राष्ट्रीय उपलब्धि सर्वेक्षण के सफल क्रियान्वयन के लिए जिले में सघन मॉनिटरिंग अभियान जारी

गुना ।  राष्ट्रीय उपलब्धि सर्वेक्षण   2017 के बाद 12 नवम्बर 2021 को NCERT द्वारा  पूरे भारत वर्ष के  प्रत्येक राज्य के प्रत्येक जिले के चयनित शालाओं में करवाया जा रहा है।  राष्ट्रीय स्तर पर विद्यार्थियों के अधिगम स्तर को जानने हेतु सीखने के प्रतिफल के आधार पर NAS के आयोजन का किया जा रहा है।जिसका मुख्य उद्देश्य शैक्षिक तंत्र की वास्तविक  गुणवत्ता को उजागर करना है।कक्षा 3,   5,  8 व 10 हेतु शासकीय  के साथ साथ अशासकीय शालाओं में  भी आयोजित किया जाएगा ।  गुना जिले की विगत उपलब्धि में अधिकतम गुणात्मक अभिवृद्धि हेतु प्रयास जारी हैं।
आगामी NAS एक ही चरण में 12 नवम्बर को चयनित विद्यालयों में संपादित होगा जिसमें कक्षा 3, 5, 8 व 10 के लिए विद्यार्थियों की अधिगम क्षमता का आंकलन सीखने के प्रतिफलों के आधार पर किया जायेगा। कक्षा 3  .5 व 8 के विषयों की अधिगम क्षमता को अभिवर्धित करने हेतु सीखने के प्रतिफल आधारित प्रश्न बैंक सभी शालाओं को  उपलब्ध करा दिये गये हैं जिनके माध्यम से जिले के शिक्षक छात्रों की तैयारी  करने में  जुटे  हैं।

NAS एक परिचय :
आरटीई एक्ट 2009 के अंतर्गत 6 से 14 आयु वर्ग के बच्चों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा का अधिकार प्रदान किया गया है इस एक्ट में प्रत्येक विद्यार्थी के सीखने को सुनिश्चित करने पर बल दिया गया है। प्रत्येक कक्षा स्तर पर बच्चों की शैक्षिक उपलब्धि को जानना आवश्यक है। इस हेतु नियमित अंतराल पर राष्ट्रीय उपलब्धि सर्वेक्षण (NAS) का आयोजन किया जाता है । राष्ट्रीय उपलब्धि सर्वेक्षण पूरे देश में किया जाने वाला दक्षता आधारित सर्वे है। यह सर्वे राष्ट्रीय स्तर पर एन .सी.ई.आर.टी .द्वारा प्रति  तीन वर्ष के अंतराल से आयोजित किया जाता है  यह सर्वेक्षण सीखने के प्रतिफल पर आधारित होता है। गत NAS नवम्बर 2017 में आयोजित हुआ था। आगामी
NAS 12 नवम्बर 2021 को होना प्रस्तावित है।
NAS हेतु प्रस्तावित कक्षावार विषय :कक्षा सम्मिलित विषय :- कक्षा 3 भाषा, गणित, पर्यावरण अध्ययन कक्षा 5  भाषा, गणित, पर्यावरण अध्ययन कक्षा 8 भाषा, गणित, विज्ञान, सामाजिक विज्ञान कक्षा 10 अंग्रेजी, गणित, विज्ञान, सामाजिक विज्ञान, आधुनिक भारतीय भाषा विषयों का होगा।NAS टेस्ट प्रबंध DIET के साथ जिला परियोजना समन्वयक के द्वारा  विस्तृत कार्य योजना ब नाई जाकर  कार्य जिला कलेक्टर महोदय गुना की निगरानी में कार्य किया जा रहा है।
महत्वपूर्ण पहलू : जिला स्तर पर प्रभावी मॉनिटरिंग की व्यवस्था की गई है जिसमें विषय विशेषज्ञों के जिला कोर समिति के साथ-साथ शिक्षा विभाग के अलावा अन्य विभागों के अधिकारी कर्मचारियों को भी एन ए एस की तैयारी की मॉनिटरिंग हेतु दल बनाए गए हैं जो विभिन्न विद्यालयों में जाकर एन .ए .एस .से संबंधित तैयारी का जायजा ले रहे हैं जिला कोर समिति के मॉनिटरिंग के बाद देखने में आया है कि कई विद्यालयों में शिक्षकों द्वारा प्रभावी शिक्षण की योजना बनाकर छात्रों को अभ्यास कार्य कराया जा रहा है तथा  अभ्यास कार्य का विश्लेषण कर रहे हैं एवं दैनिक अभ्यास कार्य की दैनिक डायरी भी संधारित कर रहे हैं परंतु कई विद्यालयों में उदासीनता देखने को मिल रही है जिसमें शिक्षक इस कार्य को गंभीरता से नहीं ले रहे हैं उनके द्वारा प्रभावी ढंग से इस कार्य में सहयोग नहीं किया जा रहा है।जबकि समय-समय पर विद्यालय के शिक्षकों जन शिक्षकों से लेकर सभी हमले को उन्मुखीकरण हेतु कार्यशाला का आयोजन किया गया है।जिले में आगामी  12 नवम्बर को होने वाली  परीक्षा की तैयारी हेतु बनाई गयी सामग्री  प्रश्न बैंक को सभी  विद्यालयों के लिए उपलब्ध करा दिया गया है।जिले के लिए कक्षा प्रक्रियाओं और बच्चों के प्रदर्शन में  बेहतर सुधार के लिए रणनीति तैयार की गई है। विषय विशेषज्ञ दल को भी जिले में शिक्षकों के एकेडमिक सहयोग के लिए टीम ऑन द स्पॉट शिक्षकों की समस्याओं का समाधान कर रही है तथा आवश्यक सहयोग परामर्श देकर तैयारी में लगी हुई है।डाइट प्राचार्य श्याम  कुमार वशिष्ठ ने बताया कि जिले का 2017 की अपेक्षा बेहतर प्रदर्शन के लिए सभी जिले का अमला  बेहतर परिणाम की आशा में जुटा हुआ है आशा है  कलेक्टर महोदय के दिशा निर्देशन में गुना जिले में शिक्षा विभाग की तैयारियों  को देखते हुए परिणाम आशा जनक प्राप्त होंगे। डिप्टी कलेक्टर एवं जिला परियोजना समन्वयक  सोनम जैन  जिला एकेडमिक  समन्वयक नवल मिश्रा एवं डाइट प्राचार्य द्वारा जिले के शिक्षकों को  2:30 बजे से 5:30 बजे तक एन. ए. एस. की  विशेष तैयारी हेतु कक्षाएं संचालित करने के निर्देश दिए गए हैं ।

