कोतवाली पुलिस ने महज 24 घंटों के भीतर ही घर से गायब नाबालिक किशोरी को खोजा

गुना । कोतवाली क्षेत्र से गायब किशोरी को पुलिस ने महज 24 घंटों में खोज निकाला उल्लेखनीय है कि दिनांक 25 मार्च 2021 को कोतवाली थाना क्षेत्र अंतर्गत घर से कोचिंग के लिये निकली 15 वर्षीय किशोरी बापस घर नहीं लौटे तो बच्ची की मां द्वारा उसके गायब होने की सूचना दिनांक 26 मार्च को कोतवाली थाना पुलिस को दी गई। जिसकी सूचना पर कोतवाली थाने में प्रकरण दर्ज कर विवेचना में लिया गया।  कोतवाली टीआई उमेश मिश्रा द्वारा गायब किशोरी को अतिशीघ्र तलाशने के लिये थाने पर तत्काल एक टीम गठित की गई। यह टीम बच्ची की तलाश में सरगर्मी से जुट गई और जिसकी लगातार सक्रियता से तलाश की गई इसी बीच बच्ची के जज्जी बस स्टेण्ड पर होने की जानकारी मिलने पर पुलिस द्वारा त्वरित कार्यवाही करते हुये सूचना दर्ज होने के 24 घंटों में ही गायब किशोरी को जज्जी बस स्टेण्ड से दस्तयाब कर लिया गया है।

”मेरा घर-मेरी होली” कोरोना संक्रमण से बचने होली अपने घर पर ही बनाएं – कलेक्‍टर

गुना ।  कलेक्‍टर कुमार पुरूषोत्‍तम ने कहा है कि होली का त्‍यौहार राग-उल्‍लास का त्‍यौहार है। जिसे लोग सामूहिक रूप से मनाते हैं। कोरोना संक्रमण को देखते हुए सार्वजनिक तौर पर इस बार होली का त्‍यौहार प्रतिबंधित किया गया है। सार्वजनिक उत्‍सव पर रोक है। सीमित संख्‍या में लोग होलिका दहन कर सकते हैं। आमतौर पर गुना जिले में परंपरा है कि विभिन्‍न सरकार महकमे में भी सार्वजनिक तौर पर होली मनायी जाती है। इस बार ऐसा नही होगा। कलेक्‍टर होने के नाते स्‍वाभाविक तौर पर बहुत सारे अधिकारी होली मनाने आते हैं। निश्चित तौर पर यह अच्‍छी बात है कि त्‍यौहारों का मतलब भी यही होता है कि हम एक-दूसरे से मिलें। लेकिन आप सभी से अनुरोध है कि इस बार होली आप अपने घर पर ही मनाएं। मैंने भी निर्णय लिया है कि मैं होली अपने घर पर मनाउंगा। जिससे संक्रमण से हम खुद बचें, हम सब बचें और गुना जिले को संक्रमण से मुक्‍त करें। आप सभी को होली की बहुत-बहुत शुभकामनाएं। 

होली दहन पर कुंडली के अशुभ प्रभाव एवं वास्तु दोष दूर करने के सरल उपाय : ज्योतिषाचार्य पँडित युवराज राजोरिया, (कुँभराज)

