गांजे की तस्करी करते पांच अंतर्राज्यीय तस्कर गिरफ्तार, आरोपियों से 18 लाख 10 हजार रुपये का माल मशरुका जप्त

गुना । कोतवाली थाना पुलिस ने नशे के विरुद्ध एक और कार्यवाही करते हुये ट्रक मे अवैध रुप से गांजे का परिवहन करते हुये कुल 5 आऱोपियों को गिरफ्तार कर जनके कब्जे से 3 लाख 10 हजार रुपये कीमत का 21 किलो गांजा बरामद किया है। पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार तस्कर आरोन के रास्ते अवैध रुप से गांजा लेकर गुना होते हुये राजस्थान की ओर जा रहे थे ।पुलिस तत्काल हड्डीमील पहुंची एवं सडक पर स्टापर लगाकर चैकिंग की इसी दौरान रात करीब 9.30 बजे आरोन तरफ से ट्रक के आने पर पुलिस द्वारा स्टापर की सहायता से रोक लिया गया । ट्रक की तलाशी लेने पर पीछे लोहे की चादरें भरी थी वहीं ट्रक के केविन मे तलाशी लेने पर के प्लास्टिक के बोरे मे खाकी रंग के टेप से बने 19 पैकेट गांजे के मिले । आरोपियों के पास से मिले गांजे की कीमत करीबन 3 लाख10 हजार रुपये वताई जा रही है पुलिस ने ट्रक को विधिवत जप्त कर सभी पांचों आरोपियों को गिरफ्तार किया जिनके विरुद्ध थाना कोतवाली मे एनडीपीएस एक्ट के तहत प्रकरण दर्ज कर विवेचना मे लिया गया। गिरफ्तार आरोपियों से गांजा तस्करी के संबंध मे पूंछताछ कर और जानकारी जुटाई जा रही है एवं मामले मे स्थिति अनुसार आगे की कार्वयाही की जाऐगी।

छवडा कालोनी से हुई चोरी का मात्र 18 घंटे मे पर्दाफाश

गुना ।  कोतवाली पुलिस द्वारा छवडा कालोनी निवासी अंसार खान के यहां से दो मंहगे मोबाइलों की चोरी के मामले मे सघनता से कार्यवाही करते हुये मात्र 18 घंटे मे ही उक्त मोबाइल चोरी की बारदात का पर्दाफाश कर मामले मे दो आरोपियों को गिरफ्तार कर चोरी गये दोनो मोबाइल बरामद करने मे सफलता हासिल की गई है।उल्लेखनीय है कि 26 अकट्बर को फरियादी अंसार खान पुत्र मोहम्मद इरफान खान निवासी छवडा कालोनी ने गुना कोतवाली थाने मे रिपोर्ट करते हुये बताया था कि 18-19 की मध्य रात्रि मे किसी  अज्ञात व्यक्ति द्वारा उसके घर मे घुसकर एक आईफोन 11 प्रो मैक्स मोबाइल कीमती 1,32,000 रुपये तथा दूसरा ओप्पो ए9 मोबाइल कीमती 15,500 रुपये का चोरी कर ले गया है, जिसकी रिपोर्ट पर से थाना कोतवाली मे प्रकरण पंजीबद्ध कर विवेचना मे लिया गया कोतवाली थाना प्रभारी मदन मोहन मालवीय द्वारा उक्त चोरी का खुलासा करने के लिये तत्काल एक टीम गठित कर मामले के अज्ञात आरोपियों की तलाश में लगाया गया। पुलिस द्वारा प्रकरण मे की गई गहन विवेचना, मुखबिर तंत्र एवं तकनीकी संसाधनों की मदद से छवडा कालोनी से हुई चोरी की उक्त बारदात को अंजाम देने मे दो आरोपियों गजेन्द्र उर्फ गज्जू पुत्र प्यारेलाल जाटव निवासी सकतरपुर रोड एवं  रवि उर्फ पारदी पुत्र नरेश रजक निवासी भुल्लनपुरा के रुप मे  तलाश की गई एवं जिन्हे विगत दिवस मुखबिर सूचना पर आरोन बस स्टेंड गुना से हिरासत मे लेकर  पूंछताछ करने पर उनके द्वारा दिनांक 18-19 की रात्रि मे छवडा कालोनी से उक्त मोबाइलों की चोरी करना स्वीकार किया एवं पुलिस द्वारा आरोपियों के कब्जे से प्रकरण मे चोरी गये दोनो मोबाइल कुल कीमती 1,47,500 रुपये के  बरामद कर लिये गये है।     

