अंधे कत्ल का हुआ पर्दाफाश, बेटा ही निकला अपने पिता का हत्यारा

गुना ।  जिले के म्याना थाना क्षैत्रांतर्गत 2 अगस्त को ग्राम सुताई मे डाँ. सचिन सोनी एवं डाँ अनुपम चौधरी के कृषिफार्म पर बनी टपरिया मे उनके बटियादार भागीरथ कुशवाह की खून से सनी लाश पडी होने की सूचना म्याना पुलिस को मिली थाना प्रभारी म्याना तत्काल घटना स्थल पर पहुंचे एवं घटना से पुलिस अधीक्षक अवगत कराया। उक्त घटना पर से म्याना थानेमे पंजीबद्ध कर विवेचना मे लिया गया। म्याना थाना प्रभारी आमोद सिंह राठौर द्वारा लाश एवं घटना स्थल का बारीकी से निरीक्षण कर आवश्यक साक्ष्य जुटाये गये। प्रारंभिक परीक्षण मे मृतक के सिर मे गंभीर चोट पहुंचाकर हत्या करना पाया गया। पुलिस द्वारा मृतक का पीएम कराया जाकर मामले की विवेचना प्रारंभ की गई । हत्या के इस प्रकरण मे पुलिस द्वारा गहन विवेचना की  गई एवं संदेह के दायरे मे आने वाले सभी व्यक्तियों से कडी पूंछताछ की गई। पुलिस द्वारा की गई पूंछताछ मे पुलिस के शक की सुई मृतक के बडे पुत्र भोला कुशवाह पर गई और विगत 26 अक्टुबर को म्याना थाना प्रभारी आमोद सिंह राठौर एवं उनकी टीम द्वारा भोला कुशवाह को हिरासत मे लेकर हत्या के संबंध मे पूंछताछ की गई तो वह पहले तो पुलिस को गुमराह करता रहा लेकिन जब पुलिस द्वारा उसे घटना से संबंधित उसके कुछ साक्ष्य दिखाये गये तो वह टूट गया और अपने पिता मृतक भागीरथ कुशवाह की हत्या का सारा राज उगल दिया जिसने बताया कि उसके मृतक पिता द्वारा 30 जुलाई को उसकी पत्नि का हाथ पकडकर गलत काम करने के लिये बोला गया था यह बात जब पत्नि द्वारा मुझे बताई गई तो उसे अपने पिता पर बहुत गुस्सा आया और उसी समय अपने पिता को  जान से मारने की सोच ली थी। और वह 2 अगस्त की सुबह सकतपुर से ग्राम सुताई स्थित बंटाई वाले खेत  पर पहुंचा जहां उसके पिता टपरिया मे रोटी बना रहे थे मैने टपरिया के बाहर रखी  कुल्हाडी को उठाकर पिता के सिर मे उल्टी कुल्हाडी मारी जिससे पिता की मृत्यु हो गई और इसके बाद वहां से वह अपने घर ग्राम सकतपुर आ गया था।

Leave a Comment