गुना । विशेष ति‍थियों और अवसरों पर शुभ-अशुभ शक्तियां ब्रह्मांड में सक्रिय हो जाती है. उन्हीं को अनुकूल बनाने के लिए उपाय किए जाते हैं. होली का त्यौहार  उनमें से एक है  | 
शास्त्रों के अनुसार चार सिद्ध रात्रियों में से एक होलिका दहन वाली रात भी होती है और ऐसे में नकारात्मक शक्तियों के प्रभाव से बचने के लिए होलिका दहन को सबसे शुभ माना जाता है . 
जन्म कुंडली के ग्रहो के दोषो और वास्तु दोषो के निवारण के लिए होली की रात्रि को अति महत्त्वपूर्ण बताया गया है जिसमें संकल्प लेकर किए जाने वाले ज्योतिषीय उपायों का लाभ अवश्य प्राप्त होता है। 
शास्‍त्रों के अनुसार, इस रात का महत्‍व भी दीपावली और शिवरात्रि जैसा ही होता है। जिस तरह दीपावली और शिवरात्रि के दिन रातों को दैवी शक्तियां जागृत रहती हैं, उसी प्रकार होलिका दहन की रात को भी ऐसा ही होता है
मान्‍यताओं के अनुसार, होलिका की सात परिक्रमा करनी चाहिए। इससे रोग और नकारात्मक शक्तियों का प्रभाव दूर होता है। होलिका प्रदक्षिणा के दौरान 140 डिग्री फारनहाईट तक का ताप शरीर में लगने से मानव के शरीरस्थ समस्त रोगात्मक जीवाणुवों को नष्ट कर देता है।

 होली पर बाधाओं को  दूर  करने के लिए विशेष उपाय, उपाय का प्रभाव 
1. आर्थिक परेशानियों को दूर करने के लिए होलिका की राख को लाकर पूरे घर में छिड़क दें। इससे घर से नकारकत्मक शक्तियों का प्रभाव दूर होता है
2. होलिका की राख को एक पोटली बनाकर तिजोरी में रखें इससे संचित धन बढ़ता है। टोने टोटके का भय होने पर इस राख से तिलक भी कर सकते हैं। इससे आत्मबल मिलता है। 
3. होलिका की राख शरीर में लगाकर गर्म जल से स्नान कराने से नकारात्मक प्रभाव निर्मूल हो जाता है। 
4. होली की भस्म (राख) को मस्तक पर गले में लगाएं इससे स्वास्थ्य सुख बना रहेगा।
5. होलिका की राख अपने घर के आग्नेय कोण (पूर्व दक्षिण) में उस अग्नि को तांबे या मिट्टी के पात्र में रखें और निकट सरसों के तेल का दीपक जला दें। इस उपाय से घर की सारी नकारात्मक ऊर्जा जलकर समाप्त हो जाएगी। 
6. आप होली के दिन एक काले रंग का कपड़ा लें और उसमें काली हल्दी को बांध दें। घर का परिवेश सकारात्मक हो जाएगा और सभी परेशानियों से मुक्ति मिल जायेगी। 
7 . शीघ्र विवाह के योग के लिए – होली के दिन सुबह एक साबुत पान पर साबुत सुपारी एवं हल्दी की गांठ शिवलिंग पर चढ़ाएं 
