राष्ट्रीय युवा योजना इकाई गुना द्वारा सलाहकार समिति की बैठक आयोजित कर मनाया डाँ सुब्बाराव जी का जन्मदिन

डाँ सुब्बाराव भाई जी वो पारस है जो उनके सम्पर्क में आया सोना हो गया-डाँ एल के शर्मा

गुना । प्रखर समाज सेवी एवं गाँधीवादी डाँ.एस.एन.सुब्बाराव जी का 93 वां जन्मदिन देश विदेश में धूमधाम से मनाया गया।वर्तमान में भाई जी बैग्लौर में है जहाँ देश विदेश में रहने वाले सारे अनुयायियों ने गाँधी भवन पहुंच कर बधाइयां दी।डाँ.एस.एन.सुब्बाराव जी द्वारा संचालित राष्ट्रीय युवा योजना इकाई गुना द्वारा सलाहकार समिति की बैठक राज पैथोलॉजी गुना म प्र पर आयोजित की गयी जिसमें जिले के एन एस एस ,एन सी सी,भारत स्काउड गाइड,जूनियर रेडक्रॉस के अधिकारी एवं अनेक समाज सेवी उपस्थित रहे।कार्यक्रम का शुभारम्भ डाँ एल के शर्मा एवं डाँ.सतीश चतुर्वेदी ने भारत माँ एवं स्वामी विवेकानंद जी के चित्र की पूजन एवं दीप प्रज्ज्वलित कर के की।बैठक में आये सभी सदस्यों के परस्पर परिचय के बाद बैठक प्रारम्भ हुई।जिला समन्वयक जितेन्द्र ब्रह्मभट्ट ने बताया कि गुना इकाई के माध्यम से 45 युवा युवती राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय शिविर कर चुके है और एक दल तो विदेश यात्रा भी कर चुका है।गुना के युवा अधिक से अधिक सुब्बाराव जी के नेतृत्व में भारत के विभिन्न राज्यों को देख पाये और असली भारत को देख पाये इस कार्य में आप सब युवाओं को इकाई से जोड़े।पूर्व में भाई जी के साथ कैम्प कर चुके आदर्श प्रजापति एवं दीपक सुमन ने अपने अनुभव सुनाये।वरिष्ठ पत्रकार कैलाश मंथन जी ने भाई जी के द्वारा चंबल के बागियों के समर्पण में योगदान को सब को बताया।केन्द्रीय विद्यालय के स्काउड गाइड शिक्षक राजेश यादव ने कहा कि भाई जी के बारे में जानकर बहुत अच्छा लगा ऐसा विराट व्यक्तित्व हमारे बीच है विश्वास नही होता।समाज सेवी नीलम बिन्दल ने कहा कि जब मैं छोटी थी मैने उन बागियों को देखा और उस समय उनका भय और डर जैसे समाज में व्याप्त था उन को समाज की मुख्य धारा में लाकर भाई जी ने मुख्य धारा में जोड़ा।केन्द्रीय विद्यालय के ग्रंथपाल ऋषिकेश भार्गव ने कहा कि भाई जी को जब मैने पढ़ा तो लगा भाई जी चलते फिरते पुस्तकालय है जो हर समय सीखाते रहते है।भारत विकास परिषद् के दिलीप सक्सेना जी ने कहाकि भाई जी वास्तव में संत है जिन्होने अपना सम्पूर्ण जीवन युवाओं के निर्माण में लगा दिया।भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा के जिला प्रभारी वेदप्रकाश श्रीवास्तव ने बताया की भाई जी तो कोई अवतार है जो हम सब को मार्ग दिखाने के लिए आये है।भारतीय शिक्षा मण्डल मध्य भारत प्रांत की उपाध्यक्ष श्रीमती मधुबाला सक्सेना ने कहा कि आज समाज और देश के लिए जिन युवाओं की आवश्यकता है वो भाई जी के शिविरों में तैयार होते है।शासकीय स्नाकोत्तर महाविद्यालय के सीनियर एन सी सी आँफिसर मनोज भदौरिया ने बताया कि जीवन में अनुशासन और सेवा आवश्यक है जो हम भाई जी से सीख सकते है।मुख्य अतिथि के रूप में बोलते हुऐ डाँ.सतीश चतुर्वेदी ने कि भाई जी का व्यक्तित्व एवं कृतित्व प्रेरणादाई है सरलता एवं सहजता की प्रतिमूर्ति है भाई जी।जो बोलते कम है अपने व्यवहार से ज्यादा सीखाते है।अध्यक्ष के रूप में बोलते हुए डाँ एल के शर्मा ने कहा कि डाँ सुब्बाराव भाई जी वो पारस है जो उनके सम्पर्क में आया सोना हो गया।भारत माता की सेवा और सर्वधर्म मम भाव को लेकर भाई जी कार्य कर रहे है।अगर आज के समय जीवन्त गाँधी जी देखना है तो भाई जी को देखे।इस अवसर पर केशव दुवे,शंकर सिंह राठौर,ब्रजेन्द्र सिंह गुर्जर,शैलेन्द्र पाठक,प्रीति गुप्ता, डाँ विनीता जैन,प्रीतेश शाह,राधारमन शर्मा ब्रजेश सेन आरोन,जयश्री बौहरे,शिवम मैहरा,संजय साहू,हिन्दू सिंह धाकड़, मनोज धाकड़, नरेन्द्र शर्मा प्राचार्य विद्यासागर आरोन,दीपक चौरसिया, जगभान यादव,राजपाल प्रजापति, हर्षित शर्माअभिषेक केवट,,आयूष समाधिया कुशाग्र ब्रह्मभट्ट, प्राची राठौर,नेहा कुशवाह, प्रखर ब्रह्मभट्ट, उपस्थित रहे।अन्त में आभार संदीप मैहरा ने व्यक्त किया।

