अपराध करने के नये-नये तरीके व उनका पता लगाने के बारे में हुई विशेष परिचर्चा, घटना स्थल से मिलने वाले भौतिक साक्ष्यों का वैज्ञानिक अन्वेषण एवं अपराध अनुसंधान में महत्व

गुना । शनिवार को पुलिस कंट्रोल रूम गुना में अपराध अनुसंधान विषय पर एक दिवसीय सेमीनार/प्रशिक्षण का आयोजन किया गया। पुलिस अधीक्षक तरूण नायक के निर्देशन में इस सेमीनार का शुभारंभ अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक टी. एस. बघेल द्वारा किया गया। इस दौरान उन्होने सेमीनार में शामिल हुये सभी अनुसंधानकर्ता अधिकारियों को पुलिस की कार्य प्रणाली के बारे में विस्तृत रूप से बताया तथा पुलिस को अपने कार्य के साथ-साथ अपने व्यवहार में कैसे बदलाव लाया जाये के बारे में विस्तृत रूप से चर्चा की। सभी अनुसंधान अधिकारी अपना कार्य सुचारू रूप से करें, ऐसा कोई कार्य न करें कि जिससे की पुलिस की छबि पर विपरीत प्रभाव पड़े। प्रत्येक अपराध की विवेचना साक्ष्यों व तथ्यों के आधार पर ही की जावे जिससे की जांच निष्पक्ष तरीके से हो सके। सेमीनार में वरिष्ठ वैज्ञानिक अधिकारी एफएसएल युनिट आर. सी. अहिरवार ने अपने उद्बोधन में घटनास्थल पर मिलने वाले साक्ष्यों के महत्व व अपराधियों की पहचान कैसे की जावे के बारे में विस्तृत रूप से बताया। घटनास्थल पर मौजूद साक्ष्य किसी भी अपराध की जान होते हैं घटनास्थल से उनका संकलन, परिरक्षण, पैकिंग इत्यादि यदि सही तरीके से किया जावे तो हमें विवेचना में सही दिशा मिलती और हम अपराधी को सजा दिलाने में कामयाब होते हैं। इसी प्रकार जिला अभियोजन अधिकारी आर. के. दुबे ने समस्त अनुसंधान अधिकारियों को विधि नियमों के बारे में विस्तृत रूप से जानकारी दी। इस सेमीनार के समापन अवसर पर पुलिस अधीक्षक तरूण नायक ने जिले के समस्त विवेचना अधिकारियों से अपने सारगर्भित उद्बोधन में कहा कि वह पुलिस कार्यवाही पूर्ण लगन व गंभीरतापूर्वक सीखें और अपराध की विवेचना निष्ठा भाव से कर पीड़ित को न्याय व अपराधी को सजा दिलाने में मुख्य भूमिका निभाकर एक अच्छे विवेचक का परिचय दें। इस सेमीनार में जिले के सहायक उपनिरीक्षक व प्रधान आरक्षक सम्मिलित हुये।

     

सोशल मीडिया पर भड़काऊ पोस्ट या कमेंट करने वालों के विरूद्ध पुलिस करेगी सख्त वैधानिक कार्यवाही

गुना । पुलिस अधीक्षक तरूण नायक ने बताया कि गुना पुलिस सोशल मीडिया पर सतत् निगरानी बनाये हुये है यदि कोई भी व्यक्ति किसी सोशल मीडिया जैसे व्हाट्सएप, फेसबुक, ट्विटर आदि पर कोई भड़काऊ या आपत्तिजनक पोस्ट करता है या ऐसी किसी पोस्ट पर कोई कमेंट करता है, जिससे किसी धर्म या समाज की भावनाओं को ठेस पहुंचती है या फिर जिससे किसी भी प्रकार की कानून व्यवस्था की स्थिति निर्मित हो सकती है, ऐसी पोस्ट या कमेंट करने वाले लोगों के विरूद्ध गुना पुलिस द्वारा सख्त कानूनी कार्यवाही की जावेगी।