राष्ट्रीय उपलब्धि सर्वेक्षण की तैयारी को लेकर डाइट में कार्यशाला का आयोजन

गुना ।  डाइट बजरंगढ़ गुना में समस्त विकास खंडों के बी.आर.सी .समस्त बी.ए .सी. एवं समस्त सी.ए.सी के ओरियंटेशन में डी.पी.सी. गुना की समस्त टीम उपस्थित रही कलेक्टर के निर्देश पर सभी सी.ए.सी. एवं बी.ए.सी. बंधुओं ने मॉक टेस्ट स्वयं हल किया इस हेतु 1 घंटे का समय दिया गया एवं विज्ञान गणित के सी.ए. सी .ने विज्ञान एवं गणित के 30 प्रश्न एवं कला वाले सी.ए. सी.में हिंदी एवं सामाजिक ज्ञान के 30 प्रश्न हल किए अब सी.ए.सी. इसी प्रकार अपने अपने जन शिक्षा केंद्र पर समस्त शिक्षकों से इन मॉक टेस्ट को हल कराएंगे और उनके स्कोर साझा करेंगे और शिक्षक वार विश्लेषण करेंगे।राष्ट्रीय उपलब्धि सर्वेक्षण की तैयारी को लेकर जिला शिक्षा केंद्र एवं डाइट के द्वारा यह कार्यशाला आयोजित की गई थी जिसमें राष्ट्रीय उपलब्धि सर्वेक्षण की लिए कक्षा तीन पांच एवं आठ के छात्रों के टेस्ट की तैयारी को लेकर विभाग जोरों से  तैयारियों में लगा हुआ है जिसके लिए जिला स्तर पर एवं विकासखंड स्तर पर टीमें गठित की गई हैं जो राष्ट्रीय सर्वेक्षण टेस्ट की तैयारी के लिए अपने-अपने दायित्वों के पालन में सभी कर्मचारी लगे हुए हैं विभाग के अलावा अन्य विभाग के कर्मचारियों की ड्यूटी भी कलेक्टर द्वारा लगाई जा रही है।जन शिक्षक बी .आर .सी. एवं  बी .ए. सी.अब इन टेस्टों की तैयारी के लिए शिक्षकों का सहयोग कर छात्रों के लिए मॉक टेस्ट हेतु तैयार करेंगे और छात्रों की समस्याओं का समाधान करेंगे ताकि जिले का  इसको जिला स्तर पर राज्य स्तर पर एवं राष्ट्रीय स्तर पर सर्वेक्षण का परिणाम बेहतर हो सके। डिप्टी कलेक्टर एवं जिला परियोजना समन्वयक जिला शिक्षा केंद्र गुना एवं प्राचार्य डाइट  के मार्गदर्शन में  प्रदर्शन बेहतर करने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं।