8. वैवाहिक सुख प्राप्ति के उपाय –  होली के दिन  घर के बीच में एक चैकोर टुकड़ा साफ कर के उसमें आसन लगा कर कामदेव का पूजन करें। इससे वैवाहिक जीवन सुखमय रहेगा। 
9. पढाई में  बच्चे का मन लगाने के लिए  बच्चे के हाथ से नारियल पान सुपारी का दान होलिका के स्थान पर कराएं 
10. होली के दिन चांदी के पात्र में कच्चा दूध डालकर चन्द्रमा को अघ्र्य दें, पति-पत्नी के आपसी संबंधों में मधुरता आयेगी। 
11. जिस दिन होलिका का दहन किया जाता है उस दिन आप होलिका दहन में आटा और जौ चढ़ाएं। इस उपाय से घर के क्लेश मिट जाते हैं। श्री राजोरिया के शास्त्रोक्त मतानुसार
ग्रहो के दोष दूर करने के लिए होलिका दहन में विशिष्ट वस्तु की आहुति
प्रत्येक ग्रह के अनुसार अलग-अलग समिधा (लकड़ी / टहनी ) का उपयोग किया जाता है 
सूर्य के लिए मदार, मदार की समिधा से रोगों का नाश होता है। समाज में मान-सम्मान और बड़ा पद प्राप्त होता है | –
चंद्र के लिए पलाश, पलाश की समिधा सभी कार्यों में उन्नति, लाभ देने वाली है। मानसिक शांति बढ़ाता है।
मंगल के लिए खेर, जमीन से जुड़े व्यापार में सफलता मिलती है , रक्त से संबंधित रोगो को नाश करता है 
बुध के लिए चिड़चिड़ा, नौकरी और बिजनेस के लिए शुभ 
गुरु के लिए पीपल, पीपल की समिधा संतान, वंश वृद्धि, के लिए उत्तम है ,सुखमय वैवाहिक जीवन
शुक्र के लिए गूलर, गूलर की स्वर्ण , धनवान , समस्त प्रकार के सुख व समृद्धियों का भोग प्रदान करने वाली
शनि के लिए शमी, शमी की पाप और रोगो का नाश करने वाली
राहु के लिए दूर्वा – दीर्घायु प्रदान करती है , शत्रुओ एवं गलत आदतों से बचने के लिए और केतु के लिए कुशा – कुशा की समिधा सभी मनोरथ , , प्रसिद्धि और उच्च पद के लिए
वास्तु दोषो के निवारण के लिए अति उत्तम होली दहन   की राख – चमत्‍कारी लाभ
तंत्र शास्त्र के अनुसार होलिका की राख से कई तरह की नकारात्मक शक्तियों का असर व्यक्ति के ऊपर से हट जाता है। 
होली दहन के दूसरे दिन होली की राख को घर लाकर उसमें थोडी सी राई और खड़ा नमक मिलाकर किसी बर्तन में रख लें. ये बर्तन घर में किसी सुरक्षित जगह रखें. | इस उपाय से नजर दोष और बुरे समय से मुक्ति मिल सकती है. पैसों की तंगी दूर होती है. | इससे गृह कलह और आर्थिक बाधाएं दूर होती हैं। 
उपर्युक्त एवं मनोरथ प्राप्ति के लिए आम, पलाश, अशोक, चंदन आदि वृक्ष की समिधाओं का ज्योतिषीय सलाह से कुंडली के अवलोकन द्वारा चयन करके होलिका दहन में आहुति देनी चाहिए |