गुना पुलिस का अवैध मादक पदार्थो के विरूद्ध कड़ा प्रहार अंतर्राज्यीय गांजा तस्कर गिरफ्तार, आरोपी उड़ीसा से तस्करी कर राजस्थान, छत्तीसगढ़, मप्र मे करता था गांजा सप्लाई आरोपी से 22 किलो गांजा बरामद

गुना। कैंट थाना पुलिस ने मुखविर की सूचना पर अवैध मादक पदार्थ के खिलाफ कार्यवाही करते हुए शनिवार को एक अंतरराष्ट्रीय गिरोह का गांजा तस्कर गिरफ्तार किया है। पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार मुखविर से लगातार सूचना मिल रही थी, कि एक व्यक्ति उड़ीसा व छत्तीसगढ़ से अवैध मादक पदार्थ गांजा की भारी मात्रा में तस्करी कर विकय करने गुना लेकर आता है। सूचना प्राप्त हुई कि एक व्यक्ति रेलवे स्टेशन से मोटर सायकल से एक सफेद रंग की बोरी में अवैध गांजा विक्य करने के लिये पाटई तरफ जाने वाला है। प्राप्त सूचना पर त्वरित कार्यवाही कर टीआई केंट द्वारा पुलिस की एक टीम को कार्यवाही नानाखेड़ी पुलिस चौकी पर तैनात किया टीम द्वारा चैकिंग पॉईन्ट लगाकर उक्त गाड़ी के आने का इतजार किया गया। तभी कुछ देर वाद गुना की ओर से उक्त गाड़ी आती दिखी जिसकी पुलिस द्वारा घेराबंदी कर रोका गया। पुलिस द्वारा रोककर नाम पता पूछने पर उसने अपना नाम घनश्याम पुत्र पुरूषोत्तम वैरागी उम्र 52 साल निवासी श्रीराम कॉलोनी गुना का होना बताया। जिसकी मोटर सायकल पर रखे बोरे की तलाशी लेने पर उसमें अवैध रूप से 22 किलोग्राम गांजा कीमती करीबन 2.20,000/- रूपये का भरा हुआ पाया गया, जिसे पुलिस द्वारा विधिवत् जप्त कर आरोपी घनश्याम बैरागी को गिरफ्तार किया गया एवं आरोपी के विरूद्ध थाना केंट में अपक. 206/2020 धारा 8/ 20(ख) एनडीपीएस एक्ट का प्रकरण पंजीवद्ध कर विवेचना में लिया गया। आरोपी घनश्याम बैरागी ने पूछताछ पर बताया कि वह ट्रेनों में चना-मूंगफली बेचते बेचते वह तस्करों के संपर्क में आकर इस धंधे से जुड़ गया और बताया कि वह गांजा उड़ीसा से तस्करी कर मध्यप्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़ के कई शहरों में उसका विकय करता था एवं इससे पूर्व भी वह गुना में कई बार विकरी कर चुका है। आरोपी को न्यायालय पेश किया जावेगा । एवं विस्तृत से पूछताछ हेतु पुलिस रिमाण्ड पर लिया जावेगा। उपरोक्तानुसार सराहनीय कार्यवाही में थाना प्रभारी केंट निरीक्षक मदन मोहनमालवीय,
एसआई रविनंदन शर्मा, एसआई सुरेन्द्र सिंह वैस, सायवर सेल प्रभारी एएसआई मसीह खांन, प्रधान आरक्षक संतोष तिवारी, आरक्षक धीरेन्द्र गुर्जर, आरक्षक गौरीशंकर सांसी आरक्षक राहुल भदौरिया, आरक्षक कुलदीप भदौरिया आरक्षक जीतेन्द्र वर्मा, आरक्षक रामकुमार रघुवंशी, आरक्षक कुलदीप वघेल एवं आरक्षक महेन्द्र परस्ते की महत्वपूर्ण भूमिका रही है।

वनभूमि में अवैध रूप से चल रहा था मुरम का उत्खनन, कार्यवाही करने पहुंचे रेंजर ने हाईवोल्टेज ड्रामा के चलते नहीं ला सके जेसीवी मशीन और तीन ट्रेक्टर

