नाबालिक के साथ दुष्कर्म करने वाले आरोपी को 10 वर्ष का सश्रम कारावास व 6 हजार का जुर्माना

शाजापुर । न्यायालय शुजालपुर द्वारा आरोपी देवराज पिता बाबूलाल मेवाड़ा उम्र 19 वर्ष निवासी लालाखेड़ी थाना कालापीपल को धारा 363 भादवि में 3 वर्ष के सश्रम कारावास एवं 1000 के अर्थदंड ,धारा 366 भादवि में 5 वर्ष के सश्रम कारावास एवं 1000 अर्थदंड ,धारा 3/4 पॉक्सो अधिनियम में 10 वर्ष के सश्रम कारावास एवं 4000 के अर्थदंड से दंडित किया गया । अपील अवधि पश्चात पीड़िता को जुर्माने की राशि कुल 6000 दिए जाने का आदेश भी न्यायालय द्वारा दिया गया।

जिला मीडिया प्रभारी सचिन रायकवार एडीपीओ ने बताया कि, संजय मोरे द्वारा प्रदत्त जानकारी अनुसार दिनांक 19 /10/2020 को पीड़िता घर पर थी। उसके पिता रात्रि 7:30 बजे अपने कुए से घर आए । वह खाना खाकर बैठे थे । कुछ देर बाद पीड़िता नहीं दिखी तो उन्होंने अपनी पत्नी से पूछा कि पीड़िता कहां है तो उसने बताया कि गली में बर्तन साफ कर रही है । गली में जाकर देखा तो पीड़िता नहीं दिखी। पीड़िता की तलाश आसपास की तो पीड़िता नहीं मिली। फरियादी को शंका हुई कि पीड़िता को देवराज बहला-फुसलाकर कहीं ले गया  होगा । उक्त घटना की रिपोर्ट थाना कालापीपल पर फरियाद ने की । दिनांक 22 /10/ 2020 को पीड़िता को पुलिस ने दस्तयाब किया तो पीड़िता ने बताया था कि, आरोपी ने 1 माह पूर्व उसके साथ शारीरिक संबंध बनाए थे। अनुसंधान के पश्चात आरोपी के विरुद्ध पुलिस द्वारा सक्षम न्यायालय में चालान प्रस्तुत किया गया। न्यायालय द्वारा प्रकरण में आई साक्ष्य व आभियोजन के तर्कों से सहमत होते हुए आरोपी को दोषी पाते हुए दोषसिद्ध किया गया।

उचित मूल्‍य की दुकान पर गबन करने वाले आरोपी को 3 वर्ष की सजा एवं 5 हजार रूपये का अर्थदण्ड

शाजापुर। न्यायालय के द्वारा आरोपी रामगोपाल पिता कुबंरलाल मीणा को उचित मूल्‍य की दुकान पर गबन करने के मामले में दोषी पाते हुये 3 वर्ष का सश्रम कारावास एवं 5000 रूपये के अर्थदण्ड से दण्डित किया गया। सहायक जिला लोक अभियोजन अधिकारी कमल गोयल, ने बताया गया कि दिनांक 03/04/2003 को प्रथामिक कृषि साख सहकारी संस्था मर्यादित मनसाया शाखा कालापीपल की ग्राम मनसाया एवं चारखेडी स्थित सार्वजनिक वितरण प्रणाली की दुकानों पर अभियुक्त रामगोपाल सेल्समेन के पद पर कार्यरत था दिनांक 03/04/2003 को शाखा के पर्यवेक्षक ने लगभग एक माह से दुकान बंद होने व ताला लगा होने की शिकायत पर निरीक्षण कर यह पाया गया की दुकान बंद है, तब उन्होंने अभियुक्त रामगोपाल मीना को 3 दिन में डयुटी पर आने व दुकान खोलने हेतु सूचना दी, ताकी दुकान की स्कंंद सामग्री का सत्यापन कराकर स्टॉक संस्था प्रबंधन को हस्ताक्षरित कर दिया जावे, परन्तु अभियुक्त के न आने पर उसके घर पर सूचना दी, दिनांक 09/04/2003 को शाखा प्रभारी पर्यवेक्षक को नियमानुसार मनसाया व चारखेडी की दुकानों का सत्यापन कराया गया, तथा ऑडिट रिपोर्ट तैयार की गई जिसमें मनसाया दुकान में 65 हजार 866 रूपये तथा चारखेडी दुकान पर 55 हजार 922 रूपये की सामग्री स्टाक में कम पाई गई, तथा उचित मूल्य की दुकान शक्कर , गेहू, घासलेट, की राशि आरोपी द्वारा संस्था में जमा नहीं की जाकर कुल राशि 121788 रूपये का गबन किया गया। प्रंबधक द्वारा लिखित रिपोर्ट की गई तथा पुलिस द्वारा सम्पूर्ण विवेचना उपंरात आरोपी के विरूद्व सक्षम न्यायालय में चालान प्रस्तुत किया गया उक्त मामले में न्यांयालय धीरज कुमार जेएमएफसी द्वारा प्रकरण में संपूर्ण विचारण उपरांत अभियोजन साक्षीगण की साक्ष्‍य के आधार पर आरोपी को धारा 409 भादवि में गबन का दोषी पाते हुये दण्डित किया गया ।