पुलिस महानिदेशक ने की वार्षिक पुरस्कारों की घोषणा- ई-डायरी से हुआ मूल्यांकन, राजगढ डीपीओ प्रदेश में प्रथम

राजगढ। पुलिस महानिदेशक/संचालक लोक अभियोजन म.प्र. भोपाल की ओर से अभियोजन अधिकारीगण के कार्यों एवं दक्षता का मूल्यांकन कर अभियोजन वार्षिक पुरस्कार योजना के तहत  वर्ष 2019 हेतु अभियोजन गौरव, श्रेष्ठ डीपीओ, श्रेष्ठ एडीपीओ, सहित अन्य कई पुरस्कारों की घोषणा की गई है। जिला अभियेाजन कार्यालय के मीडिया प्रभारी आशीष दुबे द्वारा जानकारी देते हुए बताया गया कि पुलिस महानिदेशक/संचालक लोक अभियोजन म.प्र. पुरूषोत्तम शर्मा भोपाल की ओर से अभियोजन अधिकारीगण के कार्यों एवं दक्षता का मूल्यांकन कर अभियोजन वार्षिक पुरस्कार योजना प्रारंभ की गई है। इस योजना के तहत मध्यप्रदेश में अभियोजन गौरव, मध्यप्रदेश में श्रेष्ठ डीडीपी, मध्यप्रदेश में श्रेष्ठ डीपीओ, मध्यप्रदेश में श्रेष्ठ एडिसनल डीपीओ, मध्यप्रदेश में श्रेष्ठ एडीपीओ को सार्वजनिक रूप से पुरस्कृत करने हेतु पुरस्कार योजना लागू की है। अभियोजन संचालनालय भोपाल की ओर से प्रति महिने अभियोजन अधिकारियों द्वारा दिन प्रतिदिन के न्यायालयीन एवं कार्यालयीन कार्रवाईयों के आधार पर अंक प्रदान किये जाते है, इसी प्रकार प्रत्येक जिले को भी इस प्रणाली में जोड़कर प्रदेश में प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय स्थान पाने वाले अभियोजन अधिकारीगणों को सम्मानित किया जा रहा है। इस योजना के तहत जिला अभियोजन अधिकारी राजगढ श्री आलोक श्रीवास्तव को वर्ष 2019 के लिए 2019 पुरस्कार से नवाजा गया है। डीपीओ श्री श्रीवास्तव ने वर्ष 2019 में मध्यप्रदेश के सभी जिला अभियोजन अधिकारियों के संवर्ग में सर्वाधिक अंक अर्जित कर मध्यप्रदेश में प्रथम स्थान प्राप्त किया है। श्री श्रीवास्तव ने यह उपलब्धि राजगढ जिले में पाॅक्सो एक्ट तथा चिन्हित जघन्य एवं सनसनीखेज अपराधों में सतत् पैरवी कर अपराधियों को दण्डित कराकर एवं न्यायालय में उपस्थित होने वाले अधिक से अधिक गवाहों की गवाही करवाकर, अपराधियों को सजा दिलवाकर तथा न्यायालय में विचारण के विभिन्न प्रक्रमों पर प्रकरणों में विभिन्न स्तर पर आवेदन प्रस्तुत कर प्रक्रियात्मक कार्य श्रेष्ठ तरीके से संपादित किया है। इसी आधार पर श्री श्रीवास्तव का चयन किया गया है । डीपीओ की इस उपलब्धि पर अभियोजन शाखा में हर्ष का माहौल है।

