गुना पुलिस की बड़ी कार्यवाही चोरी की 12 मोटरसाइकिल बरामद कर चार संदिग्धों को लिया हिरासत में पूछताछ जारी

गुना । जिले के धरनावदा थाना क्षेत्र अंतर्गत गुना पुलिस द्वारा ग्राम बिला खेड़ी में दबिश दी गई जिसमें हीरो कंपनी की लगभग 12 मोटरसाइकिल बरामद कर चार संदिग्धों को हिरासत में लिया गया जिनसे फिलहाल पूछताछ जारी है सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार धरनावदा थाना प्रभारी गजेंद्र सिंह बुंदेला को मुखबिर द्वारा सूचना मिली थी कि बिला खेड़ी गांव में बड़ी संख्या में चोरी की मोटरसाइकिल है जिसकी सूचना धरनावदा थाना प्रभारी गजेंद्र सिंह बुंदेला ने अपने वरिष्ठ अधिकारियों को दी सूचना पर से पुलिस अधीक्षक जिले के राधौगढ़, बजरंगगढ़, धरनावदा, फतेहगढ़ जामनेर, म्याना थाने की पुलिस के साथ पुलिस लाइन के रक्षित निरीक्षक एसडीओपी उप पुलिस अधीक्षक के साथ सुबह लगभग 7:00 बजे करीब दबिश देने पहुंचे जहां से लगभग चोरी की 12 मोटरसाइकिल बरामद कर झागर चौकी लाया गया है दबिश के दौरान 4 संदिग्धों को भी हिरासत में लिया गया है जिन से पूछताछ की जा रही है ।

कोई अपराध घटित करता इससे पूर्व ही धारनावदा थाना पुलिस ने लोडेड कट्टा के साथ युवक को दबोचा

गुना ।  धरनावदा थाना प्रभारी  विपेन्द्र सिंह चौहान द्वारा अपने थाना बल के साथ मुखबिर से मिली सूचना पर तत्काल व ठोस कार्यवाही करते हुये थाना क्षेत्र के ग्राम आमखेड़ा के पास से कोर्ठ बारदात करने की नीयत से घूम रहे एक पारदी युवक धर्मेन्द्र उर्फ सूकड़ा पुत्र गेंदालाल पारदी उम्र 20 साल निवासी ग्राम खेजरा चक, थाना धरनावदा को 12 बोर के लोडेड अवैध कट्टा (01 जिंदा राउण्ड) सहित पकड़ने में सफलता हासिल की गयी है। पुलिस द्वारा पकड़े गये उक्त आरोपी के विरूद्ध थाना धरनावदा में अपराध क्रमांक 567/2020 धारा 25 (1-बी) (ए) आर्म्स एक्ट का दर्ज कर आरोपी धर्मेन्द्र पारदी को न्यायालय राघौगढ़ के समक्ष पेश किया गया, जहां से उसे जेल भेज दिया गया है।

जिला में दिल दहला देने वाली वारदात आई सामने 12 वर्षीय किशोरी के साथ हुआ दुष्कर्म पड़ोसी गांव के युवक ने दिया वारदात को अंजाम

गुना । जिले के सिरसी थाना क्षेत्र में एक 12 वर्षीय किशोरी के साथ दुष्कर्म की दिल दहला देने वाली वारदात का मामला सामने आया है। इस जघन्य वारदात के बाद पीडि़ता के परिजन उसे जिला अस्पताल लेकर पहुंचे। घटना को लेकर क्षेत्र में जबर्दस्त आक्रोश व्याप्त हो गया है

