर म.प्र. गौण खनिज नियम के तहत 80 लाख रूपये प्रशमन किया जाना खनिज अधिकारी द्वारा प्रस्‍तावित किया गया।प्रस्‍तुत प्रतिवेदन के आधार पर कलेक्‍टर फ्रेंक नोबल ए. द्वारा रेत का अवैध उत्‍खनन एवं परिवहन किये जाने के फलस्‍वरूप म.प्र. गौण खजिन (अवैध उत्‍खनन, परिवहन एवं भण्‍डारण) नियम के तहत ठेकेदार सत्‍येंद्र सिंह रघुवंशी पर 80 लाख रूपये की राशि का जुर्माना अधिरोपित किया है।

उद्योग विभाग के मैनेजर की हत्‍या मामले में आरोपियों को हुआ आजीवन कारावास

भोपाल । उद्योग विभाग के मैनेजर की हत्‍या मामले में द्वितीय अपर सत्र न्‍यायाधीश सी. एम. उपाध्‍याय ने हत्‍या के आरोपीगण पप्‍पू जाटव  (35) कमलेश मेहरा (38) एवं अब्‍दुल आसिफ (40 ) को आजीवन कारावास एवं 500 रूपये का अर्थदंड से दंडित किया है । प्रकरण में शासन की ओर से पैरवी जिला लोक अभियोजन अधिकारी राजेन्‍द्र उपाध्‍याय एवं श्रीमती वर्षा कटारे, सहा. जिला लोक अभियोजन अधिकारी द्वारा की गई। मीडिया प्रभारी सुश्री दिव्‍या शुक्‍ला ने बताया कि दिनांक 20/08/15 को थाना अशोका गार्डन में मर्ग रिपोर्ट इस आशय की दर्ज कराई गई कि दिनांक 19/08/15 को रात्रि करीब 12:30 बजे फेक्‍ट्री के गेट के बाहर एक व्‍यक्ति रोड के किनारे खून से लथपथ पडा था।  उसके शरीर पर कई सारी चोटें थी। पुलिस द्वारा मर्ग जांच के आधार पर अज्ञात व्‍यक्तियो के विरूद्ध थाना अशोक गार्डन में अपराध पंजीबद्ध किया गया। मृतक रामदयाल बेले रायसेन में जिला उद्योग विभाग में मैनेजर के पद पर पदस्‍थ थे, और भोपाल से रायसेन प्रतिदिन बस से आया जाया करते थे। रायसेन में एक कमरा उन्‍होने किराये से ले रखा था। जहां वैजंतीबाई नामक महिला उनके यहां खाना बनाने का काम करती थी। अरोपी पप्‍पू जाटव के बैजंती बाई से संबंध थे। आरोपी पप्‍पू जाटव बैजंतीबाई को रामदयाल बेले के घर खाना बनाने से मना करता था और उस पर संदेह करता था।  इसी आधार पर वह मृतक से बुराई रखता था। इसी कारण उसके द्वारा कमलेश मेहरा और अब्‍दुल आसिफ के साथ मिलकर मृतक की हत्‍या कर उसका शव बोरा ब्रदर्स इंडसट्रीस फैक्‍ट्री के सामने रोड किनारे फेंक दिया। पुलिस ने विवेचना उपरांत मामला न्‍यायालय के समक्ष प्रस्‍तुत किया था। न्‍यायालय ने अभियोजन द्वारा दिये गये साक्ष्‍य और तर्कों से सहमत होते हुये तीनो आरोपीगण को आजीवन कारावास के दंड से दंडित किया । 