अभियोजन विभाग मे पुरस्कार हेतु नामांकित हुये अभियोजन अधिकारी

गुना। म.प्र. लोक अभियोजन विभाग के अंतर्गत अभियोजन अधिकारीगण के कार्यो एवं दक्षता का मूल्याकन  कर प्रोत्साहित करने की दृस्टि से संचालक पुरूषोत्ताम शर्मा लोक अभियेाजन म.प्र. भोपाल द्वारा श्रीमती मोसमी तिवारी इंदौर को ई ट्रेनिगं एवं जनसंपर्क कार्य हेतु Award for Best Innovation in Professional Working (अभियोजन गौरव) से सम्मानित किया गया, इस संवंध में गोपाल सिंह सिकरवार जनसंपर्क अधिकारी ग्वालियर ने जानकारी देते हुऐ बताया कि अमित शुक्ला एडीपीओ संचालनालय भोपाल को आई.टी. कार्य हेतु Award for Best Innovation in Professional Working (अभियोजन गौरव)सम्मानित किया  एवं उदयभान रघुवंशी एडीपीओ संचालनालय भोपाल को शासन में सम्‍न्‍वय एवं नवीन योजनाओं का क्रियान्वयन हेतु for Best Innovation in Professional Working (अभियोजन गौरव) से संमानित  किया गया एवं अमित जैन एडीपीओ सागर कोर्ट मोहर्रर पर नियंत्रण तंत्र की स्थापना for Best Innovation in Professional Working (अभियोजन गौरव) से सम्मानित किया गया  एवं शैलेन्द्र  कुमार शर्मा सहायक संचालक संचालनालय भोपाल संचालनालय स्तर पर कार्य समन्वय एवं प्रशासनिक व्यावस्था के लिये Award Significant contribution Professional Working (अभियोजन गौरव) से पुरूस्‍कृत किया गया एव अकरम शेख डीपीओ इंदौर को कार्यालय नवीनीकरण एवं रख-रखाव Award Significant contribution Professional Working (अभियोजन गौरव)  एवं श्रीमती सीमा शर्मा एडीपीओ रतलाम पुस्तक लेखन Award Significant contribution Professional Working (अभियोजन गौरव) एवं लोकेन्द्र  द्विवेदी एडीपीओ संचालनालय भोपाल को प्रकरण वा‍पसी संबंधी शासन की नीति का क्रियान्वयन के लिए Award Significant contribution Professional Working (अभियोजन गौरव) से सम्मानित किया गया। 

संत गाडगे जयंती पर आयोजित कार्यक्रम में रजक महासमाज करेगा पुलिस विभाग के दो कर्मचारियों का सम्मान