गुना । वनभूमि से अवैध रूप से चल रहे मुरम उत्खनन का मामला सामने आया है जहां कार्यवाही करने पहुंचे रेंजर ने राजनीतिक दबाव के बाद उत्खनन कर रही एक जेसीबी मशीन और तीन ट्रेक्टरो को नहीं ला सके । सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार बरबटपुरा से रेहाना के बीच 3 किमी की सड़क बन रही है। इसी के लिए वन भूमि से अवैध उत्खनन किया जा रहा था। वन विभाग को इसकी सूचना मिली तो कार्यवाही करने गुना के अलावा फतेहगढ़, बमोरी क्षेत्र का वन अमला मौके पर पहुंच गया।
राजनीतिक दबाव के बाद मामला दबाने में लगा विभाग
शुक्रवार को रेहाना के पास मुरम के अवैध उत्खनन और उसे रोकने के दौरान राजनीतिक दबाब के बाद वन अमले ने मौके से एक जेसीबी मशीन और तीन ट्रेक्टर को छोड़ते हुए मामले पर लीपापोती शुरू कर दी । दरअसल जब विभाग के लोग कार्रवाई कर रहे
थे तभी वहाँ ग्रामीण एकत्रित हो गए । इसके बाद वहां मौजूद लोगों के राजनीतिक दांव-पेंच चालू हो गए । जिसके चलते रेंजर सुधीर शर्मा ने मौके पर उत्खनन कर रहे जेसीबी मशीन और तीन ट्रेक्टर को वहां से नहीं ला सके ।
कार्यवाही के पूर्व नहीं दी पुलिस को सूचना
अवैध उत्खनन की कार्यवाही करने के पूर्व वन अमले द्वारा पुलिस को सूचना नहीं दी गई । इस पूरे मामले पर जब बमोरी थाना प्रभारी विपेंद्र सिंह चौहान से बातचीत की गई तो उन्होंने बताया की 100 डायल द्वारा उन्हें कार्यवाही की सूचना प्राप्त हुई थी 100 डायल के कर्मचारी ने वन विभाग के एक अधिकारी से भी बात कराई थी । लेकिन वन विभाग द्वारा उन्हें कार्यवाही करने की कोई सूचना नहीं दी गई वहीं कुछ समय बाद 100 डायल द्वारा ही उन्हें वापस सूचना मिली कि कार्यवाही समाप्त हो चुकी है ।
अवैध उत्खनन में संलिप्त वन कर्मियों पर नहीं कोई कार्यवाही-
मामले में बीटगार्ड ओर डिप्टी रेंजर की बड़ी लापरवाही सामने आई है । काफी समय से चल रहे उत्खनन की जानकारी उन्होंने विभाग को नहीं भेजी । वहीं सूत्रों से खबर लगी है कि रेंजर के द्वारा की गई कार्यवाही की भनक भी डिप्टी रेंजर ओर बीटगार्ड को नही थी देखना होगा कि अब इन पर क्या विभागीय कार्यवाही की जाएगी ।
मौके पर मौजूद उत्तखन्नकताओ पर नहीं हुई कोई कार्यवाही –
मौके पर रेंजर सुधीर शर्मा के द्वारा वन अमले की मदद से उत्खनन कर रहे एक जेसीबी मशीन और तीन ट्रेक्टर को पकड़ लिया गया था । परंतु उत्खननकताओ पर क्या कार्यवाही की गई यह बताने से वन अमला बचता दिखाई दे रहा है ।
प्रभावी कार्यवाही न होने से टूटा वन अमले का मनोबल –
रेंजर सुधीर शर्मा के द्वारा इतनी संख्या में वन अमले को साथ लेकर दबिश दी गयी एवम जेसीबी मशीन और तीन ट्रेक्टरो मौके पर पकड़ लेने के बाद भी बिना कार्यवाही के छोड़ देने और कार्यवाही के नाम पर लीपा पोती करने के कारण वन अमले को निराशा हाथ लगी एवम राजनैतिक दबाव में काम करने की बात उजागर हो गयी अव वनकर्मी दबी जुबान में बोल रहे है कि जहाँ रेंजर ओर गुना वनमंडल का स्टाफ कार्यवाही नही कर पाया वहाँ बीट में एक सिपाही ओर डिप्टी रेंजर कैसे कार्यवाही करेंगे ।
कार्यवाही में खली वन अमले को महिला वनकर्मियों की कमी –
सूत्रों से खबर मिली है कि वन अमले की टीम में कोई भी महिला वनकर्मी शामिल नही थी जिससे महिलाओं के द्वारा वन कर्मियों का रास्ता रोकने पर उनको हटाने में बड़ी समस्या का सामना करना पड़ा ।
इनका कहना है –
मुझे 100 डायल द्वारा कार्यवाही की सूचना प्राप्त हुई थी एवं वन विभाग के किसी कर्मचारी द्वारा बात भी की गई थी परन्तु कार्यवाही करने के पूर्व कोई सूचना नहीं दी गई एवं बाद में मुझे 100 डायल द्वारा ही बताया गया कि वन अमला कार्यवाही के बाद बापस चला गया है ।
विपेंद्र सिंह चौहान – थाना प्रभारी बमोरी
इनका कहना है –