 मामला पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री महेंद्र सिंह सिसौदिया की विधानसभा क्षेत्र का है। जहां के सिरसी थाना क्षेत्र में आने वाले ग्राम हथियाबड़ में एक 12 वर्षीय किशोरी के साथ पड़ोसी गांव के ही एक युवक ने दुष्कर्म की जघन्य वारदात को अंजाम दिया। इसकी जानकारी जब पीडि़ता के परिजनों को लगी तो वह उसे स्वास्थ्य केंद्र लेकर पहुंचे, जहां से एम्बुलेंस के जरिए जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया। स्थिति की गंभीरता को देखते हुए पुलिस अधीक्षक राजेश कुमार सिंह सहित कई अधिकारी भी जिला अस्पताल पहुंच गए हैं और एहतियात के तौर पर पुलिस तैनात किया गया है। ग्राम हथियाबड़ में भी पुलिस फोर्स भेजा गया है। हालांकि वारदात के संदर्भ में अब तक पुलिस ने किसी तरह का खुलासा नहीं किया है। लेकिन बताया जा रहा है कि किशोरी के साथ बर्बरता की गई है।

दिलेर वनकर्मी ने खोली वनरक्षकों की पोल , क्या अभी भी सोता रहेगा वन विभाग वन विश्राम गृह चंदेरी , लटेरी का वीडियो हुआ वायरल

https://youtu.be/Ku2e5muR3X0

गुना । गुना वन विभाग की भ्रष्टाचार, मिलीभगत की पोल लगातार शारदा एक्सप्रेस न्यूज़ खोलता आया है आये दिन गुना वनमंडल में अवैध कटाई ,अतिक्रमण की घटनाएं होने एवम इन पर वनमंडलाधिकारी के द्वारा कोई ठोस कार्यवाही न करने के कारण लगातार संलिप्तता के आरोप वनरक्षक से लेकर वनमंडलाधिकारी पर लगते रहे है किन्तु वरिष्ठ स्तर से कोई कार्यवाही न होने के कारण वनकर्मी बेलगाम हो चुके है वही हजारों हेक्टयर का जंगल मिलीभगत से कटवा दिया गया है जिसका जीता जागता उदाहरण आज हो रहे वीडियो में देखते ही बनता है जिसमे एक ईमानदार और दिलेर वनकर्मी जंगल की कटाई ओर अतिक्रमण की घटनाओं में अपने ही वन अमले की मिलीभगत की पोल वनमंडलाधिकारी गुना ओर विदिशा के सामने खोलते आ रहा है
वायरल वीडियो गुना , विदिशा वनमंडल की संयुक्त मीटिंग का बताया जा रहा है जिसमे सामूहिक रूप से वनों को कैसे बचाया जाए विषय पर अपने शब्द रखने हेतु वनरक्षक श्री अभिषेक को बोला गया था जिसपर उन्होंने सबसे पहले वन विभाग में हो रही अनियमितताओं जिसमे मकसूदनगढ़ के वनकर्मियों की मिलीभगत से जंगल का कटना बताया साथ ही बताया कि वह बर्तमान रेन्जर , पूर्ब रेन्जर को भी बता चुके है कि रेन्ज मकसूदनगढ़ के जामनेर सबरेंज के बीटगार्ड डोंगरसिंह जंगल की जमीन को जंगल की जमीन नही रहने देता उसपर अतिक्रमण करवा देता है साथ ही अधिकारियों को भी यह सब जानकरी है वही दूसरे वनकर्मी गोपाल मीना है जो बीट बड़ोदा पर है वो अपराधियों से मिलकर काम करता है हम लोग गस्ती करते है किंतु वो अपराधियों से मिलकर गोपनीयता भंग कर देता है जिससे जंगलों के नाश हो रहा है ।

वनरक्षक ने दिखाई दिलेरी – गौरतलब है कि वन विभाग में हो रहे भ्रष्टाचार , अवैध कटाई की जानकारी गुना से लेकर वन मंत्रालय तक लगातार प्रेस एवम मीडिया के द्वारा संज्ञान में लाई जा रही है किंतु वरिष्ठ अफसरो ने आज तक किसी भी संलिप्त वनकर्मी पर कोई ठोस कार्यवाही न करके बस मामले में लीपापोती करी है किंतु अब ईमानदार एवम प्रकृति प्रेमी वनकर्मि के अंदर का गुस्सा भ्रष्ट वनकर्मियों पर खुलकर जुबान पर आ गया जिससे वन विभाग में हड़कम्प मचा हुआ है ।