कलेक्‍टर ने मृगवास हाई स्‍कूल का निरीक्षण किया, अनुपस्थित पाये जाने पर प्राचार्य और शिक्षकों को कारण बताओ नोटिस जारी किया

गुना । कलेक्‍टर ने क्षेत्र भ्रमण के दौरान स्‍थानीय हाई स्‍कूल का निरीक्षण किया। जहां पर कक्षा 9वीं और 10वीं के बच्‍चे अध्‍ययन करते हुए पाये गये। कलेक्‍टर ने बच्‍चों से चर्चा की। कलेक्‍टर ने सोशल डिस्‍टेंसिंग और मास्‍क का विशेष ध्‍यान रखने के निर्देश दिए। कलेक्‍टर ने उपस्थिति के संबंध में जानकारी ली। विद्यालय के प्राचार्य अनुपस्थित पाये गये। कुछ शिक्षक हस्‍ताक्षर करने के उपरांत नदारद मिले। कलेक्‍टर ने प्राचार्य राजकुमार अहिरवार और अतिथि शिक्षक रेखा शर्मा, पीटीआई शिक्षक अटारिया की अनुपस्थिति को गंभीरता से लेते हुए अनुपस्थित प्राचार्य व शिक्षकों को कारण बताओ नोटिस जारी करने के निर्देश जिला शिक्षा अधिकारी को दिए।

20 सितंबर से खुलेंगे पहली से 5 वी तक के स्कूल, स्कूल शिक्षा विभाग ने लिया बड़ा निर्णय

स्कूल शिक्षा विभाग ने बड़ा निर्णय लेते हुऐ कक्षा एक से पाँचवीं तक के स्कूलों को खोलने का आदेश जारी किया है 20 सितंबर से कक्षा पहली से पांचवी तक के स्कूल खुलेंगे कक्षा आठवीं, दसवीं और बारहवीं के छात्रावास शत-प्रतिशत क्षमता के साथ संचालित होंगें ।प्रदेश के सभी शासकीय, अशासकीय विद्यालयों में कक्षा पहली से पांचवी तक की प्राथमिक स्तर की कक्षाएं 50% क्षमता के साथ 20 सितंबर से संचालित हो सकेगी । सचिव, स्कूल शिक्षा विभाग प्रमोद सिंह ने बताया कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के निर्देश और प्रदेश में कोविड-19 संक्रमण की परिस्थितियों को ध्यान में रखकर यह निर्णय लिया गया है।कक्षा 11वीं के विद्यार्थियों के लिए भी स्कूल और छात्रावास खोले जायेगे लेकिन छात्रावास में उनकी कुल क्षमता के 50% से अधिक विद्यार्थी उपस्थित नहीं होंगे। विद्यालय और छात्रावास में अभिभावकों की सहमति से ही विद्यार्थी उपस्थित हो सकेंगे।
आवासीय विद्यालयों को खोले जाने के संबंध में जिला आपदा प्रबंधन समिति की सहमति ली जायेगी। विद्यालयों और छात्रावासों में भारत सरकार और राज्य स्तर से समय-समय पर जारी एस.ओ.पी. और कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन किया जाएगा।

शिक्षक दिवस पर वेबीनार के माध्‍यम से होगा राज्‍य स्‍तरीय शिक्षक सम्‍मान आयोजन, एनआईसी गुना में व्‍ही.सी. के माध्‍यम से संपन्‍न होगा कार्यक्रम