अवैध उत्खनन मामले में कार्यवाही चल रही है परिस्थितियां अनुकूल ना होने के कारण मौके से जेसीबी और ट्रैक्टर को लाना संभव नहीं हो पाया । कार्यवाही में केवल 10 से 12 वनकर्मी ही गए हुए थे जिनका ग्रामीणों द्वारा घेराव कर लिया गया था ।
सुधीर शर्मा रेंजर गुना
इनका कहना है –

मामला मेरे संज्ञान में नही है आपके द्वारा बताया गया तब पता चला है इस सम्बन्ध में मैं अधिकारियों से चर्चा करूँगा आप गुना डीएफओ से बात कर ले । और जो वन अमले को घेरने बाली बात है तो पुलिस कार्यवाही कराई जाएगी
वाय पी सिंह – सीसीएफ शिवपुरी

घर में घुसकर 12 साल की बच्ची के साथ दो नाबालिग छात्रों ने किया दुष्कर्म

दुष्कर्म के दोनों कथित आरोपियों में से एक कक्षा 9 और दूसरा कक्षा 10 का छात्र है. दोनों दोषी छात्रों की उम्र लगभग 13 और 14 वर्ष बताई जा रही है जबकि पीड़ित लड़की की उम्र 12 वर्ष है.

गाजियाबाद : मोदीनगर थाना क्षेत्र में एक नाबालिग छात्रा के साथ दुष्कर्म का मामला सामने आया है. जानकारी के मुताबिक कक्षा तीन में पढ़ने वाली नाबालिग छात्रा के साथ दो छात्रों के द्वारा रेप की वारदात को अंजाम दिया गया है. हैरत की बात तो यह है कि दुष्कर्म करने वाले दोनों छात्र भी नाबालिग हैं. दुष्कर्म के दोनों कथित आरोपियों में से एक कक्षा 9 और दूसरा कक्षा 10 का छात्र है. दोनों दोषी छात्रों की उम्र लगभग 13 और 14 वर्ष बताई जा रही है जबकि पीड़ित लड़की की उम्र 12 वर्ष है.

पुलिस ने पोक्सो एक्ट में दर्ज किया मुकदमा

घटना की शिकायत पर मोदीनगर पुलिस ने दोनों आरोपी छात्रों को गिरफ्तार कर लिया है और पोक्सो एक्ट में मुकदमा भी दर्ज कर लिया है. पीड़ित छात्रा की मां ने बताया कि वह काम पर गई हुई थी और छात्रा घर पर अकेली थी. तभी पड़ोस में रहने वाले दोनों छात्रों ने छात्रा के साथ घर में घुसकर दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया .

शाम को जब छात्रा की मां काम से घर लौटी तो छात्रा ने सारी आपबीती अपनी मां से बताई. जिसके बाद महिला छात्रा को लेकर मोदीनगर थाने पहुंची और दोनों आरोपी छात्रों के खिलाफ लिखित में सूचना दी.

तहरीर के आधार पर दर्ज हुआ मामला

उधर इस पूरे मामले की जानकारी देते हुए क्षेत्राधिकारी महिपाल सिंह ने बताया कि पीड़ित परिवार द्वारा तहरीर दी गई है. तहरीर के आधार पर मामला दर्ज करते हुए दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है और अभी गहनता से जांच कराई जा रही है.

शादी समारोह में गई थी 3 साल की बच्ची, मैरिज हॉल के बाथरूम में रेप

उत्तर प्रदेश : मैनपुरी जिले से एक दिल दहला देने वाली वारदात सामने आई है. यहां एक मैरिज हॉल के बाथरूम में तीन साल की मासूम के साथ अज्ञात युवक ने दुष्कर्म की वारदात को अंजाम दिया है.ये घटना मैनपुरी जिले के भोगांव इलाके में बुधवार देर रात हुई. बताया जा रहा है कि बच्ची अपने माता-पिता के साथ एक शादी में शामिल होने आई थी. वह शादी के माहौल में आसपास खेल रही थी और फिर अचानक लापता हो गई.माता-पिता ने उसकी गैरमौजूदगी पर ध्यान नहीं दिया. शादी में शामिल होने आई एक महिला मेहमान जब वॉशरूम गई तो उसने देखा कि बच्ची बेसुध होकर फर्श पर पड़ी हुई है. बाद में उसने पुलिस को बताया कि उसने वॉशरूम से एक युवक को बाहर निकलते हुए देखा था. मैनपुरी के पुलिस अधीक्षक (एसपी) अजय कुमार ने कहा कि बच्ची की हालत स्थिर है और मेडिकल जांच में दुष्कर्म की पुष्टि हुई है. उन्होंने कहा कि आईपीसी की धारा 376 (दुष्कर्म ) और पॉक्सो एक्ट के तहत एक प्राथमिकी दर्ज की गई है. वहीं पुलिस ने एक दर्जन से अधिक व्यक्तियों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया है. एसपी ने आगे कहा कि हालांकि मैरिज हॉल के अंदर आठ सीसीटीवी कैमरे लगाए गए थे, लेकिन रिकॉर्डिंग में तकनीकी समस्या के कारण फुटेज उपलब्ध नहीं है. उन्होंने कहा, ‘हमने इस मामले की जांच के लिए चार टीमें गठित की हैं और आरोपी को पकड़ने के लिए महिला के बताए गए हुलिए के आधार पर स्केच तैयार किया गया है.’ संदिग्ध के बारे में सुराग पाने के लिए पुलिस समारोह के दौरान एक वीडियोग्राफर द्वारा रिकॉर्ड किए गए वीडियो भी देख रही है.