क्या अभी भी सोते रहेंगे वन विभाग के अफसर – बीते कई दिनों से वीडियो वायरल होने तथा प्रेस में लगातार खबर छपने के बाद भी वन अफसर अवैध कटाई , अतिक्रमण को रोकने में असफल रहे है किंतु आज के वायरल वीडियो को देखने से लगता है कि जंगल की कटाई खुद वरिष्ठ अधिकारियों के संरक्षण का नतीजा तो नही है जिसकारण से वरिष्ठ वन अफसर कहि न कही संलिप्त वनकर्मियों पर कार्यवाही करने से बचते नजर आ रहे है ।

राज्य स्तरीय उड़नदस्ता दल करे जांच – वीडियो में वनरक्षक के द्वारा लगाए गए आरोपो की जांच राज्य स्तरीय उड़नदस्ता दल से कराकर संलिप्त वनरक्षकों को बर्खास्त की कार्यवाही की जानी चाहिए जिससे वनों को बचाया जा सके एवम भविस्य में कोई भी वनकर्मी इस तरह की घटना को अंजाम न दे सके ।

एक ही जगह जमे है वनकर्मी – गौरतलब है कि गुना वनमंडल में कई वनकर्मी बर्षों से एक ही बीट पर जमे हुए है जिनकी राजनैतिक पहुंच के चलते न तो वन विभाग उनके स्थानन्तरण कर पाता न कार्यवही वही वन विभाग में ही कई वनकर्मी ऐसे है जिनके एक साल में 3 से 4 जगह स्थानन्तरण हो चुके है ।

छत्तीसगढ़ में दिखा चुका है वनकर्मी ऐसी ही दिलेरी – छत्तीसगढ़ में हाल ही में एक वनकर्मी जंगल को बचाने के लिए अपने ही वरिष्ठ अधिकारियों से भिड़ गया था इस मामले ने भी सुर्खिया बटोरी थी साथ मे ही वन विभाग की बड़ी अनियमितताएं सामने आई थी ।

आरोपी वनरक्षकों की बीटों की हो वरिष्ठ स्तर से जांच – वायरल वीडियो में लगाये गए आरोपो की जांच वरिष्ठ स्तर से कराए जाने के बाद ही मामले की सच्चाई का पता लग पायेगा किन्तु यह तो स्पष्ट है कि कही न कही वनकर्मियों मिली भगत से ही जंगल का विनाश होने की कगार पर है । वही संलिप्त वनकर्मियों की सम्पत्ति की भी जांच की जाना चाहिए जिससे सच सबके सामने आ ज़के ।
वही देखना दिलचस्प होगा कि अब वीडियो के सामने आने के बाद वनमंडलाधिकारी संलिप्त वनकर्मियों पर क्या कार्यवाही कर पाते है ?