एडीपीओ सीमा शर्मा को गृहमंत्री अमित शाह ने दिया पंडित गोविंद वल्‍लभ पंत पुरस्‍कार

शाजापुर । पुलिस अनुसंधान एवं विकास ब्‍यूरो मुख्‍यालय नई दिल्‍ली के ऑडिटोरियम में आयोजित समारोह में  गृहमंत्री और सहकारिता मंत्री भारत सरकार अमित शाह ने सहायक जिला लोक अभियोजन अधिकारी सीमा शर्मा रतलाम को उनके द्वारा लिखी गई पुस्‍तक “पॉक्‍सो एक्‍ट – अनुसंधान एवं विचारण” के लिए देश का प्रतिष्ठित ” पंडित गोविंद वल्‍लभ पंत पुरस्‍कार” वर्ष 2020-2021 के लिए प्रदान किया। यह पुरस्‍कार पुलिस अनुसंधान एवं विकास ब्‍यूरो गृह मंत्रालय भारत सरकार द्वारा पुलिस, न्‍यायालयिक विज्ञान, अपराध शास्‍त्र, पुलिस प्रशासन एवं पुलिस से संबंधित विषयों पर हिंदी में पुस्‍तकें लेख करने के लिए प्रदान किया जाता है। इस पुरस्‍कार स्‍वरूप प्रशस्ति पत्र एवं पन्द्रह हजार रूपये की राशी प्रदान की गयी है । उल्‍लेखनीय है कि वर्ष 2020 में कोविड-19 महामारी के कारण लगे लॉकडाउन के दौरान सीमा शर्मा के द्वारा लैंगिक अपराधों से बालकों का संरक्षण अधिनियम, 2012 के अपराधों के अनुसंधान एवं विचारण प्रक्रिया एवं विधि के संबंध में *”पॉक्‍सो एक्‍ट – अनुसंधान एवं विचारण ”  शीर्षक से 416 पृष्‍ठों की एक पुस्‍तक लेख की गई थी जिसका प्रकाशन माह अगस्‍त 2020 में होकर दिनांक 20.08.2020 को गृहमंत्री म.प्र.शासन नरोत्‍तम मिश्रा  के द्वारा इसका विमोचन किया गया था। सीमा शर्मा को अपने कार्यक्षैत्र में उत्‍कृष्‍ट प्रदर्शन के लिए पूर्व में भी कई पुरस्‍कार प्राप्‍त हो चुके है जिनमें प्रमुख रूप से अभियोजन विभाग का सर्वोच्‍च सम्‍मान “प्राईड ऑफ प्रॉसिक्‍यूशन”  चार बार प्राप्‍त हो चुका है तथा गृहमंत्री म.प्र. शासन के द्वारा दो बार सम्‍मानित किया जा चुका है।  