नाबालिक से दुष्कर्म करने वाले आरोपी को 10 साल की सजा व 24 हजार रूपये जुर्माना

शाजापुर। न्यायालय विशेष न्यायाधीश लैंगिक अपराधों से बालकों का संरक्षण अधिनियम 2012 एवं द्वितीय अपर सत्र न्यायाधीश शाजापुर द्वारा आरोपी  धर्मेंद्र पिता राधेश्याम बैरागी उम्र 24 वर्ष निवासी ग्राम आक्या चौहानी  थाना बैरछा जिला शाजापुर को नाबालिक पीडिता का अपहरण कर उसके साथ दुष्कर्म करने के आरोप में दोषसिद्ध पाते हुए धारा 363 भादवि में 3 वर्ष के सश्रम कारावास और 2000 रूपये जुर्माना, धारा 366 भादवि में 3 वर्ष का सश्रम कारावास और 2000 रूपये जुर्माना तथा लैंगिक अपराधों से बालको का संरक्षण अधिनियम की धारा 6 में 10 वर्ष का सश्रम कारावास और 20,000 रु.के जुर्माना से दण्डित किया गया। जुर्माना अदा नहीं करने पर प्रत्येक धारा में अतिरिक्त कारावास की सजा भी भुगताये जाने के आदेश दिये गये। जुर्माने की राशि जमा होने पर उसमें से 20,000 रूपये प्रतिकर स्वरूप नाबालिक पीडिता को अपील अवधि पश्चात अपील ना होने की दशा में दिये जाने के संबंध में भी आदेश दिये गये।सहा. जिला मीडिया प्रभारी रमेश सोलंकी अति. डीपीओ शाजापुर ने बताया कि, दिनांक  02.07.19 को रात्रि के करीब 09:30 बजे नाबालिक पीडिता को आरोपी बहला फुसलाकर व शादी का झांसा देकर भगाकर ले गया। पीडिता के पिता ने उक्त  घटना की रिपोर्ट थाना बैरछा पर लिखाई थी। पीडिता ने दस्तयाव होने पर बताया कि, आरोपी उसे कई जगह पर  लेकर गया और उसके साथ में दुष्कर्म किया जिसके परिणाम स्वरूप पीडिता गर्भवती होकर 9 माह में नवजात शिशु (बालक) को जिला अस्पताल शाजापुर में जन्म दिया। पुलिस द्वारा विवेचना के दौरान पीडिता व पीडिता के नवजात बालक तथा आरोपी का डी.एन.ए. परिक्षण करवाया गया। डी.एन.ए. रिपोर्ट में आरोपी व पीडिता के नवजात शिशु (बालक) के जैविक माता-पिता हैं पाया गया ।आरोपी की ओर से  डी.एन.ए. रिपोर्ट को स्वीकार भी किया गया । फरियादी की रिपोर्ट पर से पुलिस आरक्षी केन्द्र बैरछा ने प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज की थी। विवेचना उपरांत सक्षम न्यायालय में आरोपी के विरूद्ध चालान प्रस्तुत किये जाने पर अभियोजन की ओर से पैरवीकर्ता रमेश सोलंकी अति. जिला लोक अभियोजन अधिकारी शाजापुर  ने गवाहों के कथन कराये। उक्त  प्रकरण में शासन की ओर से पैरवीकर्ता देवेन्द्र मीणा जिला लोक अभियोजन अधिकारी शाजापुर के तर्कों एवं अभिलेख पर आई साक्ष्य से सहमत होते हुये न्यायालय द्वारा आरोपी को दोषी पाते हुये दंडित किया गया।       

जिले से अपहण हुई दो नाबालिग लड़कियों सहित गुमशुदा युवति को पुलिस ने खोजकर, परिजनों के सुपुर्द किया