पूजा-पाठ ,  जन्म कुंडली के ग्रहो के दोषो और वास्तु दोषो के निवारण के लिए  व साधना की दृष्टि से भी होली की रात्रि को अति महत्त्वपूर्ण बताया गया है जिसमें संकल्प लेकर किए जाने वाले उपायों का लाभ अवश्य प्राप्त होता है।

फर्जी रजिस्ट्रेशन नंबर से संचालित बस कानपुर से जा रही थी अहमदाबाद, भनक लगते ही राधौगढ़ पुलिस ने पकड़ा

गुना । फर्जी रजिस्ट्रेशन नंबर से संचालित बस को राधौगढ़ पुलिस ने पकड़ कर जप्त करने में सफलता प्राप्त की है । राधौगढ़ थाना प्रभारी मदन मोहन मालवीय के नेतृत्व में गठित टीम द्वारा उक्त बस को पकड़कर जप्त किया गया है । मिली जानकारी के अनुसार  जंजाली चौकी प्रभारी दीपक सिंह भदौरिया को सूचना मिली कि एक वस फर्जी रजिस्ट्रेशन नंबर से संचालित हो रही है , जो रूठियाई होते हुये इंदौर तरफ जा रही है।  दीपक भदौरिया द्वारा उक्त सूचना को गंभीरता से लिया और तस्दीक हेतु अपने बल के साथ तत्काल गुर्जर ढावा के सामने ए.बी. रोड़ पर पहुंचे और उक्त बस के आते ही उसे रोका तो बस के चालक द्वारा बस को तेजी से दौड़ा दिया, जिसका पुलिस द्वारा अपने वाहन से पीछा कर रोक लिया एवं बस को चैक किया तो बस में कोई सबारी नहीं बैठी थी। पुलिस द्वारा बस के चालक से नाम पता पूछा तो उसने अपना नाम कंुदन खांन पुत्र बाबू खांन उम्र 27 साल निवासी ग्राम सरसई, थाना चुरखी, जिला जालौन, उ0प्र0 का होना बताया एवं जिससे बस के बारे में पूछा तो बस को कानपुर से अहमदाबाद लेकर जाना बताया। पुलिस द्वारा बस के दस्ताबेज मांगने पर उसके पास एक रजिस्ट्रेशन कार्ड मिला, जिसमें अंकित रज्स्ट्रिेशन नंबर की नंबर प्लेट ही बस में लगी हुई थी, लेकिन बस के इंजन एवं चैसिस नंबर अलग थे। इस प्रकार फर्जी नंबर से संचालित की जा रही उक्त बस कीमती करीब 25 लाख रूपये को जंजाली चौकी पुलिस द्वारा विधिवत जप्त कर आरोपी चालक को गिरफ्तार किया एवं जिसके विरूद्ध धारा 420, 465, 471, 473 भादवि के तहत प्रकरण दर्ज कर विवेचना में लिया गया है।

धारदार हथियार से अपनी पत्नि की नाक काटने वाले आरोपी को 4 साल की जेल व जुर्माना

बड़वानी । न्यायालय प्रथम अपर सत्र न्यायधीश बड़वानी  सुशीला वर्मा द्वारा अपने निर्णय मे 326 भादवि केे आरोपी जगदीश पिता तेरसिंह निवासी ग्राम पंथा थाना अमझेरा जिला धार हाल मुकाम सिलावद थाना सिलावद को अपनी पत्नी की नाक काटकर गंभीर चोेट पहुचाने के आरोप मे 04 वर्ष की जेल व 500 रूपये के जुर्माने से दण्डीत किया गया। अभियोजन की ओर से पैरवी  महेश पटेल जिला अभियोजन अधिकारी व  एस.एस. अजनारे सहायक जिला अभियोजन अधिकारी बडवानी द्वारा की गई। अभियोजन मीडिया प्रभारी कीर्ति चौहान सहायक जिला अभियोजन अधिकारी ने बताया कि दिनांक 07.07.2020 को पेमलबाई पति जगदीश शाम को करीब 07.00 बजे अपनी पति जगदीश के साथ अपने पिताजी के घर जूनाझिरा गयी थी क्योंकि पेमलबाई के जीजाजी शांत हो गये थे वहाॅ पर कार्यक्रम समाप्त होने पर आरोपी जगदीश ने अपनी पत्नी फरियादी पेमलबाई को वापस अपने घर जाने को कहा तो पेमलबाई ने कहा की कल घर जाएंगे इसी बात का लेकर आरोपी जगदीश ने अपनी पत्नी पेमलबाई को  माॅ-बहन की नंगी नंगी गालिया दी और धारदार दराते से फरियादी पेमलबाई की नाक काट दी जिससे नाक का उपरी हिस्सा अलग हो गया आरोपी जगदीश ने बोला की यह बात किसी ओर की बतायी तो जान से खत्म कर दुंगा। यह बात बोलकर आरोपी भाग गया। थाना सिलावद द्वारा  119/2020 पर घटना की प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज की गयी और प्रकरण विवेचना मे लेकर विवेचना पूर्ण कर प्रकरण न्यायालय मे प्रस्तुत किया गया। प्रकरण सनसनी खेज और गंभीर होने से प्रकरण को जघन्य एवं सनसनी खेज की श्रेणी मे चिन्हित किया गया था। अभियोजन की ओर से पैरवी  महेश पटेल जिला अभियोजन अधिकारी व  एस.एस. अजनारे सहायक जिला अभियोजन अधिकारी बडवानी द्वारा की गई। 