80 वर्ष की वृद्ध महिला के साथ दुष्कर्म कर हत्या करने वाले, आरोपी को आजीवन कारावास

सागर। तृतीय अपर सत्र न्यायाधीश सागर के न्यायालय ने 80 साल की वृद्धा के साथ दुष्कर्म कर हत्या करने वाले आरोपी वीरेन्द्र पिता निरपत आदिवासी को दोषी पाते हुए आजीवन एवं 5 हजार रूपये का अर्थदण्ड से दंडित किया गया। प्रकरण में राज्य शासन की ओर से उप-संचालक (अभियोजन) अनिल कटारे  द्वारा पैरवी की गई। मीडिया प्रभारी ए.डी.पी.ओ. सौरभ डिम्हा ने बताया दिनांक 11.01.2019 को फरियादी ने थाना उपस्थित होकर रिपोर्ट लेख कराई कि उसकी मां जिसकी उम्र 80 साल है खेत पर टपरा बनाकर रहती थी, घटना दिनांक को जब सुवह फरियादी ने जाकर देखा तो उसकी मां मृत अवस्था में पडी थी एवं मुंह से खून निकल रहा था एवं पास में किसी अज्ञात व्यक्ति के जूते डले थे। उक्त रिपोर्ट पर मर्ग कायम कर मृतिका का पी.एम. कराया गया एवं बैंजाइल स्लाइड जप्त कर एफ.एस.एल. सागर को भेजा गया जिसमें वैज्ञानिक अधिकारी द्वारा वैजाइल स्लाइड में मानव शुक्राणु का पाया जाना लेख किया गया। पी.एम. रिपोर्ट एवं एफ.एस.एल. रिपोर्ट के आधार पर अज्ञात व्यक्ति के विरूद्ध प्रकरण पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया। विवेचना के दौरान इसी थाने के पाॅक्सो के आरोपी वीरेन्द्र आदिवासी की डी.एन.ए. रिपोर्ट एवं  इस मामले के आरोपी की डी.एन.ए. रिपोर्ट एक ही पाये जाने पर, केन्द्रीय जेल सागर में परीरूद्ध आरोपी वीरेन्द्र आदिवासी को पी.आर. पर लेकर पूछताछ की गयी एवं मामले की जांच की गयी जांच में आरोपी के विरूद्ध अपराध सिद्ध पाये जाने पर प्रकरण पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया विवेचना के दौरान मर्ग इंटीमेशन, नक्सा मौका, एफ.एस.एल परीक्षण रिपोर्ट, डाॅक्टर की क्योरी रिपोर्ट, जप्ती रिपोर्ट, धारा 164 के कथन तथा अन्य महत्वपूर्ण साक्ष्य संकलित की गयी। विवेचना पूर्ण कर अभियोग पत्र माननीय न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत किया गया। उप-संचालक (अभियोजन) अनिल कटारे द्वारा प्रकरण में अभियोजन साक्षियों को परीक्षित कराया व अन्य साक्ष्य को सूक्ष्मता से प्रस्तुत किया गया एवं महत्वपूर्ण तर्क प्रस्तुत किये गये। प्रकरण में सहयोग सहा. जिला अभियोजन अधिकारी सौरभ डिम्हा द्वारा किया गया। न्यायालय द्वारा प्रकरण के तथ्य परिस्थितियों एवं अपराध की गंभीरता को देखते हुए व अभियोजन के तर्कों से सहमत होकर आरोपी वीरेन्द्र पिता निरपत आदिवासी को दोषी पाते हुए 03 वर्ष का सश्रम कारावास एवं 1000 रूपये का अर्थदण्ड धारा 376 भादवि में दोषी पाते हुए 14 वर्ष का सश्रम कारावास एवं 5000 रूपये का अर्थदण्ड और धारा 302 भादवि में दोषी पाते हुए आजीवन एवं 5000 रूपये का अर्थदण्ड से दंडित किया गया। प्रकरण में यह तथ्य भी उल्लेखनीय है कि पूर्व में आरोपी वीरेन्द्र आदिवासी को थाना सानौधा के अपराध  पाॅक्सो में विशेष न्यायालय (पाॅक्सो) द्वारा आरोपी को मृत्यूदंड से दंडित किया गया था। 