दलित युवती से बंदूक की नोक पर गैंगरेप, BJP नेता पर आरोप

गुजरात : राजकोट में एक दलित युवती का अपहरण कर बंदूक की नोक पर रेप की वारदात सामने आई है. युवती ने रेप का आरोप भाजपा के एक नेता पर लगाया है. पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ एट्रोसिटी एक्ट और अन्य संबंधित धाराओं में मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है. मामला राजकोट के कोटड़ा सांगणी थाना क्षेत्र का है. कोटड़ा सांगणी थाना क्षेत्र की एक 19 साल की लड़की ने आरोप लगाया है कि कार से अपहरण कर बंदूक की नोक पर उसका रेप किया गया. युवती ने आरोप लगाया कि रेप की इस वारादात को सरपंच के बेटे और भाजपा के पूर्व महामंत्री अमित पाडारिया समेत तीन लोगों ने अंजाम दिया. युवती की शिकायत के आधार पर पुलिस ने अमित पाडारिया, शांति पाडारिया और विपुल सेखड़ा के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है. आरोपियों के खिलाफ आईपीसी की धारा 363, 376 (डी), 376 (2) (N), 504, 506 (2), 114 के साथ जीपी एक्ट की धारा 37(1), 135 और एट्रोसिटी एक्ट की धारा 3 (1) W, 3 (2) और आर्म्स एक्ट की धारा 25 (1) बीए के तहत मामला दर्ज किया गया है. इस संबंध में राजकोट के पुलिस अधीक्षक (एसपी) बलराम मीणा ने बताया कि पीड़िता का मेडिकल परीक्षण कराया गया है, जिसमें सामूहिक दुष्कर्म की पुष्टि हुई है. उन्होंने कहा कि पीड़िता की शिकायत पर मामला दर्ज कर जांच की जा रही है. एसपी ने कहा कि एक आरोपी अमित पाडारिया भाजपा का पूर्व महामंत्री है. उसकी मां गांव की सरपंच हैं. उन्होंने कहा कि गांव और आसपास के लोगों ने बताया है कि अमित उन्हें धमकाता रहता था. अन्य दोनों आरोपी उसके दोस्त हैं. पुलिस अधीक्षक ने बताया कि तीनों की गिरफ्तारी के लिए टीमें गठित कर दी गई हैं. उन्होंने आश्वस्त किया कि तीनों आरोपियों को जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा. वहीं, भाजपा नेता पर लगे आरोपों के बाद सूबे में सियासी हलचल बढ़ गई है. दलित नेता जिग्नेश मेवाणी ने ट्वीट कर भाजपा पर निशाना साधा है. मेवाणी ने मुख्यमंत्री विजय रुपाणी से सवाल किया है कि क्या ये वही गुजरात है, जहां गांधीजी का जन्म हुआ? क्या इसी ‘गुजरात मॉडल’ के नाम पर भाजपा वाहवाही लूटती है?

हिंसा के बाद दिल्ली में पटरी पर लौटती जिंदगी

दिल्ली : हिंसा के खौफनाक चक्र के बाद राजधानी दिल्ली में अब जिंदगी आहिस्ता-आहिस्ता कदम आगे बढ़ा रही है. दुकानें खुलने लगी हैं, गाड़ियां निकलने लगी हैं. बाजार में चहल-पहल देखी जा रही है. दिल्ली पुलिस के मुताबिक दिल्ली हिंसा में मरने वालों की संख्या 41 तक पहुंच गई है. हिंसा की किसी भी साजिश को कुचलने के लिए दिल्ली पुलिस और पैरा मिलिट्री फोर्स के जवानों ने रात भर हिंसा ग्रस्त इलाको में गश्त किया. मौजपुर, करावल नगर, भजनपुरा, सीलमपुर और जाफराबाद जैसे इलाकों में पुलिस की भारी बंदोबश्त है. पुलिस एहतियातन लोगों से सावधानी बरतने की बात कह रही है और अफवाहों से बचने की अपील कर रही है. जाफराबाद से मौजपुर जाने वाली सड़क पर ट्रैफिक सामान्य है. ई-रिक्शा चल रहे हैं. लेकिन दुकानें बंद हैं. स्थानीय लोगों को इससे परेशानी हो रही है. इन्हें दूध, ब्रेड और अंडों की जरूरत है. लोगों ने मांग की है कि दवा की दुकानें भी खुलनी चाहिए. हालांकि सड़कों पर लोग बाहर निकल रहे हैं. इन इलाकों में अभी भी पुलिस की तैनाती है. बाइक से लोग दूध की सप्लाई कर रहे हैं. भजनपुरा में भी स्थिति सामान्य हो रही है. भजनपुरा का पेट्रोल पंप पूरी तरह से तबाह हो गया है. भजनपुरा में ऑफिस नहीं खुले हैं. हालांकि सड़कों पर गाड़ियों की आवाजाही हो रही है, लेकिन दफ्तर बंद है. भजनपुरा में हिंसा की वजह से रोजगार पर भी असर पड़ा है. कई दुकान और फैक्ट्रियां बंद हैं.
हिंसा से प्रभावित मौजपुर में स्थिति तेजी से सामान्य हो रही है. शनिवार सुबह जब आजतक संवाददाता मौजपुर चौक पहुंचे तो ट्रैफिक मूवमेंट लगभग सामान्य थी. रेड लाइट पर गाड़ियों की कतारें थी, लोग दफ्तर के लिए निकल रहे थे. आज तक ने मौके पर मौजूद लोगों से भी बात की. उन्होंने कहा कि स्थिति अब काफी हद तक कंट्रोल हो चुकी है. लोग अब घरों से बिना डर के निकल रहे हैं. दुकानें भी खुलने लगी हैं. दवा दुकानों के खुलने का लोगों को इंतजार था. अब इलाके के मेडिकल स्टोर्स भी खुल गए हैं. दिल्ली हिंसा में सब कुछ गंवा चुके लोगों को दिल्ली सरकार ने मदद देनी शुरू कर दी है. इसके लिए सरकार ने विज्ञापन जारी किया है और पीड़ितों को फॉर्म भरकर स्थानीय एसडीएम ऑफिस में जमा करने को कहा है. इस फॉर्म के आधार पर लोगों को मदद दी जाएगी. पुलिस का कहना है कि उत्तर-पूर्वी दिल्ली की इस हिंसा में 200 से ज्यादा लोग घायल हुए हैं. दिल्ली पुलिस के मुताबिक उत्तर-पूर्वी दिल्ली की इस हिंसा में अबतक 123 एफआईआर दर्ज किया गया है. इस मामले में पुलिस ने अबतक 100 लोगों को गिरफ्तार किया है, जबकि 530 लोगों को हिरासत में लिया गया है. दिल्ली पुलिस शांति बहाली के लिए प्रभावित इलाकों में अमन कमेटी की मीटिंग करवा रही है. पुलिस की नजर सोशल मीडिया के मैसेज पर है. फेक मैसेज फैलाने वालों को पुलिस ने कहा है कि उनके खिलाफ बेहद सख्ती से कार्रवाई की जाएगी. फेक मैसेज के खिलाफ साइबर सेल में कोई भी शिकायत कर सकता है.