गुना ।  जिले के अलग-अलग थाना क्षेत्र से गायब दो नाबालिग बालिकाओं सहित एक युवति को गुना पुलिस द्वारा खोज निकालकर उन्हें उनके अपने-अपने परिजनों के सुपुर्द कर दिया गया है। पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक दिनांक वर्ष 2020 के माह मई में राघौगढ़ थाना क्षेत्र से 15 वर्षीय एक नाबालिग किशोरी के गायब होने की रिपोर्ट पीड़िता की मां द्वारा राघौगढ़ थाने पर की गई थी, जिसकी रिपोर्ट पर थाना राघौगढ़ में प्रकरण दर्ज कर पुलिस द्वारा गायब किशोरी की लगतार तलाश की गई लेकिन बालिका का कहीं कोई पता नहीं चल पा रहा था। राघौगढ़ पुलिस द्वारा उक्त गायब बालिका की सरगर्मी से तलाश की गई और पुलिस के विभिन्न सूचना तंत्र तथा तकनीकी संसाधनों की मदद से वर्तमान में बालिका के राजस्थान के वांरा जिले के थाना हरनावदा अंतर्गत ग्राम पाटरी में होने की जानकारी प्राप्त की गई। इस जानकारी के प्राप्त होते ही पुलिस की एक टीम ग्राम पाटरी के लिये रवाना हुई और जहां पर विगत 14 महीने से गायब किशोरी पुलिस को मिल गई, बालिका द्वारा पुलिस को बताया कि आरोपी गोपाल पुत्र प्रेम सिंह बंजारा उम्र 21 साल निवासी ग्राम पाटरी उसे अपहरण कर जवरदस्ती अपने साथ ले गया और जिसने मेरी मर्जी के बिना जबरदस्ती मेरे साथ गलत काम किया है, युवति के कथनों के आधार पर प्रकरण में धारा 366, 376(2)(एन) भादवि एवं 5जे/6 पोस्को एक्ट का इजाफा कर पुलिस द्वारा प्रकरण के आरोपी गोपाल बंजारा की सघनता से तलाश की गई और जिसे भी धर दबोच लिया गया है।
इसी प्रकार वर्ष 2016 के माह मई में मधुसूदनगढ़ थाना क्षेत्र से 15 वर्षीय नाबालिग किशोरी के गायब होने की रिपोर्ट पीड़िता के पिता द्वारा मधुसूदनगढ़ थाने पर की गई थी, जिसकी रिपोर्ट पर प्रकरण दर्ज कर पुलिस द्वारा गायब किशोरी की लगातार तलाश शुरू की गई, लेकिन बालिका कोई पता नहीं चल पाया था। विभिन्न सूचना तंत्र तथा तकनीकी संसाधनों की मदद से वर्तमान में बालिका के मंदसौर जिले के ग्राम शामागढ़ में होने की जानकारी मिलने पर पुलिस की एक टीम तत्काल वहां के लिये रवाना हुई और जहां पर विगत 5 वर्षों से गायब किशोरी पुलिस को मिल गई, जिसने पुलिस को बताया कि आरोपी गोपाल पुत्र इमरत सिंह राजपूत उम्र 31 साल निवासी ग्राम गणेशपुरा, थाना मधुसूदनगढ़ उसे बहला फुसलाकर अपने साथ ले आया था और जिसने जान से मारने की धमकी देकर मुझे अपने साथ रखा और मेरे साथ गलत काम करता रहा है, युवति के कथनों के आधार पर प्रकरण में धारा 366ए, 376(2)(एन), 506 भादवि एवं 5/6 पोस्को एक्ट का इजाफा कर पुलिस द्वारा प्रकरण के आरोपी गोपाल राजपूत की सघनता से तलाश की गई और जिसे भी आज गुजरात के गांधीधाम जिले से धर दबोच लिया गया है।
इसी प्रकार 13 जुलाई 2021 को फरियादी पिता द्वारा बजरंगढ़ थाना पुलिस को रिपोर्ट करते हुये बताया था कि दिनांक 12-13 जुलाई की मध्य रात्रि में उसकी 19 वर्षीय पुत्री घर पर बिना बताये अचानक गायब हो गई है, जिसे गांव व आस-पड़ोस के गांवों तथा नाते रिस्तेदारियों में सभी जगह तलाश कर लिया गया है, जो कहीं भी नहीं मिल रही है। जिसकी रिपोर्ट पर से बजरंगढ़ थाने में गुमशुदगी दर्ज कर पुलिस गायब युवति की तलाश में सक्रियता से जुट गई और जिसकी जगह-जगह सघनता से तलाश की गई। युवति की तलाश के दौरान आज बजरंगढ़ थाना पुलिस युवति के संबंध में मुखबिर से मिली सूचना पर पुलिस द्वारा तत्परतापूर्वक कार्यवाही की गई और आखिरकार युवति को खोज निकाल लिया गया है एवं जिसे उसके परिजनों को सौंप दिया गया है।