अंधे कत्ल का हुआ पर्दाफाश, बेटा ही निकला अपने पिता का हत्यारा

गुना ।  जिले के म्याना थाना क्षैत्रांतर्गत 2 अगस्त को ग्राम सुताई मे डाँ. सचिन सोनी एवं डाँ अनुपम चौधरी के कृषिफार्म पर बनी टपरिया मे उनके बटियादार भागीरथ कुशवाह की खून से सनी लाश पडी होने की सूचना म्याना पुलिस को मिली थाना प्रभारी म्याना तत्काल घटना स्थल पर पहुंचे एवं घटना से पुलिस अधीक्षक अवगत कराया। उक्त घटना पर से म्याना थानेमे पंजीबद्ध कर विवेचना मे लिया गया। म्याना थाना प्रभारी आमोद सिंह राठौर द्वारा लाश एवं घटना स्थल का बारीकी से निरीक्षण कर आवश्यक साक्ष्य जुटाये गये। प्रारंभिक परीक्षण मे मृतक के सिर मे गंभीर चोट पहुंचाकर हत्या करना पाया गया। पुलिस द्वारा मृतक का पीएम कराया जाकर मामले की विवेचना प्रारंभ की गई । हत्या के इस प्रकरण मे पुलिस द्वारा गहन विवेचना की  गई एवं संदेह के दायरे मे आने वाले सभी व्यक्तियों से कडी पूंछताछ की गई। पुलिस द्वारा की गई पूंछताछ मे पुलिस के शक की सुई मृतक के बडे पुत्र भोला कुशवाह पर गई और विगत 26 अक्टुबर को म्याना थाना प्रभारी आमोद सिंह राठौर एवं उनकी टीम द्वारा भोला कुशवाह को हिरासत मे लेकर हत्या के संबंध मे पूंछताछ की गई तो वह पहले तो पुलिस को गुमराह करता रहा लेकिन जब पुलिस द्वारा उसे घटना से संबंधित उसके कुछ साक्ष्य दिखाये गये तो वह टूट गया और अपने पिता मृतक भागीरथ कुशवाह की हत्या का सारा राज उगल दिया जिसने बताया कि उसके मृतक पिता द्वारा 30 जुलाई को उसकी पत्नि का हाथ पकडकर गलत काम करने के लिये बोला गया था यह बात जब पत्नि द्वारा मुझे बताई गई तो उसे अपने पिता पर बहुत गुस्सा आया और उसी समय अपने पिता को  जान से मारने की सोच ली थी। और वह 2 अगस्त की सुबह सकतपुर से ग्राम सुताई स्थित बंटाई वाले खेत  पर पहुंचा जहां उसके पिता टपरिया मे रोटी बना रहे थे मैने टपरिया के बाहर रखी  कुल्हाडी को उठाकर पिता के सिर मे उल्टी कुल्हाडी मारी जिससे पिता की मृत्यु हो गई और इसके बाद वहां से वह अपने घर ग्राम सकतपुर आ गया था।

चलित खाद्य प्रयोगशाला ने वीक़ानेर मिष्ठान भंडार, राजस्थानी कचौडी़, राजेश रेस्टोरेन्ट सहित कई दुकानों से लिऐ खाद्य सामग्री के नमूने

गुना । कलेक्टर फ्रेंक नोबल ए. के निर्देशानुसार जिले में मिलावट से मुक्ति अभियान के अंतर्गत एवं आगामी त्यौहार के दृष्टिगत खाद्य सुरक्षा अधिकारियों द्वारा सतत् निरीक्षण एवं नमूना कार्य किया जा रहा है। अभियान अंतर्गत अनुविभागीय अधिकारी गुना के निर्देश पर संभागीय चलित खाद्य प्रयोगशाला द्वारा 26 अक्‍टूबर को गुना नगर में भ्रमण किया गया । इस दौरान संभागीय चलित खाद्य प्रयोगशाला द्वारा आम उपभोक्ताओं एवं प्रतिष्ठानों से 33 नमूनों की जॉच की गई। उक्त नमूनों में से कुल 5 नमूनें संदिग्ध पायें गयें। खाद्य सुरक्षा अधिकारियों नें संदिग्ध नमूनों सहित अलग अलग प्रतिष्ठानों से कुल 7 नमूनें जॉच हेतु संग्रहित कर प्रयोगशाला भेजे गये है। प्रतिष्ठान चंदेल डेयरी एवं रेस्टोरेन्ट हाट रोड गुना से मलाई बर्फी एवं देशी घी का नमूना, राजस्थानी कचौडी़ कार्नर हाट रोड गुना से मलाई बर्फी एवं सेव का नमूना, राजेश रेस्टोरेन्ट हनुमान चौराहा से पेडा़ का नमूना, बीकानेर मिष्टान भंडार जय स्तम्भ चौराहा से बर्फी एवं घी के नमूने जॉच हेतु लिये गये। खाद्य पदार्थो में की जाने वाली इसके साथ ही सामान्य मिलावट के बारे में आम नागरिकों जानकारी देकर जागरूक किया गया। अभिहित अधिकारी गुना द्वारा खाद्य सुरक्षा अधिकारियों को सतत् कार्यवाही के निर्देश दिये गये हैं, जिससे त्योहारों पर आम नागरिकों का मिलावटरहित खाद्य सामग्री उपलब्ध हो सके।