गुना । प्रतिवर्ष की भांति पूर्व राष्‍ट्रपति डॉ.सर्वपल्‍ली राधाकृष्‍णन के जन्‍म दिवस आज 5 सितंबर शिक्षक दिवस के अवसर पर राज्‍य स्‍तरीय शिक्षा सम्‍मान समारोह होगा। जिसमें चयनित शिक्षकों को 25 हजार रूपये की राशि, प्रशस्ति पत्र, शाल-श्रीफल से सम्‍मानित किया जायेगा। कोविड-।9 को दृष्टिगत रखते हुए यह समारोह ऑनलाईन वेबीनार के माध्‍यम से आयोजित होगा। गुना एनआईसी में गुना की शिक्षिका डॉ. सारिका जैन को सम्‍मानित किया जायेगा। 

डिप्‍टी कलेक्‍टर एवं डीपीसी ने किया स्‍कूलों का निरीक्षण

गुना । मध्‍यप्रदेश सरकार द्वारा कोरोना गाइड लाइन का पालन करते हुए कक्षा 6 से  ऊपर के स्‍कूल खोलने की अनुमति दी है। जिसके पालन में स्‍कूल खोले गये हैं।    डिप्‍टी कलेक्‍टर एवं प्रभारी अधिकारी जिला शिक्षा केन्‍द्र श्रीमति सोनम जैन ने गुना नगर के जाटपुरा एवं कर्नलगंज के स्‍कूलों का निरीक्षण किया। उन्‍होंने बताया कि स्‍टूडेंट मास्‍क के साथ सोशल डिस्‍टेंसिंग का पालन करते हुए पाये गये। शासन के यह हैं निर्देशसमस्त शासकीय प्राथमिक/ माध्यमिक/ हाईस्कूल/ हायर सेकण्‍डरी विद्यालयों में शैक्षणिक एवं गैर शैक्षणिक स्टाफ कार्य दिवसों में शत प्रतिशत उपस्थित रहेगा।शालाओ में कार्यरत समस्त शैक्षणिक/ गैर शैक्षणिक अमले को टीके का कम से कम 01 डोज लगा हो, यदि किसी स्टाफ द्वारा 1 भी डोज का टीकाकरण नही करवाया गया हो तो सबधित का तत्काल टीकाकरण कराया जाये।प्राचार्य/ प्रधानाध्यापक/ शाला प्रमुख अपने स्तर से शाला में दर्ज विधार्थियों की संख्या एवं उपलब्ध अधोसंरचना के आधार पर कोचिड-19 प्रोटोकॉल का पालन करते हुए अधिकतम 50 प्रतिशत क्षमता से कक्षावार शाला के संचालन के संबंध में निर्णय ले सकेंगे।अभिभावकों की सहमति से विद्यार्थी कक्षा में नियत दिवस मे उपस्थित हो सकेंगे। शालाओं में कक्षावार नियत दिवसों के अतिरिक्त अन्य दिवसों में ऑनलाईन कक्षाएं पूर्ववत संचालित की जा सकेंगी।दूरदर्शन एवं व्हाटसएप गुप पर शैक्षिक सामग्री का प्रसारण पूर्ववत जारी रहेगा।विद्यालय में प्रार्थना सभा, स्वीमिग पूल इत्यादि सामूहिक गतिविधियां प्रतिबधित रहेंगी। किसी भी स्थिति में विद्यार्थी एक स्थान पर एकत्रित न हो इस बात की विशेष निगरानी रखी जाये।यदि विद्यालय द्वारा परिवहन सुविधा का प्रबंध किया जा रहा है तो बसों/ परिवहन के अन्य साधनों में समुचित भौतिक दूरी सुनिश्चित करते हुये 50 प्रतिशत क्षमता से परिवहन किया जायेगा और बसों/अन्य परिवहन वाहनों का 1 प्रतिशत सोडियम हाईपोक्लोराईट के उपयोग से सेलेटाईजेशन सुनिश्चित किया जायेगा।स्कूलों मे भारत सरकार/राज्य स्तर से जारी (स्‍टेण्‍डर्ड ऑपरेट प्रोसीजर) समय- समय पर जारी एस.ओ.पी. एवं कोविड प्रोटोकॉल का पालन किया जाना अनिवार्य होगा।शालाओं के संचालन से पूर्व संस्‍थान के सेनेटाईजेशन, शाला परिसर की साफ-सफाई, रख-रखाव की कार्यवाही आवश्‍यक रूप से की जाये तथा नियमित साफ-सफाई का विशेष ध्‍यान रखा जाये।

शासकीय और अनुदान प्राप्त प्राथमिक तथा माध्यमिक शालाओं में होगा गठनशाला प्रबंधन समितियों का गठन 9 सितम्‍बर को