जंगल में लकड़ी काटने गई महिला के साथ दुष्कर्म , आरोपी गिरफ्तार

गुना । फतेहगढ़ थाना पुलिस द्वारा जंगल में लकड़ी काटने गई महिला को अकेली पाकर उसके साथ जबरदस्ती दुष्कर्म की बारदात को अंजाम देने वाले आरोपी को गिरफ्तार करने में कामयाबी हासिल की गई है। उल्लेखनीय है कि 28 जून को 35 वर्षीय एक विवाहिता ने फतेहगढ़ थाने पर रिपोर्ट करते हुये बताया था कि  27 जून 2021 को वह जंगल में लकड़ी काटने के लिये गई, इसी दौरान वहां लखन सहरिया पुत्र कल्याण सहरिया  निवासी ग्राम सिरसौद, थाना केलबाड़ा, जिला बांरा, राजस्थान आया और उसे पीछे से भात में भरकर पटक लिया और जोर जबरदस्ती कर उसके साथ बुरा काम किया। जिसकी रिपोर्ट पर से फतेहगढ़ थाने पर प्रकरण कायम कर विवेचना में लिया गया।  फतेहगढ़ थाना प्रभारी अपनी टीम के साथ प्रकरण के आरोपी की गिरफ्तारी हेतु सघनता से जुट गये और इसके लिये निरंतर दविशें देकर घटना के बाद मात्र 12 घंटे के भीतर ही बलात्कार के आरोपी लखन सहरिया को केलबाड़ा से गिरफ्तार कर लिया गया है एवं जिसे आज न्यायालय पेश किया गया जहां से उसे जेल भेज दिया है। फतेहगढ़ थाना पुलिस की कार्यवाही में थाना प्रभारी गोपाल चौवे, सउनि अनिल कदम, सउनि दिलीप सिंह, आरक्षक राहुल यादव, आरक्षक बृजेश साहू एवं आरक्षक कुलदीप धाकड़ की भूमिका रही है।  

नाबालिग बालिकाओं को बहला फुसलाकर ले जाने एवं दुष्‍कर्म करने वाले आरोपी को हुआ 10 वर्ष का कारावास

इंदौर । बहला फुसलाकर नाबालिग बालिकाओं को ले जाने वाले एवं दुष्‍कर्म कारित करने वाले आरोपी को न्यायालय ने 10 वर्ष के कारावास से दंडित किया है
जिला अभियोजन अधिकारी मो. अकरम शेख ने बताया गया कि वुघवार 23 जून को न्‍यायलय विशेष न्‍यायाधीश श्रीमती नीलम शुक्‍ला, जिला इंदौर द्वारा थाना तेजाजी नगर के अपराध में निर्णय पारित करते हुये आरोपी मनोज पिता रजान तडवी भील आयु 19 वर्ष निवासी ग्राम जामुनिया सेंधवा जिला बडवानी को धारा 366 भादवि में 7 वर्ष का कारावास एवं 2000/- रूपये का अर्थदंड तथा अर्थदंड की राशि की अदायगी न किये जाने पर अतिरिक्‍त 2 वर्ष्‍ का सश्रम कारावास एवं धारा 376(2)(एन) भादवि में 10 वर्ष एवं अर्थ्‍दंड की राशि की अदायगी न किये जाने पर 2 वर्ष्‍ का सश्रम कारावास भुगताये जाने का निर्णय पारित किया गया। उक्‍त प्रकरण अभियोजन की आरे पैरवी श्रीमती सुशीला राठौर, विशेष लोक अभियेाजक द्वारा की गई। अभियोजन की कहानी संक्षेप में इस प्रकार है कि 14 अक्टूवर 2017 को फरियादिया ने पुलिस थाना तेजाजी नगर में रिपोर्ट लिखाई कि 13 अक्टूवर 2017 की रात में खाना खाकर हम लोग सो गये थे एवं रात्रि करीबन 02:00 बजे उठकर देखा तो दोनों बालिकायें सो रही थीं। इसके उपरांत जब सुबह 06:00 उठकर देखा तो दोनों बालिकाये नहीं दिखी आसपास तलाशी किये जाने पर नहीं मिली। दोनों बालिकायें हमें बिना बतायें कही चली गई उसके पश्‍चात आरोपी धमेंद्र का फोन आया था और उसने बताया था कि तुम्‍हारी दोनों बालिकायें मनोज के पास में हैं। दोनों बालिकाओं को धमेंद्र बहला फुसलाकर ले गया था तथा दुष्‍कर्म किया था। जिस पर आरोपीगण के विरूद्ध थाने में अपराध पंजीबद्ध किया गया एवं विवेचना उपरांत चालान न्यायालय के समक्ष पेश किया गया जिस पर आरोपी मनोज को उक्‍त दंड से दंडित किया गया।  