अपराध की गंभीर प्रकृति को देखते हुये न्यायालय का फैसला – आरोपी जेल में ही रहेगा

राजगढ। जिला न्यायालय में पदस्थ  विशेष न्यायाधीश पाॅक्सो एक्ट श्रीमति अंजली पारे ने थाना भोजपुर के अपराध क्रमांक 126/2020 धारा 317, 316, 376(2)(एन) भादवि एवं 5/6 पाॅक्सो एक्ट में आरोपीगण दीपक और संदीप (परिवर्तित नाम) निवासी ढोब तहसील खिलचीपुर जिला राजगढ की अग्रिम जमानत अर्जी खारिज कर दी है । अभियोजन कहानी इस प्रकार है कि फरियादी ने दिनांक 28 अप्रेल 2020 को थाना भोजपुर में इस आशय की रिपोर्ट लिखवाई कि सुबह जब वह हेण्डपम्प पर पानी भरने गया तो उसे किसी बच्चे की रोने की आवाज सुनाई दी जब उसने आसपास देखा तो सड़क के किनारे एक बच्चा पड़ा हुआ था जब वह वहां उसको देखने गया तो वह एक लड़का था और ताजे खून से लथपथ था। उसके खून को देखकर लग रहा था कि वह अभी- अभी पैदा हुआ है वहां पर उपस्थित लोगों ने एंबुलेंस को बुलाया एवं फरियादी आशा कार्यकर्ता के साथ बच्चे को खिलचीपुर अस्पताल ले गया था। अस्पताल ले जाये जाने पर अज्ञात शिशु की मृत्यु हो चुकी थी जिस पर मर्ग क्र 11/20 धारा 174 जाफौ का पंजीबद्ध कर शव पंचायतनामा कार्यवाही कर पोस्ट मार्टम करवाया गया तथा नगरपालिका राजगढ के सहयोग से शमशान घाट में दफनाया गया और प्रकरण में धारा 316 भादवि का इजाफा किया गया। तत्संबंध में थाना भोजपुर में अज्ञात व्यक्ति के विरूद्ध अंतर्गत धारा 317, 316 भादवि पंजीबद्ध किया जाकर विवेचना प्रारंभ की गई। विवेचना के दौरान नवजात शिशु की मां के रूप में अभियोक्त्री का होना पता चला जिसे अभिरक्षा में लेकर पूछताछ की तो उसने स्वीकार किया कि उसका 6-7 माह का गर्भ था एवं पेट में दर्द होने की वजह से अभियोक्त्री अपने मंगेतर मांगीलाल के साथ इलाज हेतु खिलचीपुर गई थी वहां से आते वक्त रास्ते में ज्यादा दर्द होने लगा जिस कारण उसकी वहीं पर डिलिवरी हो गई एवं मंगेतर के कहने पर अभियेाक्त्री बच्चे को वहीं पर छोड़कर आ गई ।  विवेचना के दौरान फरियादी ने अपने पुलिस को दिये कथन में यह बताया है कि उसके साथ आरोपी बंकट, दीपक और संदीप (परिवर्तित नाम) तथा एक और अभियुक्त ने उसके साथ लगातार कई दिनों तक धमकी देकर शारीरिक संबंध बनाये थे जिनके कारण वह गर्भवती हो गयी है। उक्त प्रकरण में आरोपीगण दीपक और संदीप (परिवर्तित नाम) ने न्यायालय को अपना अग्रिम जमानत आवेदन पत्र प्रस्तुत कर जमानत की मांग की थी। जिस पर विशेष लोक अभियोजक आलोक श्रीवास्तव ने तर्क किये कि प्रकरण में नाबालिग अभियोक्त्री के साथ किये गये बलात्संग के फलस्वरूप वह गर्भवती हुई हुई थी। अभियोजन की ओर से अपने तर्क के दौरान माननीय न्यायालय का ध्यान इस ओर आकृष्ट करवाया कि प्रकरण की घटना महिलाओं से जुड़े हुये अपराध से संबंधित है। इस कारण यदि आरोपीगण को जमानत पर रिहा किया जाता है तो वह प्रकरण में महत्वपूर्ण साक्षियो पर दबाव बनाकर अभियेाजन की साक्ष्य को प्रभावित करेगा और समाज पर भी विपरीत प्रभाव पड़ेगा। इस कारण आरोपी को जमानत पर रिहा न किया जावे।  न्यायालय अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश श्रीमति अंजली पारे ने अपराध की प्रकृति गंभीरता एवं प्रकरण की स्थिति को देखते हुये अभियोजन के तर्कों से सहमत होकर आरोपीगण दीपक और संदीप (परिवर्तित नाम) की अग्रिम जमानत याचिका खारिज कर जेल भेज दिया है।

फतेहगढ़ थाना क्षैत्र में एक माह में दो बड़ी चोरियां, पुलिस की पकड़ से अब भी दूर चोर