आबकारी विभाग द्वारा 70 लीटर हाथ भट्टी की मदिरा जप्‍त

गुना । कलेक्टर फ्रेंक नोबेल ए. के आदेशानुसार जिला-गुना मे आबकारी विभाग द्वारा अवैध मदिरा के विनिर्माण, विक्रय, संग्रह एवं परिवहन के विरुद्ध की जा रही सतत् कार्यवाहियों के तारतम्य में जिला आबकारी अधिकारी जगन्नाथ किराडे के निर्देशन एवं सहायक जिला आबकारी अधिकारी आर एस मीणा के नेतृत्व मे पटेल नगर गुना मे आरोपी हरफूल पारधी पुत्र बरबरिया पारधी के घर से 70 लीटर हाथ भट्टी मदिरा जब्त कर उसके विरुद्ध मध्य प्रदेश आबकारी अधिनियम 1915 संशोधित 2000 की धाराओं 34(1)क एवं34(2)का प्रकरण पंजीबद्ध किया गया । अन्य दो प्रकरणों मे ग्राम-झिर एवं मोहरी से क्रमशः 90किलाग्राम,120 किलोग्राम लाहन जब्त कर अज्ञात आरोपियो के विरुद्ध मध्य प्रदेश आबकारी अधिनियम की धारा 34(f) के प्रकरण पंजीबद्ध किये गए। उक्त कार्यवाहियों मे आबकारी प्रधान आरक्षक प्रेम नारायण नामदेव, आबकारी आरक्षकों अरूण कुमार शर्मा, भावना दुबे का विशेष सहयोग रहा।

मिलावट से मुक्ति अभियान के तहत खाद्य विभाग द्वारा लगातार छापामार कार्रवाई जारी

गुना । कलेक्टर फ्रेंक नोबल ए. के निर्देश पर मिलावट से मुक्ति अभियान के अंतर्गत खाद्य सुरक्षा प्रशासन द्वारा लगातार निरीक्षण एवं नमूना कार्यवाही की जा रही है l रात्रिकालीन बसों में त्यौहार के समय मिलावटी मावा के परिवहन सम्भावना को देखते हुए खाद्य सुरक्षा अधिकारियो द्वारा बसों को चेक किया जा रहा है l उक्त कार्यवाही दौरान रात्रि में बस स्टैंड पर बसों की जाँच दौरान धर्मेन्द्र ट्रेवल्स की बस जो ग्वालियर से इंदौर जा रही थी में 100 किलोग्राम लगभग मावा रखा हुआ था, जो प्रथम दृष्टया मिलावटी प्रतीत हो रहा था l उक्त मावे की जानकारी निकालने पर बस ड्राइवर द्वारा बताया गया की उक्त मावा ग्वालियर से अवदेश शिवहरे द्वारा रखा गया l ड्राइवर द्वारा उक्त व्यक्ति से टेलीफोन से बात करवाई गयी तो उक्त व्यक्ति द्वारा स्वीकार किया की मावा उसके द्वारा बस में रखा गया है जिसे गंजबसोदा भेजा जा रहा था l उक्त मावा संदिग्ध लगने उक्त व्यक्ति को बुलवाया गया l उक्त मावे को आगामी कार्यवाही तक के लिए कोतवाली गुना में रखवाया गया l सुबह 12 बजे अवधेश शिवहरे निवासी ग्वालियर उपस्थित हुआ एवं उक्त मावे को अपना बताया गया l अवधेश शिवहरे से उक्त संदिग्ध मावे का नमूना जाँच हेतु लिया गया एवं शेष मावा 99 किलोग्राम विधिवत जप्त किया गया जिसकी कीमत  25000.00 रुपए है l प्रकरण में नमूने जाँच हेतु प्रयोगशाला भेजे जा रहे है l खाद्य एवं औषधि प्रशासन के औषधि निरीक्षक शोभित कुमार तिवारी द्वारा मकसूदनगढ़ क्षेत्र में मेसर्स यादव मेडिकल स्टोर, शारदा मेडिकल स्टोर, गायत्री मेडिकल स्टोर, उकावद में श्री राम मेडिकल स्टोर, श्याम मेडिकल स्टोर एवं जामनेर में मानसी मेडिकल स्टोर के औचक निरीक्षण किये गए तथा मौके पर रिपोर्ट तैयार की गई है | इस माह में जिले में स्थित विभिन्न औषधि विक्रय संस्थानों से अभी तक 10 औषधियों के नमूने जाँच/विश्लेषण हेतु लिए जाकर राज्य औषधि परीक्षण प्रयोगशाला भेजे गये है, जहाँ से जाँच रिपोर्ट प्राप्त होने पर आगामी कार्यवाही की | भ्रमण के दौरान औषधि निरीक्षक द्वारा मेडिकल स्टोर संचालकों को हिदायत दी गई की औषधि का विक्रय औषधि एवं प्रशाधन सामग्री अधिनियम 1940 एवं नियमावली 1945 के प्रावधानों के अनुसार ही करें | कलेक्टर के निर्देशानुसार खाद्य एवं औषधि प्रशासन द्वारा औषधि विक्रय संस्थानों पर निरंतर निरीक्षण कार्यवाही जारी है |