गुना । सभी शासकीय और अनुदान प्राप्त प्राथमिक, माध्यमिक एवं संयुक्‍त माध्‍यमिक शालाओं में शाला प्रबंधन समितियों का गठन 9 सितम्‍बर को होगा। संचालक राज्य शिक्षा केन्द्र धनराजू एस. ने बताया कि शिक्षा का अधिकार अधिनियम के अंतर्गत शालाओं के बेहतर प्रबंधन एवं शैक्षिक गतिविधियों के क्रियान्वयन के लिए शाला प्रबंधन समितियों का गठन किया जाता है। ये समितियाँ बच्चों के शालाओं में नामांकन, नियमित उपस्थिति, गुणवत्तायुक्त शिक्षा और अधोसंरचनात्मक कार्यो के साथ बच्चों के बहुआयामी विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। इस संबंध में सभी जिलों के कलेक्‍टर्स को स्कूल मैनेजमेंट कमेटी (एसएमसी) गठन के लिए समुचित व्‍यवस्‍थाएं सुनिश्चित करने विस्‍तृत निर्देश जारी कर दिए है।प्रदेश में लगभग 90 हज़ार प्राथमिक, माध्यमिक एवं संयुक्त माध्यमिक स्कूलों में गठित होने वाली समितियों का कार्यकाल आगामी 2 शैक्षणिक सत्रों के लिए निर्धारित है। शाला प्रबंधन समितियों के 18 सदस्यों में शाला में अध्ययनरत् बच्चों के पालक, शाला के प्रधान शिक्षक, वरिष्ठतम् महिला शिक्षिका तथा स्थानीय वार्ड के पंच/पार्षद तथा स्थानीय निकाय के सरपंच/अध्यक्ष/महापौर द्वारा नामित अन्य वार्ड की एक महिला पंच/पार्षद के रुप में निर्चाचित जनप्रतिनिधि भी शामिल रहते हैं। इन समितियों के अध्‍यक्ष एवं उपाध्‍यक्ष का चयन विद्यार्थियों के अभिभावकों में से किया जाता है। वहीं शाला के प्रधान शिक्षक समिति के सदस्‍य सचिव होते हैं। शासन द्वारा शाला के स्थानीय प्रबंधन के अधिकार भी इन समितियों को सौंपे गए हैं। श्री धनराजू ने स्‍कूल शिक्षा विभाग द्वारा शासकीय एवं अनुदान प्राप्त स्कूलों में अध्ययनरत् विद्यार्थियों के पालकों एवं अभिभावकों से 9 सितम्‍बर को स्कूल पहुँचकर, शाला प्रबंधन समिति से जुड़ने और शालाओं के विकास कार्यों में सहभागी बनने का आग्रह किया गया है। 

परिस्थिति अनुकूल होने पर शुरू करें ऑफलाइन क्‍लास – कलेक्‍टर

गुना । केन्‍द्रीय विद्यालय समिति की तिमाही बैठक कलेक्‍टर फ्रेंक नोबल ए. की अध्‍यक्षता में संपन्‍न हुयी, जिसमें प्राचार्य मोहम्‍मद तनवीन, इंजीनियर पीके श्रीवास्‍तव, अशासकीय सदस्‍य विनीता शर्मा तथा अन्‍य सदस्‍यगण मौजूद रहे। बैठक में विभिन्‍न मुद्दों पर विचार-विमर्श कर निर्णय लिया गया। बैठक में अशासकीय सदस्‍य विनीता शर्मा ने मांग रखी कि जिस प्रकार 11वीं एवं 12वीं की ऑफलाईन क्‍लासेज प्रारंभ हुयी हैं, उसी प्रकार अन्‍य कक्षाओं की ऑफलाईन कक्षाएं प्रारंभ की जाएं। इस संबंध में कलेक्‍टर ने निर्देश दिए कि अभी कोरोना का खतरा मौजूद है। जैसे ही परिस्थितियां सामान्‍य होती हैं, ऑफलाईन क्‍लासेज प्रारंभ करें। बैठक में विद्यालय परिसर एवं विद्यालय भवन में चिक मरम्‍मत के कामों पर चर्चा के दौरान कलेक्‍टर ने ईई पीके श्रीवास्‍वत व एसडीओ एमएल गुप्‍ता को निर्देश दिए कि केन्‍द्रीय विद्यालय में चिक मरम्‍मत के कार्य कराए जाएं। विद्यालय के प्राचार्य द्वारा केन्‍द्रीय विद्यालय के गेट के सामने पशु हाट लगने से बच्‍चों को होने वाली परेशानी से अवगत कराया। जिसके संबंध में कलेक्‍टर द्वारा पशु हाट गेट के सामने से हटवाने का आश्‍वासन दिया। कलेक्‍टर ने प्राचार्य को निर्देश दिए कि लॉकडाउन के दौरान बच्‍चों की पढ़ाई काफी पिछड गयी है। जिसमें ऑनलाईन क्‍लासों को संजीदगी के साथ लगाया जाये। ऑफलाईन क्‍लासें शुरू हुयी हैं। इनमें कोरोना प्रोटोकॉल के हिसाब से पढ़ाई में कोई कसर न रखी जाये। कोशिश करें कि बच्‍चों की पढ़ाई में जो नुकसान हुआ है, उसकी भरपाई हो जाये। 