गुना। रजक समाज की  नाबालिक लड़की के अपहरणकर्ता को गिरफ्तार करने वाले सिटी कोतवाली के सबइंस्पेक्टर रासबिहारी शर्मा और साइबर सेल के मसीह खान का सम्मान करेगा,। रजक महासमाज मध्य प्रदेश संगठन के प्रदेश सचिव राजेश रजक माता पुरा ने बताया कि संगठन के प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण भड़ेरिया व अन्य पदाधिकारियों की छोटी बैठक में लिए गए निर्णय उपरांत बूढेबालाजी क्षेत्र से नाबालिग लड़की का अपहरण कर बलात्कार करने के मामले में, अपहरण व दुराचार करने के आरोपी को राजस्थान से गिरफ्तार कर लाने के लिए सिटी कोतवाली के सब-इंस्पेक्टर रासबिहारी शर्मा और साइबर सेल के प्रभारी मसीह खान का रजक महा समाज संगठन जिला इकाई गुना आगामी 23 फरवरी 2021 को संत गाडगे जयंती पर आयोजित कार्यक्रम में सम्मान करेगा। यह है पूरा मामलादिनांक 29 जून 2020 को फरियादी पिता द्वारा अपनी 15 वर्षीय नाबालिग पुत्री को किसी अज्ञात व्यक्ति द्वारा बहला-फुसलाकर ले जाने संबंधी रिपोर्ट थाना कोतवाली पुलिस को की गई थी। जिस पर से थाना कोतवाली पर अपराध धारा 363 भादवि का मामला पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया था।  उक्त बालिका को शीघ्र दस्तयाब कर आरोपी की गिरफ्तारी के लिए गुना पुलिस अधीक्षक तरुण नायक द्वारा कोतवाली थाना टीआई अवनीत शर्मा को निर्देश दिए गए थे। निर्देश के पालन में टीआई कोतवाली द्वारा बालिका को शीघ्र खोजने हेतु एसआई रासबिहारी शर्मा के नेतृत्व में एक टीम का गठन किया गया। टीम द्वारा तत्परता से कार्यवाही करते हुए अपहृत बालिका को कोटा राजस्थान से दस्तयाब कर लिया गया एवं बालिका ने पुलिस को बताया कि मुझे आरोपी सुरेंद्र रजक निवासी बारा राजस्थान मुझे बहला-फुसलाकर अपने साथ ले गया था। और जिसने मेरे साथ गलत काम भी किया  है। बालिका द्वारा बताए अनुसार पुलिस ने प्रकरण में धारा 366, 376 आईपीसी एवं 5/6 पाक्सो एक्ट का इजाफा कर आरोपी की तलाश कर उसे बारां राजस्थान से गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की गई है। उक्त सराहनीय कार्यवाही में कोतवाली थाना प्रभारी निरीक्षक अवनीत शर्मा, उनि रासबिहारी शर्मा, आरक्षक रामवीर रघुवंशी एवं महिला आरक्षक जागृति यादव का उल्लेखनीय योगदान रहा है।

हमारा काम केेवल विद्यालय चलाना नहींं, विचार फैलाना है- श्रीराम आरावकर

वेबिनार का शुभारंभ सरस्वती शिशु मंदि‍र, गुना में वि‍दयाभारतीकेे  प्रांत अध्यक्ष श्री शिरोमणि दुबे ने दीप प्रज्जवलन कर किया  