नाबालिक से दुष्कर्म करने वाले आरोपी को 10 साल की सजा व 24 हजार रूपये जुर्माना

शाजापुर। न्यायालय विशेष न्यायाधीश लैंगिक अपराधों से बालकों का संरक्षण अधिनियम 2012 एवं द्वितीय अपर सत्र न्यायाधीश शाजापुर द्वारा आरोपी  धर्मेंद्र पिता राधेश्याम बैरागी उम्र 24 वर्ष निवासी ग्राम आक्या चौहानी  थाना बैरछा जिला शाजापुर को नाबालिक पीडिता का अपहरण कर उसके साथ दुष्कर्म करने के आरोप में दोषसिद्ध पाते हुए धारा 363 भादवि में 3 वर्ष के सश्रम कारावास और 2000 रूपये जुर्माना, धारा 366 भादवि में 3 वर्ष का सश्रम कारावास और 2000 रूपये जुर्माना तथा लैंगिक अपराधों से बालको का संरक्षण अधिनियम की धारा 6 में 10 वर्ष का सश्रम कारावास और 20,000 रु.के जुर्माना से दण्डित किया गया। जुर्माना अदा नहीं करने पर प्रत्येक धारा में अतिरिक्त कारावास की सजा भी भुगताये जाने के आदेश दिये गये। जुर्माने की राशि जमा होने पर उसमें से 20,000 रूपये प्रतिकर स्वरूप नाबालिक पीडिता को अपील अवधि पश्चात अपील ना होने की दशा में दिये जाने के संबंध में भी आदेश दिये गये।सहा. जिला मीडिया प्रभारी रमेश सोलंकी अति. डीपीओ शाजापुर ने बताया कि, दिनांक  02.07.19 को रात्रि के करीब 09:30 बजे नाबालिक पीडिता को आरोपी बहला फुसलाकर व शादी का झांसा देकर भगाकर ले गया। पीडिता के पिता ने उक्त  घटना की रिपोर्ट थाना बैरछा पर लिखाई थी। पीडिता ने दस्तयाव होने पर बताया कि, आरोपी उसे कई जगह पर  लेकर गया और उसके साथ में दुष्कर्म किया जिसके परिणाम स्वरूप पीडिता गर्भवती होकर 9 माह में नवजात शिशु (बालक) को जिला अस्पताल शाजापुर में जन्म दिया। पुलिस द्वारा विवेचना के दौरान पीडिता व पीडिता के नवजात बालक तथा आरोपी का डी.एन.ए. परिक्षण करवाया गया। डी.एन.ए. रिपोर्ट में आरोपी व पीडिता के नवजात शिशु (बालक) के जैविक माता-पिता हैं पाया गया ।आरोपी की ओर से  डी.एन.ए. रिपोर्ट को स्वीकार भी किया गया । फरियादी की रिपोर्ट पर से पुलिस आरक्षी केन्द्र बैरछा ने प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज की थी। विवेचना उपरांत सक्षम न्यायालय में आरोपी के विरूद्ध चालान प्रस्तुत किये जाने पर अभियोजन की ओर से पैरवीकर्ता रमेश सोलंकी अति. जिला लोक अभियोजन अधिकारी शाजापुर  ने गवाहों के कथन कराये। उक्त  प्रकरण में शासन की ओर से पैरवीकर्ता देवेन्द्र मीणा जिला लोक अभियोजन अधिकारी शाजापुर के तर्कों एवं अभिलेख पर आई साक्ष्य से सहमत होते हुये न्यायालय द्वारा आरोपी को दोषी पाते हुये दंडित किया गया।       

नाबालिक से दुष्‍कर्म करने वाले आरोपी को 12 वर्ष का सश्रम कारावास एवं 7000 रूपयें का जुर्माना, पीड़िता को घर पर अकेला पा कर घटना को दिया अंजाम