गुना । फतेहगढ़ थाना क्षेत्र में सालों से होती आ रही लाखों की लूट डकैतीया जिनमें पुलिस अब पूर्व और वर्तमान की चोरियों के मामले में फिसड्डी साबित होती नजर आ रही है हाल ही में 14 अगस्त की रात को फतेहगढ़ थाना क्षेत्र के कलोरा गांव में बहुचर्चित डकैती का मामला सामने आया था जिसमें 14 अज्ञात बदमाशों ने गांव के किसान परिवार को बंदूक एवं तलवार जैसे घातक हथियारों की दम पर बंधक बना लिया था चोरों ने पूरे परिवार को बंधक बनाकर कमरे में बंद कर 5 तोला सोना 1 किलो चांदी और करीब ₹50 हजार नगदी जो तकरीबन फरियादी पक्ष द्वारा 5 लाख रु का माल बताया जा रहा है अज्ञात चोर माल को समेट कर भागने में सफल हो गए थे सूचना पर पुलिस अपने दल बल के साथ कलोरा गांव पहुंची जहां पुलिस ने डकैती के मामले को गंभीरता से लेते हुए मौके पर पुलिस अधीक्षक एडिशनल एसपी फॉरेंसिक जांच टीम साइबर टीम डॉग स्क्वायड जैसी तमाम जांच टीम जांच के लिए पहुंची थी जिसके बाद अब 2 दिन बीत जाने के बाद के पुलिस के हाथ कुछ खास सुराग नहीं लग पाया सूत्रों की मानें तो पुलिस ने कलोरा डकैती को पारदी समुदाय का करना बताया है जिसमें पुलिस टीम द्वारा दो बदमाशों की गिरफ्तारी कर ली है कलोरा कांड के बाद फतेहगढ़ थाना क्षेत्र में चोरों की काफी दहशत फैली हुई है

एक माह पहले फतेहगढ़ मंडी से गायब हुआ था 5 लाख से भरा बैग

फतेहगढ़ थाना क्षेत्र में चोर पुलिस से ज्यादा सक्रिय भूमिका में नजर आते हैं क्योंकि हाल ही में कलोरा डकैती मामले से पहले 20 जुलाई सोमवार को फतेहगढ़ कृषि उपज मंडी के व्यापारी नवल नागर की दुकान से अज्ञातो ने 5लाख से अधिक रकम से भरा बैग दिनदहाड़े चुरा लिया था जिन्हें पुलिस पकड़ने में अब भी असफल है जबकि फतेहगढ़ के सभी मुख्य मार्गों पर पुलिस के सीसीटीवी कैमरे लगे हुए हैं पुलिस द्वारा लगाए सभी केमरो से चोर अक्सर बच ही जाते हैं ओर दिन दहाड़े इतनी बड़ी चोरी को अंजाम देकर पुलिस को चुनौती छोड़ जाते हैं

तलवार से मारकर गंभीर उपहति कारित करने वाले आरोपी का द्वितीय जमानत आवेदन भी निरस्‍त