दसवीं और बारहवीं की विशेष परीक्षा के लिए आवेदन करने की अंतिम तिथि अब 15 अगस्त

गुना । माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा हाई स्कूल, हायर सेकेंडरी और हायर सेकेंडरी व्यावसायिक परीक्षा 2021 की विशेष परीक्षा में शामिल होने के लिए ऑनलाइन पंजीयन करने की तिथि 15 अगस्त 2021 तक बढ़ाई गई है। पूर्व में यह 10 अगस्त निर्धारित थी। प्रदेश में अतिवृष्टि होने और ग्वालियर एवं चंबल संभाग में बाढ़ की स्थिति निर्मित होने के कारण यह निर्णय लिया गया है।उल्लेखनीय है कि माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा आयोजित हाई स्कूल, हायर सेकेंडरी और हायर सेकेंडरी व्यावसायिक परीक्षा 2021 के परीक्षा परिणाम से असंतुष्ट विद्यार्थी या जिनका परिणाम अनुपस्थित दर्शाते हुए घोषित किया गया था, ऐसे परीक्षार्थियों के लिए 1 सितंबर से 25 सितंबर 2021 के बीच विशेष परीक्षा आयोजित की जा रही है। परीक्षा में सम्मिलित होने के लिए परीक्षार्थियों को 1 अगस्त से 10 अगस्त 2021 के बीच एमपी ऑनलाइन पोर्टल पर पंजीयन करने की सुविधा प्रदान की गई थी। विशेष परीक्षा में सम्मिलित होने के लिए ऑनलाइन पंजीयन करने वाले छात्र जो किसी कारण से विशेष परीक्षा में सम्मिलित नहीं होना चाहते है, गो 11 से 15 अगस्त 2021 तक एमपी ऑनलाइन के माध्यम से अपना पंजीयन निरस्त कर सकते हैं।

शिक्षा विभाग द्वारा जारी कैलेण्डर/ मार्गदर्शी‍ नियमों के अनुसार 26 जुलाई से संचालित की जा सकेंगी कक्षाएं

गुना । म.प्र. शासन, स्कूल शिक्षा विभाग, मंत्रालय वल्लभ भवन, भोपाल जारी दिशा निर्देशों का पालन किये जाने एवं कोविड-19 के प्रोटोकॉल का पालन किये जाने की शर्तो पर कार्यालयीन आदेश क्रमांक एस0डब्ल्यू0/नौ-20/कोविड /20/2021/634 दिनांक 14-07-2021 की कंडिका-02 में आंशिक संशोधन करते हुये कलेक्‍टर एवं जिला दण्‍डाधिकारी श्री फ्रेंक नोबल ए. द्वारा शिक्षण सत्र 2021-22 के लिए शासकीय/अशासकीय विद्यालयों एवं शैक्षणिक संस्थानों की कक्षाएं दिनांक 26 जुलाई से स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा जारी कैलेण्डर/एसओपी अनुसार संचालित की जा सकेंगी। शेष आदेश यथावत रहेगा। इस आशय का जारी आदेश तत्काल प्रभाव से आगामी आदेश तक प्रभावशील किया गया है। जारी आदेश का उल्लंघन करने वाले व्यक्तियों/संगठन/संस्था के विरुद्ध भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188, आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 एवं महामारी अधिनियम 1897 की सुसंगत धाराओं के अन्तर्गत वैधानिक/दाण्डिक कार्यवाही की जावेगी।