गुुुुना । विद्या भारती मध्यभारत प्रांत द्वारा पांच दिवसीय वेबिनार के द्वितीय दिवस सरस्वती शिशु मंदिरों का संचालन करने वाली प्रबंध समितियों के कार्य कर्ताओंं  ’’ शिशुमंदिर योजना और हमारा दायित्व’’ विषय पर राष्टंीय महामंत्री श्री श्रीराम जी आरावकर ने मार्ग दर्शन किया ।
श्री श्रीराम आरावकर ने कहा कि कई बार बुराई में से अच्छाई निकलती है । आनलाईन मीटिंग का महत्व हम सभी को लाॅकडाउन मं े समझ में आया हम इसके लिए सिद्ध हो रहे है ं, चुनौती में प्राप्त यह एक सुनहरा अवसर है।
श्री आरावकर ने कहा कि विद्याभारती में 35 लाख छात्र एवं 22 हजार विद्यालय हैं यह तंत्र क ैसे चलता है। प्रांत को चलाने वाले प्रांत एवं विद्यालय मं े समिति के सदस्य के रूप में बैठे हैं। हमारी रचना बिल्कुल अलग तरह की है। कार्य की विकास यात्रा को देखने पर पता चलता है कि काम नीचे से शुरू हुआ । देश का पहला विद्यालय 1952 मं े गोरखपुर से तथा मध्यप्रदेश में 1959 मेें रीवा में प्रारंभ हुआ। क्रियान्वयन का कार्य विद्यालय की समितियां करती हैं कुछ प्रांतों में समिति क ुछ में जिला समिति एवं कुछ में स्थानीय समितियां पंजीक ृत हैं।
श्री आरावकर ने कहा कि हमारा विचार परिवार का केन्द्र एक है परन्तु अलग-अलग स्थानों पर अलग तरह से कार्य होता है मध्यभारत भोपाल, धार ,मुरैना,ग्वालियर के विद्यालय काफी पुराने हैं। जब कार्य का प्रारम्भ हुआ तो अधिकारियों ने स्थान-स्थान पर बैठकें ली। इनमें संघ क े स्वयंसेवक और नगर के प्रतिष्ठित लोग थे। अपनी क्षमता एवं परिश्रम से कार्यकर्ताओ ं ने कार्य को आगे बढाया, नये कार्यकर्ता आये, कार्यकर्ताओं की पीढी बदलती रही है।
देश में मध्यप्रदेश का कार्य एवं परिणाम अच्छा है हित चितं कों की शुभकामनाओं से यह कार्य हुआ है। समिति के पास अनेक कार्य  है प्रशासनिक,शैक्षिक एवं संगठनात्मक । कार्य  क े समय हमारी दृष्टि समन्वित रहनी चाहिए। समिति के कार्य  का
तरीका विशेष है संवाद एवं प्रेम तथा विश्वास से कार्य होता है। हमारी कार्य पद्धति में नियमित बैठके ं होनी चाहिए। समिति में वंचित वर्ग,महिला एवं कमजोर वर्ग का प्रतिनिधित्व होना चाहीए। महिला सदस्यों की बात सम्मान से सुनना चाहिए हमारे विद्यालयों मे ं 70 प्रतिशत दीदियां पढ ़ाती है वहीं छात्रों में 55 प्रतिशत बहिने है अतः महिला सदस्य का प्रतिनिधित्व होना ही चाहिए।
हमारे विद्यालय के कार्यों के लिए उपसमिति बने और कार्य करे। वर्तमान प्रबन्ध समिति को पूर्ववर्ती कार्यकर्ताओ ं के प्रति सदवे सकारात्मक कृतज्ञता का भाव रखना चाहिए। यद्यपि शैक्षिक दृि ष्ट से मलू कार्य प्रधानाचार्य एवं आचार्यो का है परन्तु ठीक मुल्यांकन हेतु शैक्षिक टोली मं े योग्य कार्यकर्ता जोड़ने चाहिए। आचार्यों का योग्य प्रशिक्षण हो जिससे उनकी गुणवत्ता विकसित हो। प्रशासनिक पक्ष के अन्तर्गत पंजीक ृत समितियों को शासन के नियमा ें का पूर्णतः परिपालन करना चाहिए।
वेबिनार का शुभारंभ सरस्वती शिशु मंदि‍र, गुना में प्रांत अध्यक्ष श्री शिरोमणि दुबे ने दीप प्रज्जवलन कर किया। सरस्वती वंदना सरस्वती शिशु मदिर, भरतगढ़ दतिया मं े हुई । व्यक्तिगत गीत गोपालपुर रायसेन की प्राचार्या श्रीमती नीता गोस्वामी का हुआ। वेबिनार में प्रांत के सरस्वती शिशु मंि दरों का संचालन करने वाली प्रबंध समितियों के पदाधिकारी सम्मिलित हुए।