जुआ खेलने वालों पर न्यायालय ने लगाया अर्थदण्ड

सीधी । चौकी सेमरिया स्टाफ द्वारा देहात भ्रमण के दौरान के दौरान हनुमानगढ़ स्कूल के पास तिराहा में एक व्यक्ति अंक लिखकर पैसों की हार-जीत का दाव लगाकर सट्टा खिला रहा था। पुलिस को देखते ही भागने लगा, जिसे रोककर नाम पूछा तो नाम विनोद बंशल पिता ददुली बंशल निवासी हनुमानगढ़ बताया, जिसके पास से एक सट्टा पर्ची व नगद 390 रूपए जप्ती किया गया। अपराध क्र. 603/2020 पर आरोपी के विरूद्ध जुआ एक्ट धारा 4(क) के अंतर्गत मामला दर्ज किया गया। विवेचना उपरांत अभियोग पत्र न्यायालय में पेश किया गया, जिसके न्यायालयीन प्रकरण क्र. 173/2020 में शासन की ओर से सशक्त पैरवी करते हुए सहा. जिला अभियोजन अधिकारी विशाल सिंह ने आरोपी को दोषी प्रमाणित कराया। न्यायालय द्वारा आरोपी को न्यायालय उठने तक का कारावास व 1000 रूपए के अर्थदण्ड से दंडित किया गया। 

धारदार तलवार के साथ के अभियुक्त रमसू गिरफ्तार न्यायालय ने भेजा जेल

झाबुआ ।  न्यायालय प्रथम श्रेणी न्यायिक दंडाधिकारी रितु श्री गुप्ता ने धारदार तलवार लेकर आम जनता को भयभीत करने वाले अभियुक्त रमसू  को जेल भेजा। अभियोजन मीडिया सेल प्रभारी वर्षा जैन के अनुसार  घटना दिनांक 4 अक्टूबर 2020 की शाम 5:30 बजे स्थान मेघनगर रंभापुर रोड पंचकुंई फाटा ग्राम बेड़ावली मेघनगर में एक व्यक्ति  धारदार तलवार लेकर आम रोड पर घुम रहा था। जिससे आम जनता भयभीत हो रही थी। मेघनगर पुलिस ने मौके पर पहुंच कर अभियुक्त को घेराबंदी कर पकड़ा उसका नाम पता पूछने पर उसने अपना नाम रमसू पिता खेमचंद भूरिया निवासी झारा डाबर  बताया। पुलिस द्वारा उसके हाथ में लिए तलवार को सार्वजनिक स्थान पर रखने एवं लेकर घूमने के संबंध में अभियुक्त से  लाइसेंस मांगा ।लाइसेंस नहीं होने पर मौके पर तलवार जप्त कर अभियुक्त को गिरफ्तार किया । थाना मेघनगर पर आरोपी के विरुद्ध धारा 25 -बीआयुध अधिनियम का प्रकरण पंजीबद्ध कर  न्यायिक निरोध में न्यायालय में पेश किया।   न्यायालय द्वारा अभियुक्त की न्यायिक  अभिरक्षा स्वीकार करते हुए जिला जेल झाबुआ भेजा गया। राज्य की ओर से प्रकरण का संचालन सहायक जिला अभियोजन अधिकारी रवि प्रकाश राय द्वारा किया गया।                   

दो आदतन अपराधी एक-एक वर्ष के लिए जिला बदर

गुना । जिला दण्डाधिकारी कुमार पुरूषोत्‍तम द्वारा पारित आदेश द्वारा जिले के 2 आदतन अपराधियों को एक वर्ष के लिए जिला बदर कर दिया गया है। इस आशय के पारित आदेशानुसार बूढे़बालाजी गुना थाना कोतवाली गुना के भय्यू उर्फ दीपेश पुत्र चंदशेखर लखेरा तथा ग्राम निवेरी थाना फतेहगढ जिला गुना के मदनमोहन पुत्र कन्‍हैयालाल मीना को एक वर्ष के लिए जिला गुना एवं उसके आस-पास के जिलों भोपाल, राजगढ़, शिवपुरी, विदिशा एवं अशोकनगर की सीमा से बाहर चले जाने का आदेश दिया गया है। साथ ही उन्होंने उक्‍त आदतन अपराधियों को 24 घंटे के भीतर गुना जिला छोडने के निर्देश दिए हैं।
उन्होंने यह कार्रवाई म0प्र0राज्य सुरक्षा अधिनियम-1990 के प्रावधानों के अंतर्गत की है। आदतन अपराधी भय्यू उर्फ दीपेश लेखरा तथा मदनमोहन मीना के विरूद्ध विभिन्‍न अपराधों में 08-08 प्रकरण पंजीबद्ध हैं।