मोटरसाइकिल लेकर स्मैक बेचने खड़ा था आरोपी , पुलिस को सूचना लगते ही धरदबोचा

गुना । शुक्रवार को चाचौड़ा पुलिस ने एनडीपीएस एक्ट के तहत कार्यवाही करते हुए राजस्थान निवासी विष्णु पुत्र रामप्रसाद मीना को 12 ग्राम स्मैक के साथ  गिरफ्तार किया है । मिली जानकारी के अनुसार बीनागंज चौकी प्रभारी गजेन्द्र सिंह बुन्देला को मुखबिर द्वारा सूचना लगी  बीनागंज रेलवे क्रॉसिंग के पास एक व्यक्ति मोटर सायकल से स्मैक बेचने के उद्देश्य से खड़ा हुआ है। मुखविर द्वारा बताये हुलिये के आधार पर उस व्यक्ति को पकड़कर उसकी तलाशी लेने पर उसकी पेंट की जेब से एक पुड़िया में करीबन 12 ग्राम स्मैक मिली जिसकी कीमती करीबन 1 लाख 20 हजार रूपये बताई जा रही है । पुलिस द्वारा आरोपी  विष्णु मीना को फौरन गिरफ्तार कर उसके पास मिली स्मैक एवं मोटर सायकल को विधिवत् जप्त कर आरोपी केे खिलाफ थाना चांचौड़ा में एनडीपीएस एक्ट का मामला पंजीवद्ध कर उसे न्यायालय पेश किया । 

दोलोत्सव धुलेंडी 11 मार्च तक मनाया जाएगा फाग महोत्सव,सामाजिक समरसता का प्रतीक है फाग महोत्सव – कैलाश मंथन