तेज, त्याग, तप और तर्क थी विनायक की पहचान, सावरकर की ही प्रेरणा से नेताजी ने बनाई थी आजाद हिंद फौज वीर सवारकर जयंती पर हिउस की चिंतन संगोष्ठी आयोजित

गुना। तेज, त्याग, तप और तर्क ही वीर विनायक दामदोर सावरकर की पहचान थी। वीर सावरकर की ही प्रेरणा से नेताजी सुभाषचंद बोस ने आजाद हिंद फौज बनाई थी। वीर सावरकर को ब्रिटिश सरकार विरोधी गतिविधियों के आरोप में गिरफ्तार कर लिया। समुन्द्र के रास्ते उन्हें भारत लाया जा रहा था। वीर सावरकर का साहस था कि वो समुंद्र में कूद कर भाग निकले। भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के इतिहास में वो नाम, जिसे अंग्रेजी हुकूमत ने सबसे कड़ी सजा दी। सजा काले पानी की, वो भी एक नहीं दो बार, यानी 50 वर्षों के लिए। पूरे इतिहास में इतनी लंबी सजा किसी भी स्वतन्त्रता सेनानी या क्रांतिकारी को नहीं दी गई। उक्त विचार विराट हिन्दू उत्सव समिति द्वारा चिंतन हाउस सर्राफा बाजार में वीर सावरकर जयंती के मौके पर आयोजित चिंतन संगोष्ठी में हिउस प्रमुख कैलाश मंथन ने व्यक्त किए। श्री मंथन ने कहा कि वीर सावरकर एक महान विचारक, साहित्यकार, इतिहासकार और समाज सुधारक थे। सावरकर ने अखंड भारत का सपना देखा। वे छुआ-छुत और जाति भेद के  घोर विरोधी थे। उनकी पुस्तक भारत का प्रथम स्वतंत्रता समर 1857 ने अंग्रेजों की जड़े हिला दी थी। अंग्रेजों के अंदर फिर से 1857 जैसी स्वन्त्रता संग्राम का डर समा गया। वे पहले भारतीय थे जिन्होंने 1905 में स्वदेशी का नारा दे कर विदेशी कपड़ों की होली जलाई थी। सावकर ऐसे भारतीय थे जिन्होंने ब्रिटिश साम्राज्य की राजधानी लंदन जा कर क्रांतिकारी आंदोलन को संगठित किया।
इस मौके पर श्री मंथन ने विनायक दामोदर सावरकर के जीवन पर प्रकाश डालते हुए बताया कि उनका जन्म 28 मई, 1983 को नासिक जिले के भंगुर गांव में हुआ था। पिता का नाम दामोदर और माता का नाम राधा बाई था। विनायक तीन भाई थे और इनकी एक बहन थी, मैना। तीनों भाई गणेश, विनायक और नारायण क्रांतिकारी थे। सावरकर बचपन से ही क्रांति की मशाल मन में जला चुके थे। चापेकर बंधुओं के बलिदान और लोकमान्य तिलक के बाद देश में गुस्से का माहौल था। उसी समय विनायक भी क्रांति की ज्वाला में धधक उठे। 1901 में एडवर्ड सप्तम का राज्याभिषेक हुआ जिसके विरोध में सबसे पहले वीर सावरकर ने आंदोलन किया और ब्रिटिश साम्राज्य से मुक्ति की मांग की। सावरकर ने बॉम्बे विश्वविद्यालय से बीए की परीक्षा पास की और कानून की पढ़ाई करने  जून 1906 में लंदन आ गए। लंदन में सावरकर भारतीय छात्रों में राष्ट्रधर्म की अलख जगाने लगे। वहां वे क्रांतिकारियों की टोली बनाने लगे। सावरकर युवाओं के प्रेरणास्रोत बन गए। लंदन में ही उन्होंने 1857 के संग्राम की स्वर्ण जयंती मनाई। लंदन में ऐसा पहली बार था जब भारतीय छात्र जो लंदन यूनिवर्सिटी में पढ़ते थे सड़कों पर वंदे मातरम का बिल्ला लगा कर निकले। इस अवसर पर चिंतन मंच के प्रमुख कार्यकर्ता विवेक किशोर गर्ग, प्रदीप सोनी, मनोज शर्मा, विष्णु श्रीवास्तव आदि उपस्थित थे। ऑनलाईन गोष्ठी में अनेकों कार्यकर्ताओं ने हिस्सेदारी की।