शाजापुर। अपर सत्र न्यायाधीश न्यायालय द्वितीय शुजालपुर के द्वारा आरोपी अर्जुन  पिता सोदानसिंह अहिरवार निवासी इमलीखेडा कालापीपल जिला शाजापुर को धारा 450 भादवि में 5 वर्ष का सश्रम कारावास एवं 2000 रूपयें अर्थदण्‍ड तथा धारा 3/4 लैंगिक अपराधों से बालकों का संरक्षण अधिनियम- 2012 में 12 वर्ष का सश्रम कारावास एवं 5000 रूपयें के अर्थदण्‍ड से दण्डित किया गया। आरोपी द्वारा जुर्माने की रकम जमा करने पर अपीलावधि पश्‍चात पीडिता को प्रतिकर स्‍वरूप न्‍यायालय द्वारा दिलवाये जाने का आदेश भी दिया गये।   
सहा जिला मीडिया प्रभारी  संजय मोरे अति. डीपीओ शुजालपुर ने बताया कि, घटना दिनांक 22/08/2019 को दोपहर के करीब 2 बजे  पीडिता के पिता मजदूरी करने खेत पर तथा छोटा भाई स्‍कूल गया था।  पीडिता घर पर अकेली थी, घर का दरवाजा खुला था। पीड़िता मोबाइल पर मूवी देख रही थी तभी आरोपी अर्जुन पिता सोदन सिंह अहिरवार एकदम से उसके घर में घुस गया ओर बुरी नियत से झूमा झटकी कर उसे जमीन पर पटक दिया। जब पीडिता चिल्‍लाई तो आरोपी ने एक हाथ से उसका मुंह दबा दिया तथा उसके साथ जबरन गलत काम किया ओर जाते-जाते पीडिता से बोला कि अगर  यह बात किसी से कहेगी तो  इज्‍जत खराब होगी इसलिए किसी से यह बात मत कहना। फिर इतने में पीडिता का छोटा भाई आ गया और वह पीड़िता के पिता  को जंगल से बुलाकर लाया।  पीडिता ने घटना  अपने पापा, जीजा, मामा को बताई।
उक्‍त घटना की रिपोर्ट पीडिता ने थाना कालापीपल पर लेखबद्ध करवायी। जिस पर से थाने के द्वारा  अपराध पंजीबद्ध कर बाद अनुसंधान चालान सक्षम न्‍यायालय में प्रस्‍तुत किया।
अभियोजन की ओर से पीडिता, साक्षीगण, डॉंक्‍टर, विवेचक एवं सभी आवश्‍यक गवाहों के बयान करवाकर न्‍यायालय में अतिंम तर्क प्रस्‍तुत किये गये।
उक्‍त प्रकरण में अभियोजन की ओर से उपसंचालक ‘’अभियोजन’’ शाजापुर सुश्री प्रेमलता सोलंकी जी के मार्गदर्शन में पैरवी संजय मोरे अति.जिला लोक अभियोजन अधिकारी शुजालपुर द्वारा की गई।

शादी के लिये प्रताड़ित करने वाली आरोपिया को जेल भेजा

शाजापुर। जिला मीडिया प्रभारी  सचिन रायकवार एडीपीओ शाजापुर ने बताया कि, न्यायालय जेएमएफसी शुजालपुर द्वारा आरोपिया प्री‍ति पिता हरिलाल चौधरी उम्र 23 वर्ष निवासी वार्ड क्र्ंमाक 06 सामदपुर थाना अनुपपुर का जेल वारंट बनाकर जिला जेल शाजापुर भेजा गया । संजय मोरे अति.डीपीओ शुजालपुर द्वारा प्रदत्‍त जानकारी अनुसार दिनांक 25/08/2020 को थाना कालापीपल पर मर्ग क्रंमाक 37/2020 धारा 174 जा0 फौ0 का कायम कर जॉच में लिया गया। जॉच के दौरान मृतक द्वारा सोसाइड नोट , मरणासन्न क‍थन , पी एम रिपोर्ट एंव मृतक के पिता विष्‍णु प्रसाद , माता मनोरमा, भाई जतिन , स्‍वंतत्र साक्षी अनुज नेमा व हेमन्‍त चौरसिया के कथन के आधार पर आरोपिया प्रीति के विरूद्ध थाना कालापीपल पर धारा 306 भादवि का अपराध पंजीबद्ध किया गया। आरोपिया मृतक को कहती थी, की तुम मुझसे शादी करो नहीं तो आठ लाख रूपये देना पडेगें। मृतक के विरूद्ध आरोपिया ने थाना अकोदिया पर शादी का झांसा देकर कई बार शारीरिक संबंध बनाने की रिपोर्ट  भी की थी। मृतक ने आरोपिया से परेशान होकर  सल्फॉस की गोलीया खाकर आत्‍महत्‍या कर ली।  शनिवार को आरोपिया को न्‍यायालय मे प्रस्‍तुत किया गया।न्‍यायालय द्वारा आरोपिया को जेल वारंट बनाकर जिला जेल शाजापुर भेजा गया।