कब्जे से मुक्त करायी 35 लाख की शासकीय भूमि

गुना । कलेक्टर फ्रेंक नोबल ए. के निर्देशानुसार गुना ग्रामीण तहसील के ग्राम सगाई में एसडीएम के निर्देश पर राजस्व विभाग और पुलिस विभाग द्वारा शासकीय भूमि सर्वे नंबर 2/ 17क  रकबा 1 हेक्टेयर पर गुमान सिंह बरेला द्वारा किए गए अवैध कब्जे को हटवाया गया। इस भूमि का बाजार मूल्य लगभग 35 लाख रूपऐ है। एसडीएम के मार्गदर्शन में इस तरह की कार्रवाई आगे भी जारी रहेगी।

कलेक्‍टर ने मोहर सिंह पारदी को एनएसए के तहत भेजा जेल

गुना । कलेक्‍टर एवं जिला दण्‍डाधिकारी फ्रेंक नोबल ए. द्वारा पुलिस अधीक्षक गुना के प्रतिवेदन के आधार पर मोहर सिंह पारदी पुत्र हटे सिंह पारदी निवासी ग्राम खेजरा चक, थाना धरनावदा, हाल निवासी हड्डी मिल गुना को राष्‍ट्रीय सुरक्षा अधिनियम 1980 की धारा 3 के अधीन प्रदत्‍त शक्तियों का प्रयोग करते हुए निरूद्ध आदेश जारी किया है। कलेक्‍टर द्वारा शांति व्‍यवस्‍था कायम करने के उद्देश्‍य से मोहर सिंह को तीन माह की अवधि के लिए निरूद्ध किया है। 

सम्मोहन कर धोखाधड़ी करने वाले जहरीली शराब के साथ गिरफ्तार, आरोपियों ने शहर में 74 वर्षीय एक वृद्ध महिला को सम्मोहित कर लाखों के जेबर पार करने की बारदात को दिया था अंजाम