शाजापुर। जिला मीडिया प्रभारी  सचिन रायकवार एडीपीओ शाजापुर ने बताया कि, न्यायालय  प्रथम अपर सत्र न्यायाधीश शुजालपुर द्वारा आरोपी सुदेश पिता महेश विलवान उम्र 24 वर्ष निवासी शुजालपुर सिटी का द्वितीय जमानत आवेदन पत्र भी अभियोजन की ओर से विडियो कांन्फ्रेसिंग के माध्यम से उपस्थित संजय मोरे अति.डीपीओ शुजालपुर के तर्को से सहमत होते हुए निरस्त किया गया। संजय मोरे अति.डीपीओ शुजालपुर द्वारा प्रदत्त जानकारी अनुसार दिनांक 14/06/2020 को रात्री 08 बजे फरियादी अक्षय, वाल्मिकीपुरा शुजालपुर गया था। वहा उसे आरोपी सुदेश मिला । आरोपी ने उधार दिये  500 रूपये फरियादी से मांगे तो फरियादी ने कहा पैसे अभी नहीं है।  सुदेश ने उसे  गालिंया दी ओर बोला की पैसे वापस नहीं करने की बनती तो  उधार क्‍यों लेता है। फरियादी ने गाली देने से मना किया तो आरोपी ने उसे जमीन पर पटक दिया जिससे फरियादी को पीठ पर चोंट लगी।  इतने में आरोपी के पिता महेश, भाई सोनू और छोटू आ गये। महेश व सोनू के हाथ में तलवार थी। आरोपी सुदेश ने छोटू से तलवार ली और छोटू और सोनू ने फरियादी को पकड लिया और सुदेश व महेश ने तलवार मारी जिससे फरियादी के सिर में चोंट आई और खून निकलने लगा। फरियादी के चिल्‍लाने पर कालू चन्‍देल ने उसका बीच-बचाव किया। पुलिस द्वारा फरियादी के बताये अनुसार सिविल अस्‍पताल शुजालपुर मण्‍डी में देहाती नालशी लेखबद्ध की। देहाती नालशी के आधार पर थाना शुजालपुर  मण्‍डी पर अपराध पंजीबद्ध किया। अनुसंधान के दौरान धारा 326 भादवि का इजाफा किया गया। दिनांक 09/07/2020 को आरोपी सुदेश को गिरफ्तार कर सक्षम न्‍यायालय में पेश किया गया जंहा से उसे जेल वारंट बनाकर उप जेल शुजालपुर भेजा गया था। तब से आरोपी जेल में है। आज दिनांक  13/08/2020 को न्यायालय द्वारा आरोपी का द्वितीय जमानत आवेदन पत्र भी निरस्त किया गया।

भदौरा के पास हुआ गम्भीर सड़क हादसा 3 वर्षीय मासूम की गई जान पिता और बहन की स्तिथी गंभीर

गुना । भदौरा के पास आज शाम लगभग 5:00 बजे करीब एक गंभीर सड़क हादसे के दौरान 3 वर्षीय मासूम की दर्दनाक मौत हो गई साथ ही उसकी बहन और पिता की हालत गंभीर बनी हुई है । 108 इमरजेंसी एंबुलेंस प्रभारी गिर्राज सिंह तोमर से मिली जानकारी के अनुसार एक परिवार शिवपुरी जिले के पिछोर से गुना शहर मैं अपनी बहन के पास मोटरसाइकिल से आ रहे थे तभी अचानक पीछे से एक अज्ञात ट्रक द्वारा उन्हें टक्कर मार दी गई मोटरसाइकिल पर सवार विजय राम रजक उम्र 35 वर्ष, उषा रजक पत्नी विजय राम रजक उम्र 30 वर्ष , देव पुत्र विजय राम रजक उम्र 3 वर्ष एवं पुत्री दीपाली उम्र 6 वर्ष गंभीर रूप से घायल हो गए बाइक पर सवार 3 वर्षीय देव की अस्पताल लाते समय मृत्यु हो गई । इस हादसे के संबंध में अधिक जानकारी देते हुए पीएमटी श्रीनिवास प्रजापति ने बताया कि वह साक्षी मेडिकल कॉलेज में कोरोना पेशेंट को छोड़ने जा रहे थे तभी अचानक उन्हें रास्ते में भीड़ लगी दिखी तो वह साक्षी मेडिकल का पॉइंट छोड़कर पहले गंभीर लोगों को अस्पताल पहुंचाने मैं अपने स्टाफ के साथ जुट गए उन्होंने सर्वप्रथम अपने पायलट भूपेंद्र सिंह जाट की मदद से घायल महिला एवं उसके परिवार को स्पोर्ट पर प्राथमिक उपचार दिया और तत्काल एंबुलेंस को लेकर जिला अस्पताल की ओर लेकर आए जहां 3 वर्षीय देव की मृत्यु हो गई विजय राम रजक और दीपाली की स्थिति गंभीर बनी हुई है । इस प्रकार एक बार फिर 108 इमरजेंसी एंबुलेंस गुना के स्टाफ ने इस सराहनीय कार्य को कर कर्तव्य का परिचय दिया ।