अज्ञात बाइक सवारों ने दिया लूट की वारदात को अंजाम मंदिर से दर्शन कर लौट रही वृद्ध महिला के गले से सोने की चेन खींचकर भागे बदमाश -सीसीटीव्ही कैमरों में कैद हुई वारदात

गुना। शहर में इन दिनो लगातार लूट-चोरी की वारदातें घटित हो रही है। बदमाशों के हौसले इतने बुलंद है कि अब वे दिनदहाड़े घरो के बाहर से तक लोगो के साथ लूट-चोरी करने को उतारू हो गये है। ताजा मामाला आज सुबह चौधरन कॉलोनी का सामने आया है जहां बाइक सवार दो बदमाशों ने मंदिर से लौट रही एक वृद्ध महिला को निशाना बनाते हुए उसके गले से सोने की चैन खींचकर भाग खड़े हुए। ये घटना सुबह 9:30 बजे के आसपास की है जब महिला जैन मंदिर से दर्शन कर अपने घर लौट रही थी इसी दौरान घर के बाहर घात लगाये खड़े बाइक सवार बदमाशों ने वृद्ध महिला को घर के बाहर निशाना बनाते हुए उसके गले में से चैन खींची और भाग खड़े हुए । ये पूरी घटना घर के बाहर लगे सीसीटीव्ही कैमरो में भी कैद हुई है। जिसमें साफ दिखाई दे रहा
है कि बाइक से आये दो बदमाश पहले घर के बाहर आकर खड़े होते है, फिर बाइक को मोड़ते है और वृद्ध महिला के आने का इंतजार करते है। बदमाशो के मंसूबो से बेखबर महिला जैसे ही अपने घर के सामने, बाइक सवार बदमाशो के पास पहुंचती है, बदमाश झटके के साथ गले में रही सेाने की चैन को खींचते है और भाग जाते है। इस पूरे मामले की शिकायत शहर कोतवाली में दर्ज करवाई गई है। पुलिस टीम ने मौके पर पहुंचकर सीसीटीव्ही के फुटेज भी खंगाले है। बताया जाता है कि लाली जैन निवासी भिंड जो अपने भतीजे के यहां आई हुई थी उनके साथ ये वारदात घटित हुई है। इस घटना के बाद लोगों में आक्रोश भी है। लोगो को कहना है कि अब तो दिन दहाड़े घरो के बाहर तक लोग सुरक्षित नहीं है। बदमाशों में पुलिस का खौफ नजर नहीं आता है। यही कारण है कि बदमाश शहर में आये दिन एक के बाद एक लूट और चोरी की घटनाओ को अंजाम देने में लगे हुए है।

नाबालिक के साथ बलात्‍कार करने वाले आरोपी को हुआ 20 वर्ष का सश्रम कारावास

इंदौर । जिला अभियोजन अधिकारी मो. अकरम शेख द्वारा बताया गया कि, दिनांक 22/03/2021 को  तृतीय अपर सत्र न्‍यायाधीश श्रीमती सोनल पटेल डॉ. अम्‍बेडकर नगर जिला इंदौर के द्वारा थाना मानपुर के अपराध में निर्णय पारित करते हुए आरोपी  कृष्‍णा गावड पिता लालसिंह गावड आयु 23 वर्ष ग्राम काकरिया मानपुर को 20 वर्ष का सश्रम कारावास की सजा व 4000 रू के अर्थदण्‍ड से दण्डित किया गया । प्रकरण में पैरवी विशेष लोक अभियोजक आनन्‍द नेमा के द्वारा की गई । अभियोजन कहानी संक्षिप्‍त में इस प्रकार है कि, दिनांक 10/10/2019 को फरियादी ने अपने गांव के चौकीदार गोपाल के साथ थाना आकर रिपोर्ट दर्ज कराई की कि,वह मजदूरी का काम करती हैं, उसकी लडकी अभियोक्‍त्री शासकीय हाई स्‍कूल खेडी सिहोद में कक्षा 10 वी में पढती है, दिनांक 07/10/2019 को अभियोक्‍त्री घर से मानपुर बाजार करने का बोलकर घर से गयी थी, शाम तक नही आयी, वह इंतजार करती रही और गांव व रिश्‍तेदारों में आस पास तलाश करने पर नही मिली , उसकी नाबालिक लडकी को कोई अज्ञात व्‍यक्ति  बहला फुसलाकर भगा ले गया हैं, उसकी लडकी के नहीं मिलने पर उसने थाने आकर रिपोर्ट लिखायी, पुलिस ने अपराध क्रमांक 302/2019 धारा 363 भादवि के तहत पंजीबद्व कर विवेचना में लिया गया । अभियोजन यह प्रमाणित करने में सफल रहा है कि, घटना दिनांक को आरोपी ने 15 वर्षीय अवयस्‍क अभियोक्‍त्री के साथ उसकी सहमति के विरूद्व एक से अधिक बार लैगिंक संभोग कर उसके साथ मारपीट की । 