जान से मारने की धमकी देकर पीड़िता के साथ किया दुष्कर्म न्यायालय ने दुष्कर्मी को जेल भेजा

शाजापुर।  न्यायालय चतुर्थ अपर सत्र न्‍यायाधीश शुजालपुर द्वारा आरोपी रामसिंह पिता स्‍व.बलदेवसिंह वर्मा निवासी रनायल का जेल वारंट बनाकर उप जेल शुजालपुर भेजा गया । सहा.जिला मीडिया प्रभारी संजय मोरे अति.डीपीओ शुजालपुर ने बताया कि, दिनांक 01/10/2020 को पीडिता ने थाना अवं‍तिपुर बडोदिया पर रिपोर्ट दर्ज करायी कि, करीब ढाई माह पूर्व जब उसके मम्‍मी पापा ईलाज के लिए बाहर गये हुए थे तब दोपहर में  आरोपी घर में आया और बुरी नियत से उसके साथ अश्लील हरकत की। वह चिल्लाने लगी तो आरोपी ने उसे धमकी दी कि, चिल्‍लायेगी तो तेरा गला काटकर मार दुंगा और आरोपी ने उसके साथ बलात्‍कार किया। उसके 15 दिन बाद जब मम्‍मी पापा उसके मामा के यहां गये थे  तब भी आरोपी आया और धमकी देकर उसके साथ खोटा काम बलात्‍कार करके चला गया । इसी तरह आठ दिन बाद जब  पीडिता   के माता पिता ईलाज के लिए बाहर गये थे तब आरोपी ने धमकी देकर उसके साथ गलत काम किया। पीडिता ने हिम्‍मत करके घटना की सारी बात माता पिता को बताई। फिर वह रिपोर्ट करने थाना आयी। आरोपी को शनिवार  को न्‍यायालय में प्रस्‍तुत किया गया। जहां से उसका जेल वारंट बनाकर  उप जेल शुजालपुर भेजा गया।

गोली से महात्‍मा संत पोल की मूर्ति को क्षतिग्रस्‍त करने वाले का जमानत आवेदन निरस्‍त

शाजापुर।  जिला मीडिया प्रभारी  सचिन रायकवार एडीपीओ शाजापुर ने बताया कि , न्यायालय जेएमएफसी शुजालपुर द्वारा आरोपी  भूपेन्‍द्र पिता गोपालसिंह राठौड उम्र 38 वर्ष निवासी निलकंठेश्‍वर कालोनी शुजालपुर मण्‍डी का जमानत आवेदन पत्र निरस्त किया गया ।  संजय मोरे अति.डीपीओ शुजालपुर द्वारा प्रदत्त जानकारी अनुसार दिनांक 24/09/2020 को फरियादी सिस्‍टर मेबल शाम 05 बजे चर्च के अंदर साफ सफाई कर रही थी। चिल्‍लाचोट की आवाज पर बाहर आकर देखा तो दीप्‍ती कान्‍वेंट स्‍कूल के प्रांगण में माली कामिल को मॉ बहन की अश्‍लील गालिया आरोपी भूपेन्‍द्र दे रहा था। आरोपी ने उसे बोला की फादर को बुला नही तो तुझे जान से मार दुंगा। भूपेन्‍द्र ने अपने कंधे पर टंगी बंदुक निकालकर धर्म को अपमानित करने के आशय से स्‍कूल परिसर में लगी महात्‍मा संत पोल की मूर्ति को गोली मारकर क्षतिग्रस्‍त कर दी । फरियादी ने घटना की रिपोर्ट थाना शुजालपुर मंडी पर की।  आरोपी को गिरफतार कर न्‍यायालय में प्रस्‍तुत किया गया। आरोपी का न्‍यायालय द्वारा जमानत आवेदन पत्र निरस्‍त किया गया।