गुना। 40 दिवसीय फाग महोत्सव भारतीय संस्कृति में सामाजिक समरसता का प्रतीक है। अंतर्राष्ट्रीय पुष्टिमार्गीय वैष्णव परिषद के प्रांतीय प्रचार प्रमुख कैलाश मंथन ने मालवा अंचल में चल रहे फाग महोत्सव के बारे में कहा कि समाज में अनेकों जातियों के रूप में विभिन्न रंग दिखाई देते हैं। होली महोत्सव उन सभी रंगों का एकीकरण है। सनातन हिन्दू संस्कृति में विभिन्न सामाजिक रंगों से होली महोत्सव सराबोर रहता है। परिषद के जिला प्रमुख कैलाश मंथन ने बताया अंचल के एक सैकड़ा से अधिक ग्रामों में फाग महोत्सव पर श्री वल्लभ कुल गोस्वामी आचार्यों के सानिध्य में श्री ठाकुर जी से लाड़ लड़ाया जाता है। श्री मंथन ने बताया कि द्वापर युग से चली आ रही परंपरा के अनुसार श्रीमद् वल्लभाचार्य के समय से आचार्यों ने होली महोत्सव पर 40 दिवसीय बसंत पंचमी से धुलेंडी तक विशेष मनोरथ फाग आंनदोत्सव की परंपरा प्रारंभ की। ब्रज प्रदेश की इस परंपरा के तहत मालवांचल में श्रीकृष्ण के भक्त होली के रसियों एवं भक्त कवियों के पदों का गायन कर अबीर, गुलाल, पुष्पों से श्री ठाकुर जी के साथ होली उत्सव का आनंद लेते हैं । परिषद के प्रांतीय प्रचार प्रमुख कैलाश मंथन ने बताया कि बमोरी-गुना अंचल के गुना, अरन्यापार, मगरोडा, आारी, खासखेड़ा, हनुमतपुरा, बमोरी रतनपुरा, बिलोदा, विशनपुरा, मगरोडा, भिडरा, बिशनपुरा, भौंरा, परवाह, बनेह, छबड़ा, लालोनी, बाघेरी, पांचौरा, खुटियारी, ऊमरी सहित एक सैकड़ा से अधिक गांवों में वल्लभकुल आचार्यों की उपस्थिति में हजारों वैष्णव होली उत्सव पर भक्ति के रंगों में डूबे। इस अवसर पर अहमदाबाद से पधारे महोदय श्री दर्शन कुमार जी (गोवर्धनेश जी) ने हजारों वैष्णवों को भक्तिरस का पान कराते  भगवान श्रीकृष्ण के साथ होली खेली। वहीं अंचल के ग्राम परवाह पुष्टिभक्ति केंद्र पर श्री गोपाल लाल जी महाराजश्री सपरिवार वैष्णवों के बीच उपस्थित रहे। महोदयश्री शरद कुमार जी ने रत्नागिरी, परवाह एवं क्षेत्र में वैष्णवों के साथ होली महोत्सव का आनंद लिया। महाराजश्री विनय कुमार जी ने मगरोडा, बमोरी एवं नौनपुरा में फाग महोत्सव के दौरान श्री ठाकुर जी के साथ होली खेली। अहमदाबाद के गोस्वामी पुरूषोत्तम लाल जी महाराजश्री ने खुटियारी, बिलोदा, मगरोडा, पांचौरा, लालोनी एवं बड़ेरी आदि गांव में सैकड़ों वैष्णवों के बीच होली महोत्सव का आनंद लिया।
29 फरवरी से 5 मार्च तक अहमदाबाद के महोदयश्री मधुरम कुमार बाबा अंचल के गुना, परवाह, मगरोडा, पाचौरा, लालोनी आदि ग्रामों में भक्ति रस की गंगा बहाकर होली का आनंद लेंगे। अंतर्राष्ट्रीय पुष्टिमार्गीय वैष्णव परिषद के प्रांतीय प्रचार प्रमुख कैलाश मंथन के मुताबिक मध्यभारत मालवा, बुंदेलखंड अंचल के पुष्टि भक्ति केंद्रों पर बसंत पंचमी से चल रहे 40 दिवसीय होली-फाग महोत्सव का समापन दोलोत्सव के साथ 11 मार्च को संपन्न होगा।