कोतवाली पुलिस की सक्रियता से लूट के दो आरोपी 12 घंटों में गिरफ्तार

गुना ।  कोतवाली टीआई उमेश मिश्रा एवं उनकी टीम द्वारा गत् रात्रि में दो युवकों के पर्स लूटने के मामले में सक्रियता से कार्यवाही कर मामले में दो आरोपियों को गिरफ्तार करने में कामयाबी हासिल की गई है। उल्लेखनीय है कि फरियादी चंद्रेश कोरी उम्र 50 साल, निवासी हरिपुर रोड़ गुना द्वारा थाना कोतवाली आकर रिपोर्ट की गई थी कि दिनांक 22 मार्च की रात्रि करीब 11ः00 बजे दो अज्ञात लड़कों ने बूढ़े बालाजी रोड पर मुझे व मेरे दोस्त मोतीलाल से मारपीट कर हमारे पर्स छीन कर ले गये, जिनमें कुल 1600/-रूपये नगदी सहित वोटर कार्ड, आधार कार्ड आदि रखे हुये थे। जिस पर थाना कोतवाली में अपराध क्रमांक 284/21 धारा 394 भादवि के तहत प्रकरण पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया।
  विवेचना के दौरान कोतवाली टीआई उमेश मिश्रा को सूचना मिली की कल रात बूढ़े बालाजी पर मारपीट कर लूट करने वाले दो लड़कों में से एक लड़का हनुमान टेकरी मंदिर के आसपास घूम रहा है। मिली सूचना पर तत्काल एक्शन लेते हुए टीआई उमेश मिश्रा ने आरोपी को पकड़ने हेतु एसआई अमित अग्रवाल के नेतृत्व में तुरंत एक टीम रवाना की गई, जब यह टीम हनुमान टेकरी पर पहुंची तो वहां से एक व्यक्ति पुलिस को देखकर खिसकने लगा, जिसे पुलिस ने घेराबंदी कर पकड़ लिया, जिससे नाम पता पूछने पर उसने अपना नाम अंकित पुत्र यशवंत कदम उम्र 21 वर्ष निवासी पुरानी छावनी, गुना का होना बताया एवं जिसने पूछताछ पर अपने दोस्त गोलू यादव निवासी पुरानी छावनी के साथ मिलकर रात्रि में उक्त फरियादी के साथ मारपीट कर लूट करना स्वीकार किया। इसके बाद पुलिस द्वारा शीघ्रता दिखाते हुये आरोपी गोलू यादव को भी गिरफ्तार कर जिनसे लूटे गए पर्स व दस्तावेज बरामद कर लिये गये। दोंनो आरोपियों को आज माननीय न्यायालय के समक्ष पेश किया गया, जहां से उन्हें जुडिशियल रिमांड पर भेज दिया गया है।