सोशल डिस्‍टेन्‍स, चेहरे को मास्‍क से ढ़ंकने एवं हाथ सेनेटाइज रखने का सभी करें पालन

गुना ।  कलेक्‍टर कुमार पुरूषोत्‍तम ने जिले के नागरिकों से कहा है कि – ”जैसा कि आपको विदित है हम कोरोना से संक्रमण के खिलाफ लड़ाई पिछले चार माह से लड़ रहे हैं और आप सबके सहयोग से हम इसमें काफी हद तक सफल भी हैं। परंतु जो आगामी समय है वह थोड़ा कठिन है। इसलिए राज्‍य शासन ने किल कोरोना पार्ट 2 के नाम से एक नया अभियान आज 01 अगस्‍त से शुरू किया है जो 14 अगस्‍त 2020 तक चलेगा। यह मुख्‍य रूप से जनजागरण का अभियान है। लोगों को जागरूक करने का अभियान है। आमजन को कोरोना से खतरे के बारे में बताने का अभियान है। इसका उद्देश्‍य है कि लोग बिना किसी हिचक के और 100 फीसदी लोग मास्‍क पहनें। सोशल डिस्‍टेंसिंग का पालन करें। भीड़भाड़ वाली जगहों पर जाने से बचें। इसके लिए हमारा ये आग्रह है कि आप लोग इसका कड़ाई से पालन करें। प्रदेश के मुख्‍यमंत्री ने ये अनुरोध किया है कि सामाजिक कार्यक्रमों पर अब रोक है। फिजिकल तौर पर किसी भी तरह का अब शिलान्‍यास या उद्घाटन अब नही होगा। हम आगामी दो सप्‍ताह में पूरे जिले में तहसील स्‍तर पर, ग्राम पंचायत स्‍तर पर, जनपद पंचायत स्‍तर पर लोगों को जागरूक करने का अभियान चलाएंगे और इसमें हम समाज के हर वर्ग की मदद लेंगे। सोशल मीडिया, इलेक्‍ट्रानिक मीडिया के माध्‍यम से अभियान चलाएंगे”।
उन्‍होंने जिले के सभी स्‍टेक होल्‍डर से आग्रह किया है कि इसका व्‍यापक प्रचार-प्रसार करें। जब लोगों को पूरी तरह से जागरूक कर पाएंगे तभी हम इस कोरोना संक्रमण की चेन को तोड़ पायेंगे।

कर्तव्‍यों के प्रति उदासीनता एवं लापरवाही के चलते नगर पालिका गुना के अग्रवाल को वेतनवृद्धि रोकने का नोटिस

गुना । कलेक्‍टर एवं प्रशासक नगर पालिक परिषद गुना कुमार पुरूषोत्‍तम द्वारा 28 जुलाई 2020 को नगर पालिक परिषद गुना की आयोजित समीक्षा बैठक में जल प्रकोष्‍ठ प्रभारी नगर पालिक परिषद गुना जी.के.अग्रवाल द्वारा उनके प्रभार अंतर्गत वाटर सप्लाई स्कीम एवं सीवर प्रोजेक्ट वर्ष 2016 से प्रचलित होने, दोनों प्रोजेक्टों की गति अत्यंत धीमी होने, आज दिनांक तक कार्य पूर्ण नहीं हो पाने के साथ ही जलकर वसूली का प्रतिशत भी अपेक्षाकृत कम पाये जाने के कारण कर्तव्‍यों के प्रति उदासीनता एवं लापरवाही के चलते दो वेतनवृद्धि असंचयी प्रभाव से रोके जाने हेतु स्‍पष्‍टीकरण नोटिस जारी किया गया है। इस हेतु 3 दिवस की अवधि तय करते हुए उन्‍होंने उत्‍तर प्राप्‍त न होने की दशा में एक पक्षीय कार्रवाई करने की चेतावनी भी दी है।