आत्‍महत्‍या के लिए दुष्‍प्रेरित करने वाले को भेजा जेल

शाजापुर। न्यायालय जेएमएफसी  शुजालपुर धीरज कुमार द्वारा आरोपी अनिल पिता दु‍लीचंद मालवीय उम्र 20 वर्ष निवासी दिव्‍या कालोनी कालापीपल मण्‍डी का जेल वारंट बनाकर  जेल भेजा गया। सहा.जिला मीडिया प्रभारी संजय मोरे अति.डीपीओ शुजालपुर ने बताया कि, दिनांक 22/08/2020 को सी.एच.सी.कालापीपल के वार्ड बाय भास्‍कर राव द्वारा एक लेखी तहरिर एक महिला मृत अवस्‍था में अस्‍पताल लाई गई के संबंध में थाना कालापीपल पर  दी गयी। थाना कालापीपल पर मर्ग क्रमांक 35/2020 धारा 174 जा.फ़ो. का कायम किया गया।  मर्ग जांच के दौरान मृतिका के पिता, माता, बहन,भाई तथा स्‍वतंत्र साक्षी के कथन लिए गये। कथनो में आरोपी अनिल के विरुद्ध यह साक्ष्‍य आयी कि, आरोपी मृतिका को शादी करने के लिए बार-बार परेशान कर मानसिक रूप से प्र‍ताडित करता था जिससे तंग आकर मृतिका ने अपने घर मे फांसी का फंदा लगाकर आत्‍महत्‍या कर ली। आरोपी के विरुद्ध थाना कालापीपल पर  अपराध पंजीबद्ध किया गया। अनुसंधान के दौरान आरोपी को गिरफतार कर आज न्‍यायालय में पेश किया गया। न्‍यायालय द्वारा आरोपी का जेल वारंट बनाकर उसे उप जेल शुजालपुर भेजा गया। 

नाबालिग लड़की को भगाकर ले जाने तथा उसके साथ शारीरिक संबंध बनाने वाले को भेजा जेल

शाजापुर। न्‍यायालय विशेष न्‍यायाधीश लैंगिक अपराधों से बालकों का संरक्षण अधिनियम 2012 एवं द्वितीय अपर सत्र न्‍यायाधीश शाजापुर द्वारा आरोपी कृष्‍णा उर्फ कन्‍हैयालाल पिता प्रेमनारायण मेवाड़ा, उम्र 20 वर्ष, नि. मिर्जापुर खेड़ा थाना सलसलाई जिला शाजापुर को जेल वारंट बनाकर जिला जेल शाजापुर भेजा गया। जिला लोक अभियोजन अधिकारी एवं विशेष लोक अभियोजक देवेन्‍द्र मीणा ने बताया कि, घटना की रिपोर्ट थाना सलसलाई पर फरियादी ने दिनांक 11 फरवरी 2019 को दर्ज करायी थी। दिनांक 8 फ‍रवरी 2019 की रात्रि करीब 9 बजे फरियादी की नाबालिग लड़की घर से पेशाब करने का कहकर चली गयी थी। फरियादी व घरवालों ने उसे काफी तलाश किया किंतु वह नहीं मिली। फरियादी ने आरोपी के विरूद्ध शंका के आधार पर थाना सलसलाई में रिपोर्ट दर्ज करायी थी। विवेचना के दौरान आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर आज न्‍यायालय के समक्ष वी.सी. के माध्‍यम से पेश किया।  आरोपी का जेल वारंट बनाकर जिला जेल शाजापुर भेजा गया।