इंडियन मानव अधिकार एसोसिएशन की प्रदेश अध्यक्ष श्रीमती शशि अहिरवार आज करेगी समाजसेवी महिलाओं को सम्मानित

गुना ।  अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर बी.जी रोड हड्डी मील पर महिलाओं का सम्मान समारोह कार्यक्रम का आयोजन श्रीमति शशि अहिरवार द्वारा रखा गया है । 
श्रीमति अहिरवार ने बताया कि सम्मान समारोह मैं जीव एकता फाउंडेशन एवं स्वसित फाउंडेशन के तत्वाधान में इंडियन मानव अधिकार एसोसिएशन की प्रदेश अध्यक्ष शशि अहिरवार द्वारा जिले की महिला प्रतिभाओं को सम्मानित किया जाएगा ! सम्मान समारोह मैं दिल्ली से आये अधिकारियों की उपस्थिति रहेगी आयोजित किया जा रहा है  कार्यक्रम में उन महिलाओं को सम्मानित किया जाएगा जो सामाजिक कार्य मै निरंतर कार्य कर रही है ,  ऐसी महिलाओं का सम्मान किया जाएगा । 

गाडगे जयंती पर घर घर जलेंगे घी के दीपक ,रजक महासमाज महिला इकाई की बैठक संपन्न

गुना । रजक समाज के आराध्य देव और राष्ट्रीय संत, संत श्री गाडगे बाबा की 144 वी जयंती के लिए महिला इकाई की बैठकों का दौर जारी है। बैठक में लिए गए निर्णय के उपरांत बाबा की जयंती के दिन समाजजन की महिलाएं घर-घर घी के दीपक जलायेगी। रजक महासमाज मध्य प्रदेश की संभाग मंत्री श्रीमती सीता रजक जिलाध्यक्ष श्रीमती रेखा रजक ने जानकारी देते हुए बताया कि रजक महासमाज संगठन जिला इकाई गुना के द्वारा प्रति वर्ष अनुसार इस वर्ष भी 23 फरवरी 2020 को संत श्री गाडगे बाबा की जयंती मानस भवन गुना में दोपहर 2 :00 बजे से धूमधाम से मनाई जाएगी। रजक महासमाज के प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण भडेरिया के निर्देश पर महिला इकाई के द्वारा शहर में बैठकों का दौर जारी है। आज हुई पुरानी छावनी जोगी मोहल्ला की बैठक में निर्णय लिया गया कि संत गाडगे बाबा की जयंती रजक समाज के लिए दीपावली से कम नहीं है। इस कारण इस दिन रजक समाज के घर-घर घी के दीपक जलाने का निर्णय संगठन की महिलाओं ने लिया है और बाबा की जयंती में अधिक से अधिक समाजजनों, महिलाएं बच्चे आए इसे हेतु रजक समाज के घर-घर जाकर आमंत्रण पत्र बांटने का निर्णय भी लिया गया है। आज हुई बैठक में रजक महासमाज संगठन की संभाग मंत्री श्रीमती सीता रजक, जिला अध्यक्ष श्रीमती रेखा, रजक युवा जिला अध्यक्ष श्रीमती सीमा रजक, श्रीमती शारदा रजक, श्रीमती राधा रजक, श्रीमती रानी रजक, श्रीमती उषा, श्रीमती संगीता, मुन्नी बाई, प्रेम भाई, कांता रजक, सहित अन्य महिला उपस्थित थीं।

