रायफल लेकर फरार आरक्षक हुआ बर्खास्त, स्वंय को बाघी घोषित कर सोशल मीडिया पर किया था वीडियो वायरल

गुना । कलेक्ट्रेट गुना के ईव्हीएम कक्ष की सुरक्षा हेतु प्रधान आरक्षक भगवान सिंह, प्रधान आरक्षक सीताराम वर्मा, आरक्षक कैलाश मोगिया एवं आरक्षक नीरज जोशी उर्फ टोनी को लगाया गया था, दिनांक 5 एवं 6 फरवरी 2021 की रात्रि मे उक्त गार्ड को चैक करने पर सभी कर्मचारी अनुपस्थित पाये गये थे । इस ईव्हीएम सुरक्षा ड्यूटी मे तैनात आरक्षक नीरज जोशी द्वारा शासकीय इंसास रायफल से किसी अज्ञात स्थान पर जाकर हवाई फायर किये गये और स्वंय को बाघी घोषित कर तत्संबंधी वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल किया गया था । पुलिस अधीक्षक ने उक्त मामले पर संज्ञान लेते हुये उक्त कर्मचारियों के विरुद्ध विभागीय कार्यवाही प्रचलन मे ली जाकर पुलिस विभाग के राजपत्रित अधिकारी को जांच के निर्देश दिये गये थे । प्रकरण की संपूर्ण जांच मे पाया गया कि प्रधान आरक्षक भगवान सिंह, प्रधान आरक्षक सीताराम वर्मा एवं आरक्षक कैलाश मोगिया बिना कोई सूचना दिये ईव्हीएम सुरक्षा गार्ड ड्यूटी से अनाधिकृत रुप से अनुपस्थित थे एवं नीरज जोशी द्वारा ईव्हीएम सुरक्षा गार्ड ड्यूटी से बिना कोई सूचना दिये अनाधिकृत रुप से अनुपस्थित होकर उसे सुरक्षा हेतु प्रदाय की गई इंसास रायफल से किसी अज्ञात स्थान पर जाकर हवाई फायर करना व स्वंय को बाघी घोषित कर तत्संबंधी वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल किये गये थे । राजपत्रित अधिकारी द्वारा की गई जांच मे आरक्षक पर लगे सभी आरोप सिद्ध पाये गये तथा आरक्षक को अपना पक्ष रखने का अवसर प्रदान किया गया लेकिन आरक्षक अपना पक्ष रखने हेतु उपस्थित नही हुआ । आरक्षक नीरज जोशी का यह कृत्य अत्यंत ही गंभीर प्रकृत्ति का होकर अक्षम्य है और आरक्षक के इस कृत्य से पुलिस विभाग की अनुशासित, निष्ठावान छवि प्रभावित हुई है । आरक्षक द्वारा उसे पुलिस कर्मचारी के रुप मे प्रदत्त शक्तियों का दुरुपयोग किया जाना उसकी पुलिस विभाग के प्रति कर्तव्यनिष्ठा पर प्रश्नचिह्न होकर आरक्षक नीरज जोशी उर्फ टोनी के पुलिस विभाग मे बने रहने योग्य नही होने पर पुलिस अधीक्षक राजीव कुमार मिश्रा द्वारा आज 13 जनवरी 2022 को आरक्षक नीरज जोशी को सेवा से बर्खास्त किया गया है तथा प्रधान आरक्षक भगवान सिंह, प्रधान आरक्षक सीताराम वर्मा एवं आरक्षक कैलाश मोगिया के ईव्हीएम सुरक्षा ड्यूटी से अनाधिकृत रुप से अनुपस्थित पाये जाने पर तीनो की एक वेतन बृद्धि संचयी रुप से रोके जाने के दण्ड से दण्डित किया गया है ।

Leave a Comment