शिक्षकों ने प्रदर्शन कर अपनी लंबित मांगों को लेकर जिला प्रशासन को सौंपा 15 सूत्रीय मांगपत्र

गुना । समग्र शिक्षक संघ के प्रांतीय आह्वान पर 15 सूत्रीय लंबित मांगों को लेकर शिक्षकों ने कलेक्ट्रेट में मुख्यमंत्री और मुख्य सचिव मध्यप्रदेश शासन के नाम का जिला कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा। समग्र शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष राधेश्याम शर्मा ने बताया कि शिक्षक 35 से 40 साल से एक ही पद पर कार्य करते हुए सेवानिवृत्त हो रहे हैं लेकिन उन्हें पदोन्नति नहीं दी गई,जबकि उनसे कनिष्ठ नवीन शिक्षक संवर्ग को पदोन्नति मिल चुकी है, मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने 23 दिसंबर 2017 को नसरुल्लागंज में आयोजित समग्र शिक्षक संघ के सम्मेलन में वरिष्ठ शिक्षकों को योग्यता अनुसार पदोन्नति का पदनाम देने की घोषणा की थी, मांग के गैर वित्तीय होने के बावजूद आला अफसरों की मनमानी के कारण 3 साल बाद भी घोषणा पर अमल नहीं हुआ, जिससे शिक्षकों में भारी आक्रोश व्याप्त है, शिक्षकों की अन्य लंबित मांगों में कोरॉना काल में रोकी गई वेतनवृद्धि बहाल करते हुए लंबित 9% महंगाई भत्ते का लाभ निर्धारित तिथि से लागू करने,शिक्षक संवर्ग को राज्य शासन के अन्य विभागों कर्मचारियों की भांति 10,20,30 वर्ष की सेवा पर समयमान वेतनमान का लाभ प्रदान कर सहायक शिक्षकों को 30 वर्ष की सेवा पर 4200 के स्थान पर 5400 ग्रेड पे का लाभ 1-7-14 से देने, व अन्य विभाग के कर्मचारियों के समान शिक्षक/ व्याख्याता संवर्ग को भी 300 दिवस के अर्जित अवकाश की पात्रता प्रदान कर अवकाश स्वीकृति के अधिकार जिला कलेक्टर के स्थान पर जिला शिक्षा अधिकारी/ संकुल प्राचार्य को देने, सातवें वेतनमान के अनुसार बीमा कटौती गृह भाड़ा भत्त्ता स्वीकृति के आदेश जारी करने, प्रदेश के कर्मचारियों को केंद्रीय कर्मचारियों की भांति स्वस्थ्य बीमा योजना लागू करने,शिक्षकों को गैर शैक्षणिक कार्यो से शिक्षकों को पूरी तरह मुक्त रखने, 55 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के शिक्षकों को जोखिम वाले कार्यों के साथ साथ चुनाव ड्यूटी तथा स्थानांतरण से पूरी तरह मुक्त रखने,दक्षता परीक्षा के आधार पर शिक्षकों की सेवाएं समाप्त करने की नियम विरूध्द परम्परा को तत्काल समाप्त करने,सी एम् राइस तथा एक शाला एक परिसर जैसी योजनाओ के नाम पर सरकारी स्कूलों को बन्द करने की प्रक्रिया पर रोक लगाने  नवीन शिक्षक संवर्ग अध्यापक संवर्ग को पुरानी पेंशन बहाली करने जैसी मांगे शामिल रही, ज्ञापन में यह भी उल्लेख किया गया यदि शासन 15 दिन में शिक्षकों की मांगों पर विचार नहीं करता है तो शिक्षक प्रांतव्यापी अनिश्चितकालीन धरना आंदोलन के लिए विवश होगा, ज्ञापन के समय  समग्र शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष राधेश्याम शर्मा के नेतृत्व में 15 सूत्रीय ज्ञापन में यशवंत शर्मा आलोक नायक अनिल भार्गव सुखराम प्रजापति शाकिर हुसैन रामकृष्ण शर्मा एसएस परिहार जय नारायण मीणा देवेंद्र सुमन दिनेश चतुर्वेदी राजा राम राठौर रईस खान रणवीर सिंह कुशवाह हरि ओम ब्रहम भट्ट नरेंद्र कुमार श्रीवास्तव सुरेश शर्मा शिवचरण नाथ अवनीश श्रीवास्तव मेहरबान सिंह धाकड़ राजेंद्र रघुवंशी मदन मोहन वशिष्ट केशव नाथ नेम उदय कांत भारद्वाज नरेंद्र भारद्वाज देवेंद्र श्रीवास्तव पुष्पेंद्र सिंह रघुवंशी धर्म सिंह यादव सहित जिले के शिक्षक  एवं अध्यापको ने उपस्थित होकर ज्ञापन सौंप कर समर्थन दिया।

Leave a Comment