ब्रह्मभट्ट ब्राह्मण समाज करेगा प्रतिभाओं का सम्मान

गुना । ब्रह्मभट्ट ब्राह्मण समाज अपनी आराध्या देवी माँ सरस्वती के प्राकट्य दिवस वसंत पंचमी पर वसंतोत्सव मनायेगा एवं समाज की प्रतिभाओं का सम्मान करेगा।ब्रह्मभट्ट ब्राह्मण समाज के उपाध्यक्ष एवं मीडिया प्रभारी जितेन्द्र ब्रह्मभट्ट ने बताया कि माँ सरस्वती जी का प्राकट्य दिवस सम्पूर्ण देश में मनाया जाता है। माँ सरस्वती के द्वारा ही ब्रह्मभट्ट समाज की उत्पत्ति हुई है इसलिए यह दिन हम सब के लिए विशेष है। ब्रह्मभट्ट ब्राह्मण समाज में अनेक ऐसी प्रतिभा का जन्म हुआ है जो अनादि काल से लेकर अव तक शिक्षा,साहित्य सृजन,ज्योतिष, संगीत,अध्यात्म एवं अन्य क्षैत्रों अपनी अद्भुत प्रतिभा के माध्यम से अपनी उपस्थिति अंकित कराते रहे है। ब्रह्मभट्ट ब्राह्मण समाज की ओर से स्थानीय चित्रगुप्त धर्मशाला जाट मोहल्ला में प्रातः 10:बजे से सरस्वती पूजन एवं वसंतोत्सव का आयोजन किया जायेगा।जिसमें समाज की प्रतिभाओं का सम्मान भी किया जायेगा। समाज की बाल प्रतिभाऐं अपने आकर्षक सांस्कृतिक कार्यक्रम भी प्रस्तुत करेगी।

कार्यालय पर सम्पन्न हुई अहिरवार समाज संघ की बैठक

गुना । रविवार को अहिरवार समाज संघ कार्यालय श्री राम कॉलोनी गुना में अहिरवार समाज संघ की बैठक कन्हैया राम अहिरवार जिला अध्यक्ष व मीनू मोर्या महिला प्रकोष्ठ जिला अध्यक्ष की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई। जिसमें उपस्थित सभी लोगो की सहमति से जिला अधिवेशन ओर युवक युवती परिचय सम्मेलन करने का निर्णय लिया गया। जिसमे सभी पदादिकारीयो द्वारा अपने अपने विचार व्यक्त किए गए। जिलाध्यक्ष व उपस्थित लोगों के सहमति से बिधि प्रकोष्ठ कार्यवाहक अध्यक्ष महेश कुमार अहिरवार को बनाया गया। बैठक में मुख्य रूप से उपस्थित अशोकनगर जिलाध्यक्ष नथन सिंह महोविया, जिला उपाध्यक्ष संतोष भारतीय,युवा प्रकोष्ठ उपाध्यक्ष ब्रजेश बघेला, सचिव आनन्द बमेनिया,महा सचिव मनोज जाटूआ, ब्लॉक अध्यक्ष आरोन गंगा राम जी ,रामसिंह उपाध्यक्ष आरोन,रामभरोसा जिला उपाध्यक्ष पूर्व पार्षद, चंद्रप्रकाश अहिरवार,सचिन युवा प्रकोष्ठ अध्यक्ष कुम्भराज ,ब्रह्म दास जी,रमेश अहिरवार, परमाल जी ओमकार लाल,बनेह सिंह,अरुण,नितिन खरे,महेंद्र सिंह,बिष्णु बघेला ,राजेन्द्र सिंह,भगवान सिंह नगमा अहिरवार आदि लोग मुख्य रूप से उपस्थित रहे। कार्यक्रम का संचालन युवा प्रकोष्ठ जिला अध्यक्ष हरिकिशन खरे ने किया अंत मे सभी का आभार तहसील अध्यक्ष भंवर लाल ने माना।