कानून व्यवस्था की स्थिति निर्मित करने वालों पर पुलिस की कार्यवाही

गुना ।  शहर में गत दिवस 21 मार्च को कुछ कानून व्यवस्था की स्थिति निर्मित हुई थी। जो कि पारदी समाज एवं रजक समाज के लोगों द्वारा की गई थी। इस दौरान पारदी समाज द्वारा यह आरोपित किया गया था कि उनके समाज के शेरू पारदी की मृत्यु पुलिस अभिरक्षा में हो गई है। वहीं रजक समाज के द्वारा मोनू रजक द्वारा इंदौर में की गई आत्महत्या को लेकर कानून व्यवस्था की स्थिति निर्मित की गई थी।  
  इस आशय की पुलिस कार्यालय गुना द्वारा दी गयी जानकारी में कहा गया है कि जिले में आपराधिक गतिविधियों पर लगाम कसने के लिये फरार चल रहे अपराधियों तथा आपराधिक गतिविधियों में संलिप्त बदमाशों की धड़-पकड़ हेतु गुना पुलिस अधीक्षक राजीव कुमार मिश्रा द्वारा जिले में एक नई व्यवस्था लागू की गई है। जिसमें अलग-अलग दिनों में अलग-अलग थाना क्षेत्र में पुलिस द्वारा अचानक कॉम्बिंग गस्त की जाएगी। जिसमें किसी एक स्थान को केंद्र बिन्दु बनाकर उस स्थान के आसपास के चारों तरफ के थाना प्रभारी अपने-अपने बल के साथ संबंधित थाना क्षेत्र से ही आसपास के इलाके की सघन चैकिंग करते हुये केंद्र बिन्दु वाले स्थान पर पहुंचेंगे और जहां पर भी समस्त बल द्वारा सामूहिक रूप से सघन चैकिंग की जाएगी।
जिले में शुरू की गई इस व्यवस्था के तहत गत दिनों 20-21 मार्च की रात्रि में पुलिस द्वारा गुना शहर में की गई कॉम्बिंग गस्त के दौरान शहर के आपराधिक श्रेणी के बदमाशों के ठिकानों पर पुलिस द्वारा दबिश अवश्य दी गई थी। जिसमें शहर के आसपास के थानों का बल एवं स्थानीय बल अलग-अलग स्थानों से कॉम्बिंग गस्त करते हुये आया था। इस दौरान पुलिस द्वारा एक जिला बदर आरोपी परवेज पुत्र महबूब खांन निवासी कर्नलगंज भी उसके घर से पकड़ा गया और इसके साथ ही पुलिस द्वारा कुछ संदिग्ध बदमाशों को भी पकड़ा गया था। इन बदमाशों में पुलिस द्वारा मृतक शेरू पारदी को नहीं पकड़ा गया था और जिसकी किन्हीं कारणों से उसके घर पर ही मृत्यु हो गई थी। शेरू पारदी की मृत्यु को लेकर पारदी समाज के द्वारा पुलिस पर दबाव बनाने के लिये यह आरोपित किया गया कि शेरू की मौत पुलिस अभिरक्षा में हुई है। जबकि ऐसा नहीं है। इस बात को लेकर पारदी समाज खासतौर पर महिलाओं द्वारा कानून व्यवस्था की स्थिति निर्मित की गई थी। जिनके द्वारा पुलिस से अभद्रता करते हुये कानून का उल्लंघन किया गया। इस दौरान पारदी समाज के लोगों द्वारा केंट थाने के सामने प्रदर्शन करते हुये चक्काजाम किया गया था। चूंकि इनका यह कृत्य आपराधिक श्रेणी में आता है जिसको लेकर केंट थाने में आरोपीगण अजब बाई पारदी, पूजा पारदी, शिवानी पारदी एवं अन्य 20-25 लोगों के विरूद्ध अप.क्र. 324/21 धारा 341, 147, 188 भादवि के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है। इस दौरान कुछ पारदी महिलाओं द्वारा एक पुलिसकर्मी से अभद्रता करते हुये झूमाझटकी की गई थी। उस पुलिसकर्मी की शिकायत पर थाना कोतवाली गुना में आरोपीगण अजब बाई पारदी, पूजा पारदी एवं 3-4 अन्य महिलाओं के विरूद्ध अप.क्र. 282/31 धारा 186, 353, 294, 34 भादवि के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है। पुलिस द्वारा जिनकी शीघ्र ही गिरफ्तारी की जाएगी।
इसी प्रकार से रजक समाज के मोनू पुत्र रामवीर रजक उम्र 24 साल निवासी चांदशाह बली रोड़, बूढ़े बालाजी गुना शहर की एक नाबालिग बच्ची का अपहरण कर भागा था। जिसके विरूद्ध थाना कोतवाली गुना में अप.क्र. 244/21 धारा 363 भादवि का मामला दर्ज था। जो उक्त बच्ची को लेकर इंदौर में रह रहा था। जहां मकान से कूदने पर मोनू रजक की मुत्यु हो गई थी। जिसके परिजनों द्वारा भी उसकी लाश को चौराहे पर रखकर चक्काजाम करते हुये काफी ज्यादा कानून व्यवस्था की स्थिति निर्मित की गई थी। इसके बाद पुलिस द्वारा मृतक मोनू रजक के परिजनों से उसकी लाश का सम्मानपूर्वक दाह संस्कार करा दिया गया था। चूंकि इनका यह कृत्य आपराधिक श्रेणी में आता है। जिसको लेकर आरोपीगण लखन रजक, गजेन्द्र रजक, रामवीर रजक, सोनू रजक, विट्टू ठाकुर एवं अन्य 25-30 लोगों के विरूद्ध अप.क्र. 324/21, धारा 147, 149, 341, 188 भादवि के तहत आपराधिक प्रकरण दर्ज किया गया है। इस मामले में नामजद व अन्य आरोपियों को शीघ्र ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा और भविष्य में इस प्रकार की कानून व्यवस्था की स्थिति कोई निर्मित करता है तो उसके विरूद्ध भी इसी प्रकार की कार्यवाही की जाएगी।