गुना ।  कोतवाली पुलिस ने जहरीली शराब के साथ ऐसे दो बदमाशों को गिरफ्तार किया गया है, जिनके द्वारा शहर में 74 वर्षीय एक वृद्ध महिला को सम्मोहित कर उसके करीबन ढेड़ लाख रूपये के सोने के जेबर पार किये गये थे। उल्लेखनीय है कि दिनांक 20 अक्टूबर को  राधा कॉलोनी निवासी 74 वर्षिय फरियादिया रूकमणी पारीक ने गुना कोतवाली में रिपोर्ट दर्ज कराई गई थी कि  19 अक्टूबर की सुबह वह हनुमान चौराहा मंदिर से वापस घर लौट रही थी कि कुछ ही दूरी पर उसे एक अज्ञात व्यक्ति मिला, जिसने खुद को ज्योतिष का बड़ा ज्ञानी होना बताया और उसके द्वारा रूकमणी पारीक के परिवार में दुख, विपत्ति आदि की बातें बोलकर विपत्ति से बचने के लिये उसके पहने हुये सोने के गहने दो चूड़ी, एक छल्ला, दो अंगूठी कुल कीमती ढेड़ लाख रूपये को लोटा में रखवा लिये इसी बीच एक व्यक्ति वहां आया और उस ज्योतिष बताने वाले व्यक्ति की तारीफ करने लगा। इसके बाद उनके द्वारा महिला से उसकी आंख व मुठ्ठी बंद कर पीछे मुड़कर चार कदम चलकर वापस आने का बोला गया, जब महिला द्वारा चार कदम चलकर वापस देखा तो दोंनो बदमाश उसके गहने लेकर वहां से चंपत हो गये। जिसकी रिपोर्ट पर से अज्ञात आरोपियों के विरूद्ध प्रकरण दर्ज कर विवेचना में लिया गया।  कोतवाली थाना प्रभारी मदनमोहन मालवीय अपनी टीम के साथ उक्त बदमाशों की तलाशा में सक्रियता से जुट गये। आरोपियों की तलाश के क्रम में सूचना प्राप्त हुई कि एचएफ डीलक्स मोटर सायकल पर दो व्यक्ति अवैध शराब लेकर हरिपुर से गुना तरफ निकले हैं, उक्त सूचना की तस्दीक हेतु कोतवाली से पुलिस की एक टीम हरिपुर रोड़ पर पहुंची तो वहां पर उक्त मोटर सायकल पर दो व्यक्ति बीच में कट्टी रखे हुये आते दिखाई दिये, जिन्हें पुलिस द्वारा घेरकर रोक लिया गया, जिन्होंने पूछताछ पर अपने नाम मुजाहिर हुसैन पुत्र गुलाम हुसैन उम्र 38 साल तथा पीछे बैठे व्यक्ति द्वारा अपना नाम शहजाद मौहम्मद पुत्र खुशी मौहम्मद उम्र 22 साल निवासीगण गुलर भोज, थाना गदरपुर, जिला ऊधम सिंह नगर, जिला उत्तराखंड के होना बताये, जिनके बीच में रखी प्लास्टिक की कट्टी को खोलकर चैक किया तो उसमें हाथ भट्टी की बनी 10 लीटर जहरीली शराब मिली। आरोपियों के पास मिली जहरीली शराब एवं मोटर सायकल को पुलिस द्वारा विधिवत जप्त कर दोंनो आरोपियों को गिरफ्तार किया एवं जिनके विरूद्ध थाना कोतवाली में आवकारी एक्ट के तहत प्रकरण दर्ज कर विवेचना में लिया गया। अवैध जहरीली शराब के साथ पकड़ में आये बदमाशों ने पूछताछ पर बताया कि उनका चार लोगों का गेंग है, जो उत्तरखंड से आये हैं और मोती माला बेचने की आड़ में वृद्ध व महिलाओं को सम्मोहित कर उनके गहने ले लेते है, 19 अक्टूबर को उनके द्वारा अपने अन्य दोंनो साथियों के साथ मिलकर हनुमान चौराहा के पास एक वृद्ध महिला को सम्मोहित कर उसके सोने के गहने लिये गये थे, उन गहनों को उनके अन्य दोंनो साथी लेकर वापस उत्तराखंड चले गये हैं। वृद्ध महिला को सम्मोहित कर उसके लाखों के गहने लेकर फरार हुये आरोपियों के पीछे गुना पुलिस की एक टीम लगाई गई है एवं जिन्हें शीघ्र ही गिरफ्तार कर अग्रिम कार्यवाही की जावेगी। गिरफ्तार एवं भागे आरोपियों के पूर्व रिकॉर्ड के संबंध में भी गुना पुलिस द्वारा जानकारी जुटाई जा रही है। पुलिस अधीक्षक राजीव कुमार मिश्रा द्वारा अपील की गई है कि समाज में रहने वाले अपने सभी वृद्धजनों का ध्यान रखें और उनसे कोई अनजान व्यक्ति बातें करते या उनको कहीं एकांत में ले जाते दिखाई दे तो उनकी मदद करें एवं इस बात की पुलिस को तत्काल सूचना दें।