बालिका के साथ दुष्कर्म के मामले में आरोपी को न्यायालय ने सुनाई 10 वर्ष की सजा

गुना। विशेष न्यायालय गुना ने बालिका के साथ दुष्कर्म के मामले में आरोपी नवीन साहू पिता राजाराम साहू को धारा 363, 366-ए भादवि एवं 3/4 पोस्को एक्ट में 10 वर्ष की सजा एवं कुल 17000 रूपये के अर्थदंड से दंडित किया।
सहायक मीडिया सेल प्रभारी मयंक भारद्वाज ने बताया कि दिनांक 27.03.19 को फरियादी ने अपनी लड़की के घर से कहीं चले जाने की रिपोर्ट थाना कैंट में पंजीबद्ध कराई थी। बालिका के मिलने पर उसने बताया कि आरोपी नवीन द्वारा बहला-फुसलाकर विवाह करने के लिए विवश किया गया तथा बालिका के साथ जबरदस्ती दुष्कर्म किया इस आधार पर आरोपी नवीन के विरुद्ध थाना कैंट में धारा 363, 366-ए, 376 भादवि एवं 3/4, 16/17 पोस्को एक्ट के तहत अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया विवेचना उपरांत अभियोग पत्र न्यायालय के समक्ष पेश किया गया जहां शासन की ओर से पैरवी जिला अभियोजन अधिकारी गुना द्वारा की गई तथा न्यायालय ने विचारण उपरांत आरोपी नवीन साहू को धारा 363, 366-ए, 3/4 पोक्सो एक्ट में 10 वर्ष की सजा एवं कुल 17000 रूपये के अर्थदंड से दंडित किया।